ज्योतिष

न्यायालय का सबरीमला में महिलाओं के सुरक्षित प्रवेश के लिये आदेश देने से इंकार

नयी दिल्ली. उच्चतम न्यायालय ने शुक्रवार को सबरीमला मंदिर में पुलिस की सुरक्षा में महिलाओं का प्रवेश सुनिश्चित करने के…

Read More »

न्यायालय ने अयोध्या प्रकरण में नौ नवंबर के फैसले पर पुर्निवचार के लिये दायर याचिकायें खारिज कीं

नयी दिल्ली/इंदौर. उच्चतम न्यायालय ने अयोध्या में विवादित 2.77 एकड़ भूमि पर राम मंदिर के निर्माण का मार्ग प्रशस्त करने…

Read More »

सबरीमला में महिलाओं के प्रवेश संबंधी फैसला अंतिम नहीं क्योंकि मामला वृहद पीठ के पास है: न्यायालय

नयी दिल्ली. उच्चतम न्यायालय ने बृहस्पतिवार को कहा कि केरल के सबरीमला मंदिर में सभी आयु वर्ग की महिलाओं को…

Read More »

राम जन्मभूमि न्यास अध्यक्ष ने छह दिसम्बर को ‘शौर्य दिवस’ न मनाने की अपील की

अयोध्या. राम जन्मभूमि न्यास के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपाल दास ने अयोध्या में छह दिसम्बर को विवादित ढांचा विध्वंस की…

Read More »

राम मंदिर से शांति आएगी, भाईचारा बढ़ेगा : रविशंकर

नागपुर. अयोध्या विवाद मामले में उच्चतम न्यायालय द्वारा गठित मध्यस्थता समिति के सदस्य रहे आध्यात्मिक गुरु श्री श्री रविशंकर ने…

Read More »

मेरे उत्तराधिकारी पर चर्चा करने की इतनी जल्दबाजी क्यों : दलाई लामा

धर्मशाला. तिब्बत के अध्यात्मिक नेता दलाई लामा ने शुक्रवार को अपने उत्तराधिकारी पर चर्चा को तवज्जो नहीं देते हुए कहा…

Read More »

सबरीमला जा रही महिला अधिकार कार्यकर्ताओं को पुलिस सुरक्षा देने से इनकार

कोच्चि. श्रद्धालुओं, दक्षिणपंथी संगठनों के सदस्यों और भाजपा के विरोध प्रदर्शनों के बीच भगवान अयप्पा मंदिर में पूजा करने के…

Read More »

दुनिया को भारत के अहिंसा और अनुकम्पा के मूल्यों की जरूरत है : दलाई लामा

औरंगाबाद. तिब्बत के आध्यात्मिक नेता दलाई लामा ने शनिवार को कहा कि दुनिया को अंिहसा और अनुकम्पा के प्राचीन भारतीय…

Read More »

केरल के पद्मनाभ स्वामी मंदिर में 56 दिन लंबा ‘मुराजपम’

तिरुवनंतपुरम. केरल के प्रसिद्ध पद्मनाभ स्वामी मंदिर में सदियों पुरानी रीति ‘मुराजपम’ की शुरुआत हुई है जो 56 दिन तक…

Read More »

दुनिया को भारत की अहिंसा और करुणा की प्राचीन शिक्षा की जरूरत : दलाई लामा

नयी दिल्ली. तिब्बत के आध्यात्मिक नेता दलाई लामा ने कहा कि दुनिया को आज भारत की अंिहसा और करुणा की…

Read More »
Back to top button
Close