होशियार बच्चों के साथ बैठने वाले बच्चों के परीक्षा अंकों में सुधार होता है, पर कैसे बताना मुश्किल

मेलबर्न. स्कूल जाने वाले बच्चों के कई तरह के मसले-मसाइल होते हैं. हम में से लगभग सभी ने, बच्चों या बच्चों के माता-पिता के रूप में, स्कूल में अच्छे और बुरे, सहपाठियों के प्रभाव को महसूस किया है. शोध का एक बड़ा हिस्सा है जो दिखा रहा है कि बगल में बैठने वाला होशियार सहपाठी अपने से कमजोर बच्चे के परीक्षा अंकों को बढ़ाने में मदद कर सकते हैं. लेकिन इस बारे में बहुत कम जानकारी है कि ये सहकर्मी प्रभाव वास्तव में सहपाठियों के बीच कैसे होते हैं. ऐसा इसलिए है क्योंकि जिन तंत्रों के माध्यम से सहपाठी अन्य छात्रों को सकारात्मक रूप से प्रभावित करते हैं, उन्हें इंगित करना मुश्किल है.

हमारे अध्ययन के परिणाम हमें यह समझने के करीब लाते हैं कि सहपाठी प्रभाव कैसे काम करते हैं. हमने पाया कि जब कोई बच्चा अच्छे नंबर लाने वाले साथियों के साथ कक्षा में होता है तो माता-पिता उसपर अधिक ध्यान देने लगते हैं. यह आंशिक रूप से समझा सकता है कि ऐसी कक्षाओं में छात्रों के लिए टेस्ट स्कोर क्यों बढ़ता है. लेकिन हमने यह भी पाया कि उनके टेस्ट स्कोर में वृद्धि हो सकती है, कुछ और नहीं. उदाहरण के लिए, एक छात्र जितना समय पढ़ाई में बिताता है, जब कक्षा में उच्च प्रदर्शन करने वाले साथियों के साथ बैठता है, तो उसमें कोई वृद्धि नहीं होती है.

हमारे अध्ययन से पता चलता है कि साथियों के सकारात्मक प्रभाव छात्र के वास्तविक अतिरिक्त प्रयास के बिना होते हैं. समृद्ध डेटा और एक सामाजिक प्रयोग का संयोजन सहकर्मी प्रभावों के संचरण के अंर्तिनहित कई संभावित तंत्रों का परीक्षण करने के लिए हमारा अध्ययन अपनी तरह का पहला है.

हमने 19 अलग-अलग तरीकों से परीक्षण किया कि सहकर्मी अपने सहपाठियों को सकारात्मक रूप से प्रभावित कर सकते हैं. ये तीन मुख्य श्रेणियों में आते हैं: छात्र व्यवहार, माता-पिता का योगदान और स्कूल का माहौल. वे छात्रों के अध्ययन के प्रयास और कक्षा में भागीदारी, विश्वविद्यालय जाने की आकांक्षाओं और अपेक्षाओं, माता-पिता के समय, माता-पिता का समर्थन और सख्ती, और शिक्षक के सहयोग जैसे तंत्र को कवर करते हैं.

हमने 20,000 से अधिक छात्रों, अभिभावकों, शिक्षकों और स्कूल प्रशासकों के राष्ट्रीय ताइवानी शिक्षा पैनल सर्वेक्षण के डेटा का उपयोग किया. डेटा में छात्र की विशेषताएं शामिल हैं जैसे कि वे प्रति सप्ताह कितने घंटे अध्ययन करते हैं, माता-पिता की शिक्षा और छात्र अपने माता-पिता के साथ कितना समय बिताते हैं.

हमने ताइवान के मिडिल स्कूलों (उम्र 12 से 14, या आॅस्ट्रेलिया में 7 से 9 साल) के इस डेटा का विश्लेषण किया, जहां छात्रों को संयोग से कक्षाओं में नियुक्त किया जाता है. इस तरह, हम एक ही स्कूल के बच्चों की कक्षाओं में अधिक या कम होशियार साथियों से तुलना कर सकते हैं. प्रत्येक छात्र वर्ष 7 की शुरुआत में एक मानकीकृत परीक्षा देता है और वर्ष 9 की शुरुआत में एक और परीक्षा देता है. हमने इन छात्रों की प्रगति को मापा.

हमने उन बच्चों की तुलना की, जिनके वर्ष 7 की शुरुआत में समान परीक्षा स्कोर थे, और जिन नियंत्रित विशेषताओं को हम जानते हैं, वे परीक्षा स्कोर में एक अंतर बनाते हैं. इनमें माता-पिता की शिक्षा, प्रत्येक छात्र अध्ययन में कितना समय व्यतीत करता है और शिक्षक प्रेरणा शामिल है. अकादमिक परिणामों पर प्रभाव के संदर्भ में हमने जिन छात्रों की तुलना की, उनके बीच एकमात्र अंतर वह कक्षा थी जिसमें उन्हें संयोग से भेजा गया था.

