Home छत्तीसगढ़ नक्सलियों ने अपहृत पुलिसकर्मी, शिक्षक को छोड़ा

नक्सलियों ने अपहृत पुलिसकर्मी, शिक्षक को छोड़ा

50
0

रायपुर. दंतेवाड़ा में नक्सलियों द्वारा अपहृत एक पुलिस उप-निरीक्षक और उसके शिक्षक मित्र को रिहा कर दिया गया है. पुलिस ने यह जानकारी दी. पीटीआई-भाषा से बात करते हुए दंतेवाड़ा के पुलिस अधीक्षक (एसपी) अभिषेक पल्लव ने कहा कि उप निरीक्षक ललित कश्यप और शिक्षक जयंिसह कुरेती को सोमवार देर रात रिहा कर दिया गया और वे मंगलवार सुबह सुरक्षित सीआरपीएफ के सामेली शिविर पहुंच गए.

एसपी के मुताबिक, नक्सलियों ने कश्यप से दो दिनों तक पुलिस की आवाजाही और सुरक्षा शिविरों के बारे में पूछताछ की और बाद में दोनों को छोड़ दिया. उन्होंने कहा, ‘‘दोनों को अरनपुर पुलिस थाना क्षेत्र के जाबेली गांव से रविवार सुबह अपहृत किया गया था जब कश्यप वहां सरकारी प्राथमिक विद्यालय में संविदा शिक्षक अपने दोस्त कुरेती के पास शराब पीने गए थे.’

जिला पुलिस से आने वाले कश्यप स्थानीय पुलिस और नक्सल विरोधी अभियान में जुटे अर्धसैनिक बलों के बीच समन्वय के लिये इलाके के सामेली गांव में सीआरपीएफ की 111वीं बटालियन की ‘सी’ कंपनी के शिविर में तैनात थे. प्रारंभिक सूचना के मुताबिक कुरेती रविवार सुबह किसी काम से सामेली शिविर आया था और इसके बाद कश्यप उसके साथ शराब पीने के लिये जाबेली गांव गया, जो उसकी तैनाती की जगह बेहद संवेदनशील इलाका है.

उन्होंने कहा कि तभी कमांडर देवा के नेतृत्व में 40-50 सशस्त्र नक्सलियों ने गांव पर धावा बोला और उप निरीक्षक और कुरेती को अपने साथ ले गए. पुल्लव ने कहा, ‘‘नक्सलियों ने कश्यप से पुलिस र्किमयों की आवाजाही और सुरक्षा र्किमयों के शिविर के बारे में जानकारी चाही. इसके अलावा, नक्सलियों ने कुरेती को पुलिस कर्मी से दूर रहने की भी सलाह दी.’’

पुलिस अधीक्षक ने कहा, ‘‘स्थानीय जन प्रतिनिधियों और गांववालों के बढ़ते दबाव की वजह से नक्सलियों को सोमवार देर रात पुलिसकर्मी और शिक्षक को रिहा करना पड़ा.’’ उन्होंने कहा कि कश्यप को लापरवाही के आरोप में निलंबित कर दिया गया है क्योंकि वह बिना इजाजत शिविर के बाहर गया और ड्यूटी के दौरान शराब पी. उन्होंने कहा कि पूर्व में भी कश्यप के खिलाफ ऐसी लापरवाही की बात सामने आई है और उसके खिलाफ विभागीय जांच भी शुरू की गई है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here