शिक्षास्वास्थ्य

80 साल या उससे अधिक उम्र के कोरोना वायरस मरीजों की मौत की अधिक आशंका होती है: अध्यययन

बींिजग. कोरोना वायरस बुजुर्गो के लिए विशेष तौर पर काफी घातक साबित हो रहा है. इसकी चपेट में आने वाले 80 साल से अधिक उम्र के मरीजों की मौत की आशंका ज्यादा है. चीन में इस भयानक संक्रमण के पांव पसारने के बाद से किये गये एक सबसे बड़े अध्ययन में यह निष्कर्ष निकाला गया जिसमें करीब 44,000 मामलों का ब्योरा है.

यह अध्ययन चीनी जर्नल आॅफ एपिडेमिओलॉजी में प्रकाशित किया गया जिसमें खुलासा किया गया है कि 11 फरवरी तक 44,672 सत्यापित मामलों में से 1023 मरीजों की मौत हो गयी. यह 2.3 फीसदी मृत्युदर को दर्शाता है. चीन के अधिकारियों ने मंगलवार को कहा कि कोरोना वायरस से अब तक 1800 से अधिक लोगों की जान ले चुका ह और 72,000 से अधिक लोग इससे संक्रमित हैं.

‘चाइनीज सेंटर फोर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन’ के चिकित्सकों के अनुसार ज्यादातर मरीज (77.8 फीसद) 30-69 साल के उम्र के हैं, पुरूष 51.4 प्रतिशत, किसान या श्रमिक 22 प्रतिशत हैं. अध्ययन में कहा गया है कि अन्य सभी उम्र वर्गों की तुलना में 80 साल या उससे अधिक उम्र के मरीजों की मौत की आशंका अधिक है और उनमें मृत्युदर 15 फीसद है.

अध्ययन के अनुसार इस संक्रमण के पुरूष मरीजों में मृत्युदर 2.8 फीसद और महिलाओं में 1.7 फीसद है. पेशे के लिहाज से जो लोग सेवानिवृत हैं उनमें मृत्युदर सबसे अधिक पांच फीसद है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close