शीर्ष कक्षाओं में छात्रों के उच्च ग्रेड थे
आसान शब्दों में, हम इसे इस तरह समझा सकते हैं. एक ही स्कूल में दो छात्र हैं. एक को संयोग से एक ऐसी कक्षा के लिए नियत किया जाता है जहां देश में मानकीकृत परीक्षण स्कोर औसत होते हैं. और दूसरे को ऐसी कक्षा में भेजा जाता है जहां देश में परीक्षा के अंक सबसे ऊपर हैं. इसके अलावा, दोनों छात्र समान हैं. हमने दो साल बाद इन दोनों बच्चों के अंकों की जांच की.

हमारे अध्ययन में, शीर्ष कक्षा को सौंपा गया छात्र औसत कक्षा में छात्र की तुलना में अधिक प्रगति करता है. वर्ष 7 में, दोनों छात्रों ने मानकीकृत परीक्षा में 75 में से 31 प्रश्नों के सही उत्तर दिए. दो साल बाद, औसत टेस्ट-स्कोर कक्षा में छात्र ने अभी भी 31 प्रश्नों का सही उत्तर दिया, जबकि शीर्ष टेस्ट-स्कोर कक्षा में छात्र ने लगभग 32 प्रश्नों का सही उत्तर दिया. यह 2.4% अधिक सही उत्तरों के बराबर है.

हालांकि यह एक छोटे से अंतर की तरह लग सकता है, यह सांख्यिकीय रूप से महत्वपूर्ण है और पिछले अध्ययनों के समान ही है. हालाँकि, हमारा अध्ययन इससे आगे जाता है.

हमने और क्या पाया
हमने यह भी दिखाया कि दो साल बाद, शीर्ष टेस्ट-स्कोर कक्षा में छात्र औसत टेस्ट-स्कोर कक्षा में छात्र की तुलना में 1.6 प्रतिशत अधिक विश्वविद्यालय जाने की इच्छा रखते थे. और शीर्ष कक्षा के छात्र विश्वविद्यालय में प्रवेश लेने और उपस्थित होने की अपनी क्षमता में 2 प्रतिशत अधिक आश्वस्त थे. बाद में एक खोज (जो अभी प्रकाशित नहीं हुई है) यह थी कि शीर्ष कक्षा को सौंपे गए छात्रों ने अध्ययन पर खर्च किए जाने वाले घंटों की मात्रा नहीं बदली थी.

हालांकि, उच्च अंक प्राप्त करने वाले साथियों के साथ एक कक्षा में भेजे गए बच्चे के माता-पिता ने अपने बच्चे के साथ अधिक समय बिताया, और दो साल बाद, औसत परीक्षा स्कोर कक्षा में बच्चे के माता-पिता की तुलना में उन्हें अधिक सामान्य भावनात्मक समर्थन प्रदान किया.

हमारे अध्ययन से पता चलता है कि उच्च अंक प्राप्त करने वाले सहपाठी छात्र और माता-पिता के व्यवहार को सकारात्मक रूप से प्रभावित करते हैं, ये अकेले हमारे डेटा में परीक्षण स्कोर पर सकारात्मक प्रभावों की व्याख्या नहीं करते हैं. दूसरे शब्दों में, जो चीजें बदलती हैं – आकांक्षाएं और अपेक्षाएं, और माता-पिता के निवेश – उच्च अंक प्राप्त करने साथियों के लाभों के लिए पूरी तरह से जिम्मेदार नहीं हैं.

तथ्य यह है कि हमारे अध्ययन ने एक स्पष्ट समग्र तस्वीर प्रदान नहीं की कि सहकर्मी प्रभाव वास्तव में कैसे काम करते हैं, उनकी जटिलता जस की तस है. सहपाठियों की आपसी बातचीत पर डेटा एकत्र करना, जैसे कि चर्चा करना और कार्यों का समन्वय करना मुश्किल है, लेकिन यह इस रहस्य को उजागर करने की कुंजी हो सकती है कि होशियार साथी अपने से कम अंक पाने वाले छात्रों को कैसे लाभान्वित करते हैं. शिक्षण प्रथाओं पर डेटा, जैसे समूह कार्य के लिए छात्रों की जोड़ी बनाना और पाठों में शामिल सामग्री की मात्रा भी नई अंतर्दृष्टि प्रदान कर सकती है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close