व्यापार

स्पेक्ट्रम नीलामी: दूरसंचार कंपनियों ने नीलामी पूर्व सम्मेलन में भाग लिया

नयी दिल्ली. रिलायंस जियो, भारती एयरटेल और वोडाफोन आइडिया जैसी प्रमुख दूरसंचार कंपनियों ने मंगलवार को स्पेक्ट्रम नीलामी पूर्व सम्मेलन में भाग लिया और दूरसंचार विभाग ने उनसे 15 जनवरी तक नियमों और प्रक्रियाओं के बारे में लिखित रूप से सवाल पूछने के लिए कहा है.

उद्योग से जुड़े सूत्रों ने यह जानकारी दी. उन्होंने बताया कि नीलामी पूर्व सम्मेलन के दौरान परिचालकों ने अग्रिम जमाओं और रोल-आउट दायित्यों जैसे पहलुओं पर सवाल पूछे. दूरसंचार विभाग के सूत्रों ने कहा कि जियो, एयरटेल और वोडाफोन आइडिया सहित दूरसंचार कंपनियों ने मंगलवार को नीलामी पूर्व सम्मेलन में भाग लिया. विभाग ने अब परिचालकों से 15 जनवरी तक अपने सवाल लिखित रूप से भेजने के लिए कहा है.

डॉट ने पहले ही स्पेक्ट्रम नीलामी के लिए सात बैंड – 700, 800, 900, 1800, 2100, 2300 और 2500 मेगा हर्ट्स बैंड में आवेदन करने के लिए एक नोटिस जारी किया है और बोली एक मार्च से शुरू होने वाली है. पिछले महीने केंद्रीय मंत्रिमंडल ने आधार मूल्य पर 3.92 लाख करोड़ रुपये मूल्य के स्पेक्ट्रम की नीलामी के प्रस्ताव को मंजूरी दी थी.

दूरसंचार कंपनियों को नीलामी में भाग लेने के लिए पांच फरवरी तक अपना आवेदन जमा करना होगा. बीएनपी परिबास ने पिछले हफ्ते कहा था कि भारत में स्पेक्ट्रम नीलामी ऐसे बाजार में बदल गई, जहां एक खरीदार है और इसमें स्पेक्ट्रम के लिए परिचालकों के बीच ‘‘न्यूनतम प्रतिस्पर्धा’’ देखने को मिल सकती है. परिचालक खत्म हो रहे स्पेक्ट्रम के नवीनीकरण कराने के जगह अपने धन का सर्वोत्तम मूल्य पाने पर जोर देंगे.

स्पेक्ट्रम नीलामी के लिए उलटी गिनती शुरू होने के बीच आईसीआईसीआई सिक्योरिटीज ने कहा कि स्पेक्ट्रम की अंतिम कीमत आरक्षित मूल्य के बराबर होगी, क्योंकि रोडियोवेव की पर्याप्त आपूर्ति है और खत्म हो रहे रेडियोवेव की सीमित मांग रहने का अनुमान है. दूरसंचार उद्योग विशेषज्ञों का मानना है कि आगामी नीलामी में आक्रामक ढंग से बोली नहीं लगाई जाएगी और इसमें वृद्धि की जगह उद्योग की निरंतरता बनाए रखने पर अधिक जोर दिया जाएगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close