Home छत्तीसगढ़ ‘चंदैनी गोंदा’ के संचालक खुमान साव नहीं रहे

‘चंदैनी गोंदा’ के संचालक खुमान साव नहीं रहे

23
0

रायपुर. छत्तीसगढ़ लोक संगीत के परिमार्जक, संगीत नाटक अकादमी सम्मान से विभूषित, ‘चंदैनी गोंदा’ के संचालक खुमान साव (90 वर्ष) नहीं रहे. ग्राम राजनांदगावं के रहवानी स्व. साव का रविवार को उनके गृहग्राम में किया गया.

संपन्न परिवार में जन्मे खुमान साव छत्तीसगढ़ी लोक संगीत की सबसे बड़ी पहचान थे. उन्हें संगीत से उत्कट प्रेम था. वे किशोरावस्था में ही छत्तीसगढ़ी नाचा के पुरोधा दाऊ मंदराजी की ‘रवेली नाचा पार्टी’ में शामिल हो गए थे. उन्होंने बाद म ेंराजनादं गावं म ेंआके सर्् टाÑ की शरूु आत की और कई संगीत समितियों की स्थापना की थी.

उन्होंने करीब 500 छत्तीसगढ़ी लोक गीतों की रचना की. ‘चंदैनी गोंदा’ लोक सांस्कृतिक दल के माध्यम से 70 के दशक से लगातार सम्पूर्ण भारत में 5000 से भी अधिक मंचीय प्रस्तुति दी.

खुमान साव के निधन पर मुख्यमंत्री ने शोक व्यक्त किया
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने छत्तीसगढ़ी लोक संगीत के पुरोधा खुमान साव के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए कहा है कि यह दुखद समाचार सुनकर मन व्यथित है. उनका निधन छत्तीसगढ़ की कला जगत के लिए अपूर्णीय क्षति है. उनके परिवार के प्रति मेरी संवेदनाएं हैं.

संगीत नाटक अकादमी द्वारा सम्मानित पेशे से शिक्षक श्री खुमान साव लोक सांस्कृतिक मंच ‘चंदैनी गोंदा’ के माध्यम से आजीवन छत्तीसगढ़ की लोक गीत एवं संगीत को सहेजने और संवारने में लगे रहे। वे हम सबकी यादों में सदैव बने रहेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here