Home मनोरंजन जब तक किसी को दोषी न करार दिया जाए, धारणा नहीं बनाई...

जब तक किसी को दोषी न करार दिया जाए, धारणा नहीं बनाई जा सकती: अजय देवगन ने मी टू पर कहा

35
0

मुंबई. अभिनेता अजय देवगन ने कहा कि भारतीय फिल्म उद्योग के कुछ मशहूर कलाकारों पर लगे ‘मी टू’ के आरोप से वह स्तब्ध थे लेकिन उनका मानना है कि इस तरह के मामलों में कानून को अपना काम करने देना चाहिए. बॉलीवुड की कई हस्तियों राजकुमार हिरानी, सुभाष घई, साजिद खान, विकास बहल, रजत कपूर, आलोकनाथ और गायक कैलाश खेर और संगीतकार अनु मलिक पर महिलाओं ने यौन उत्पीड़न के आरोप लगाए हैं.

देवगन ने पीटीआई-भाषा को बताया, ‘‘ कुछ चीजें निकलकर आईं और कुछ लोग ऐसे हैं भी, लेकिन सभी ऐसे नहीं है. मैं कहूंगा कि कुछ नामों ने मुझे स्तब्ध कर दिया लेकिन मैं पूरी तरह से तब तक धारणा नहीं बना सकता जब तक कोई दोषी या निर्दोष साबित न हो जाए.” देवगन इस अभियान का समर्थन कर चुके हैं. अभिनेता का मानना है कि फिल्म उद्योग में अब ताकत का खेल ज्यादा समय तक काम नहीं करनेवाला है. अभिनेता की फिल्म ‘टोटल धमाल’ 22 फरवरी को रिलीज हो रही है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here