दुनिया में पहली बार चिकित्सकों ने मनुष्य में सुअर के हृदय का किया प्रतिरोपण

बाल्टीमोर (अमेरिका). मरीज का जीवन बचाने के आखिरी प्रयास के तहत अमेरिकी चिकित्सकों ने उसमें एक सुअर के हृदय का प्रतिरोपण किया, जो चिकित्सा जगत में पहली बार किया गया प्रयोग है. मैरीलैंड के एक अस्पताल ने सोमवार को बताया कि अत्यधिक प्रयोगात्मक इस आॅपरेशन के तीन दिन बाद भी मरीज की तबियत ठीक है.

हालांकि आॅपरेशन की सफलता के बारे में अभी कुछ भी कहना जल्दबाजी होगी, लेकिन जीवन रक्षक प्रतिरोपणों में किसी जानवर के अंगों का इस्तेमाल करने को लेकर जारी दशकों पुराने अनुसंधान की दिशा में यह एक कदम है. ‘यूनिर्विसटी आॅफ मैरीलैंड मेडिकल सेंटर’ के चिकित्सकों ने कहा कि यह प्रतिरोपण दर्शाता है कि आनुवंशिक बदलाव के साथ जानवर का हृदय तत्काल अस्वीकृति के लक्षण दिखाए बिना मानव शरीर में कार्य कर सकता है.

मरीज डेविड बेनेट (57) के बेटे ने ‘द एसोसिएटेड प्रेस’ (एपी) को बताया कि डेविड को पता था कि इस प्रयोग के सफल होने की कोई गारंटी नहीं थी, लेकिन वह मरणासन्न अवस्था में थे, वह मनुष्य के हृदय के प्रतिरोपण के योग्य नहीं थे और उनके पास कोई और विकल्प नहीं था.

‘यूनिर्विसटी आॅफ मैरीलैंड मेडिकल सेंटर’ द्वारा मुहैया कराए गए एक बयान के अनुसार आॅपरेशन से एक दिन पहले बेनेट ने कहा, ‘‘यह प्रतिरोपण मेरे लिए करो या मरो की स्थिति थी. मैं जीना चाहता हूं. मैं जानता हूं कि यह अंधेरे में तीर चलाने के समान है, लेकिन मेरे पास यही अंतिम विकल्प है.’’ बेनेट सोमवार को स्वयं सांस ले पा रहे थे, लेकिन वह अब भी हृदय और फेफड़ों संबंधी मशीनों की मदद ले रहे हैं. उनके स्वास्थ्य के लिहाज से आगामी कुछ दिन अहम होंगे.

मैरीलैंड यूनीर्विसटी के पशुओं-से-मानवों में प्रतिरोपण कार्यक्रम के वैज्ञानिक निदेशक डॉ. मोहम्मद मोहिउद्दीन ने कहा, ‘‘अगर यह आॅपरेशन सफल रहता है, तो पीड़ित मरीजों के लिए इन अंगों की अंतहीन आपूर्ति होगी.’’ इससे पहले इस प्रकार के प्रतिरोपण की कोशिशें नाकाम रही हैं और इनका मुख्य कारण यह रहा कि इंसानी शरीरों ने जानवरों के अंगों को स्वीकार करने से इनकार कर दिया.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close