देशव्यापार

निवेश बढ़ाने के लिये की गई कॉरपोरेट कर में कटौती, दिखने लगा है शुरुआती सुधार: सीतारमण

नयी दिल्ली. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने सोमवार को कहा कि कॉरपोरेट कर में कटौती का मकसद नया निवेश आर्किषत करना और रोजगार पैदा करना है. उन्होंने कहा कि इस दिशा में शुरुआती संकेत मिलने लगे हैं. कई विदेशी और घरेलू कंपनियों ने निवेश में रुचि दिखाई है.

लोकसभा में कराधान अधिनियम संशोधन विधेयक, 2019 पर चर्चा का जवाब देते हुए सीतारमण ने कहा कि प्रत्यक्ष कर संग्रह में कोई कमी नहीं आई है. उन्होंने कहा कि नवंबर तक सकल प्रत्यक्ष कर संग्रह पांच प्रतिशत बढ़ा है. उन्होंने इन आशंकाओं को खारिज किया कि कॉरपोरेट कर की दर में कटौती के बाद राजस्व संग्रह प्रभावित होगा.

अर्थव्यवस्था में सुस्ती को लेकर ंिचता के बीच वित्त मंत्री ने भरोसा दिलाया कि सरकार आगे बढ़कर अर्थव्यवस्था के समक्ष आ रही चुनौतियों से निपट रही है. उन्होंने स्पष्ट किया कि कर दरों में कटौती का मकसद कुछ कंपनियों को लाभ पहुंचाना नहीं है. इसके पीछे मकसद पूरे उद्योग जगत को फायदा पहुंचाना है. वित्त मंत्री ने कहा कि लोग सरकार से नया निवेश करने के लिए संपर्क कर रहे हैं. इससे देश में और रोजगार पैदा करने में मदद मिलेगी और भविष्य में देश को विनिर्माण हब बनाया जा सकेगा.

उन्होंने कहा कि कॉरपोरेट कर की दर में कटौती का राजस्व संग्रह पर प्रभाव 1.45 लाख करोड़ रुपये का होगा लेकिन इससे एक साल के अंदर और अधिक कोष लाने में मदद मिलेगी. चर्चा के बाद लोकसभा में विधेयक ध्वनि मत से पारित हो गया. इसने अध्यादेश का स्थान लिया है. उन्होंने कहा कि वास्तव में नवंबर तक सकल प्रत्यक्ष कर संग्रह में पांच प्रतिशत का इजाफा हुआ है. वित्त मंत्री ने कहा कि पिछले वर्षों को देखा जाए तो वित्त वर्ष की आखिरी तिमाही में प्रत्यक्ष कर संग्रह अधिकतम रहता है.

नवंबर में जीएसटी संग्रह का आंकड़ा एक लाख करोड़ रुपये को पार कर गया है. एक जुलाई, 2017 को जीएसटी के अस्तित्व में आने के बाद यह तीसरा सबसे ऊंचा मासिक संग्रह का आंकड़ा है. उन्होंने अर्थव्यवस्था में नरमी की आशंका को खारिज करते हुए कहा कि यह पहली बार नहीं है जबकि सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) की वृद्धि दर 4.5 प्रतिशत पर आई है. उन्होंने कहा कि वित्त वर्ष 2012-13 में भी जीडीपी की वृद्धि दर पांच प्रतिशत से कम रही थी, लेकिन बाद में यह बढ़ गई थी.

उन्होंने कहा कि इसके ऊपर की ओर बढ़ने की संभावना है. उन्होंने कहा कि सरकार आगे बढ़कर अर्थव्यवस्था के समक्ष आ रही चुनौतियों से निपट रही है. वित्त मंत्री ने इस धारणा को भी खारिज किया कि सरकार विशेषज्ञों की नहीं सुनती. उन्होंने कहा कि जुलाई में अपना पहला बजट पेश करने से पहले वह दो पूर्व वित्त मंत्रियों प्रणब मुखर्जी और मनमोहन ंिसह से मिली थीं. सीतारमण ने कहा कि वह अर्थशास्त्रियों, उद्योगपतियों और अन्य अंशधारकों से भी मिलती रहती हैं और उनसे सुझाव लेती हैं.

यह पूछे जाने पर कि सरकार ने मांग बढ़ाने के लिए व्यक्तिगत आयकर की दर में कटौती क्यों नहीं की है, सीतारमण ने कहा कि व्यक्तिगत लोगों को कर लाभ की समय-समय पर समीक्षा की जाती रही है. सरकार इस बारे में उचित समय पर फैसला लेगी. उन्होंने पूर्ववर्ती संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) सरकार पर सार्वजनिक क्षेत्र की दूरसंचार कंपनी बीएसएनएल के साथ ‘सौतेली मां’ जैसे बर्ताव का आरोप लगाया. उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) सरकार ने सार्वजनिक क्षेत्र की दूरसंचार कंपनी के रणनीतिक महत्व को मान्यता दी है.

अधीर रंजन ने निर्मला को बोला ‘निर्बला, वित्त मंत्री बोलीं: भाजपा में हर महिला है ‘सबला’
नयी दिल्ली. लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने अर्थव्यवस्था की स्थिति को लेकर वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण पर निशाना साधते हुए उन्हें ‘निर्बला’ करार दिया जिस पर सत्ता पक्ष के सदस्यों खासकर वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर ने कड़ी आपत्ति जताते हुए कहा कि चौधरी को इसके लिए खेद प्रकट करना चाहिए. वित्त मंत्री सीतारमण ने कांग्रेस नेता पर पलटवार करते हुए कहा कि भाजपा में हर महिला ‘सबला’ है.

कार्पोरेट कर में कटौती से जुड़े संशोधन वाले ‘कराधान विधि (संशोधन) विधेयक 2019’ पर लोकसभा में चर्चा के दौरान चौधरी ने कहा कि वह वित्त मंत्री का सम्मान करते हैं, लेकिन ऐसा लगता है कि उन्हें रोका जा रहा है और ऐसे में उन्हें निर्मला नहीं, ‘निर्बला’ कहा जा सकता है. इस पर आपत्ति जताते हुए ठाकुर ने कहा कि अधीर रंजन का ‘निर्बला’ कहना अनुचित है और उन्हें खेद प्रकट करना चाहिए.

बाद में चर्चा का जवाब देते हुए वित्त मंत्री ने कहा कि मोदी सरकार में ही दो महिलाएं सुरक्षा मामलों की कैबिनेट समिति में रहीं. इस सरकार में कई महिलाओं को कैबिनेट मंत्री बनाया गया. भाजपा में हर महिला ‘सबला’ है. चौधरी ने कहा कि उनकी बात का गलत मतलब निकाला जा रहा है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close