Home स्वास्थ्य नई तकनीक से आंखों में सूखेपन का पता लगाना और इलाज होगा...

नई तकनीक से आंखों में सूखेपन का पता लगाना और इलाज होगा आसान

28
0

वाशिंगटन. आंखों में सूखेपन की बीमारी का आसानी से पता लगाने और उसका इलाज करने के लिए शोधकर्ताओं ने नई ‘नॉन इनवेसिव इमेंिजग टेकनीक’ विकसित की है. आंखों में सूखेपन की बीमारी(ड्राई आई ंिसड्रोम) में आंखों में जलन होती है और धुंधला दिखाई देता है. नई तकनीक (नॉन इनवेसिव इमेंिजग टेकनीक) में आंखों के भीतर की तस्वीर बिना ऊपरी परत को नुकसान पहुंचाए ली जाती है.

जर्नल आॅफ एप्लाइड आॅप्टिक्स में प्रकाशित शोधपत्र के मुताबिक आंखों के डॉक्टर के पास पहुंचने वाले 60 प्रतिशत मरीजों में आंखों के सूखेपन की शिकायत होती है. शोधकर्ताओं जिनमें अमेरिका की आॅप्टिकल सोसाइटी के शोधकर्ता भी शामिल थे, ने बताया कि यह बीमारी तब होती है जब बाहरी वातावरण से बचाने में कारगर आंसुओं की अंदरुनी परत अस्थिर हो जाती है.

शोधकर्ताओं ने बताया कि अधिकतर मामलों में इलाज मरीज की ओर से बताए गए लक्षणों के आधार पर किया जाता है लेकिन यह पद्धति बीमारी की सटीक अवस्था का पता लगाने में उतनी कारगर नहीं होती. शोधकर्ताओं ने कहा, अबतक आंखों को बचाने वाली आंसुओं की अंदरुनी परत के बारे में जानकारी लेने के लिए जो तरीका इस्तेमाल किया जाता था उससे बाहरी परत को नुकसान पहुंचता था और पलक झपकने की वजह से सटीक जानकारी भी नहीं मिल पाती थी.

इजरायल स्थित एड्ओम एडवांस्ड आॅप्टिकल मेथड्ज लिमिटेड के प्रमुख शोधकर्ता योएल एरियेली ने कहा, कि इस तकनीक के तहत आंसू की आंतरिक परत की तस्वीर उतारने वाला हमारा उपकरण नैनोमीटर विभेदन के आधार पर कार्य करता है. अध्ययन में कहा गया कि नये उपकरण से सुरक्षित हेलोजन रोशनी आंखों में डाली जाती है और उससे बनने वाले प्रतिंिबब का विश्लेषण किया जाता है.

शोधपत्र के मुताबिक यह उपकरण पूरी तरह से स्वचालित है और मात्र 40 सेकेंड में आंखों के ऊपर मौजूद आंसुओं की अंदरुनी परत में आए बदलाव का पता लगा लेता है जिससे डॉक्टर सटीक तरीके आकलन कर पाते हैं खासतौर पर आंतरिक उप परत का. शोधकर्ताओं ने कहा कि उप-परत सूखी आंख की बीमारी में अहम भूमिका निभाती है लेकिन अन्य तरीकों से इसका विश्लेषण मुश्किल होता है.

एरियेली ने बताया कि शोधदल ने उपकरण की क्षमता का उस समय मानव आंखों पर परीक्षण किया जब पलकें बिना किसी बाधा के झपक रही थीं. उन्होंने कहा, ‘‘ यह उपकरण बेहतरीन तरीके से काम कर रहा है और इससे आंखों को भी कोई खतरा नहीं है क्योंकि यह आंसू की परत को नुकसान नहीं पहुंचाता और साधारण रोशनी का इस्तेमाल करता है.’’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here