नागरिकता संशोधन बिल

दिल्ली हिंसा: शरद पवार का मोदी सरकार पर हमला, बोले- चुनाव नहीं जीत सके तो समाज को बांटने की कोशिश

मुम्बई. नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) को लेकर दिल्ली में हुई हिंसा के बाद विपक्ष भाजपा समेत राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) को लगातार निशाने पर ले रहा है. राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के मुखिया शरद पवार ने मुंबई में एक कार्यक्रम के दौरान दिल्ली हिंसा के लिए केंद्र सरकार को जिम्मेदार ठहराया. पूर्व केंद्रीय मंत्री ने आरोप लगाया कि सत्तारूढ़ बीजेपी दिल्ली में विधानसभा चुनाव हारने के बाद विभाजनकारी राजनीति कर रही है.

पवार ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर दिल्ली विधानसभा चुनाव के दौरान उनके भाषणों के लिए निशाना साधा. पवार ने कहा कि संविधान के अनुसार जनप्रतिनिधि और सत्तारूढ़ दल दिल्ली में कानून व्यवस्था की स्थिति के लिए जिम्मेदार नहीं है. यह जिम्मेदारी केंद्र सरकार की है, इसलिए दिल्ली में जो कुछ हो रहा है उसकी 100 फीसदी जिम्मेदारी केंद्र सरकार की है, क्योंकि कानून व्यवस्था के लिए वही जिम्मेदार है.

पवार ने कहा कि पिछले कुछ दिनों से दिल्ली जल रही है. केंद्र में शासन कर रही पार्टी दिल्ली विधानसभा चुनाव नहीं जीत सकी तो सांप्रदायिकता को बढ़ावा देकर समाज को बांट दिया गया. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री, गृहमंत्री और अन्य केंद्रीय मंत्रियों के चुनाव प्रचार का लक्ष्य समाज में दरार पैदा करना तथा धार्मिक भावनाओं को आहत करना था. पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा कि देश का प्रधानमंत्री सभी धर्मों का, लोगों का और राज्यों का होता है. वह पूरे देश का होता है.

ऐसे पद पर आसीन व्यक्ति का धार्मिक भेदभाव करने वाली बयानबाजी करना चिंताजनक बात है. उन्होंने कहा कि गृहमंत्री अमित शाह एवं अन्य केंद्रीय मंत्रियों ने भी ऐसे ही बयान दिए थे. पवार ने कहा कि अपनी शक्ति का इस्तेमाल लोगों की सुरक्षा एवं संरक्षा सुनिश्चित करने में करने की बजाए भाजपा के कुछ मंत्री ‘गोली मारो…’ जैसे बयान दे रहे हैं और समाज के एक वर्ग को भयभीत करने का प्रयास कर रहे हैं, जो बेहद निदंनीय है.

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close