Home देश ‘विशेष’ द्विपक्षीय संबंधों को मजबूती देने के लिये बांग्लादेश पहुंचे जयशंकर

‘विशेष’ द्विपक्षीय संबंधों को मजबूती देने के लिये बांग्लादेश पहुंचे जयशंकर

65
0

ढाका/काठमांडू. भारत और बांग्लादेश के बीच ‘‘विशेष’’ द्विपक्षीय संबंधों को मजबूती देने के लिये विदेश मंत्री एस जयशंकर सोमवार को बांग्लादेश पहुंचे. ढाका स्थित भारतीय उच्चायोग ने ट्वीट किया कि नयी दिल्ली से ढाका में हजरत शाहजलाल अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डा पहुंचने पर विदेश मंत्री का स्वागत उनके बांग्लादेशी समकक्ष एके अब्दुल मोमेन ने किया.

इसके अनुसार, ‘‘बांग्लादेश भारत का अहम सहयोगी और उसकी ‘‘पड़ोसी प्रथम’’ नीति का मुख्य स्तंभ है.’’ विदेश मंत्री के तौर पर पदभार ग्रहण करने के बाद जयशंकर की बांग्लादेश की यह पहली यात्रा है.

वहां पहुंचने पर मंत्री ने मीडिया से बातचीत में कहा, ‘‘ढाका में अपने प्रवास को लेकर आशान्वित हूं और उम्मीद करता हूं कि यह फलदायी होगा तथा भारत-बांग्लादेश के विशेष संबंध को और मजबूती देने पर चर्चा होगी.’’ एक महीने के भीतर दोनों देशों के बीच यह दूसरी उच्च स्तरीय बातचीत होगी. इससे पहले 7-8 अगस्त को बांग्लादेश के गृह मंत्री असदुज्जमान खान ने नयी दिल्ली में गृह मंत्री अमित शाह से द्विपक्षीय बातचीत की थी.

बांग्लादेश की दो दिन की यात्रा पर पहुंचे जयशंकर अपनी यात्रा की शुरुआत मंगलवार सुबह धनमंडी में ‘बंगबंधु संग्रहालय’ में देश के संस्थापक बंगबंधु शेख मुजिबुर रहमान को श्रद्धांजलि देने के साथ करेंगे. जयशंकर इसके बाद अपने समकक्ष मोमेन के साथ बैठक करेंगे और दोपहर में प्रधानमंत्री शेख हसीना से मुलाकात करेंगे.

‘नेपाल-भारत संयुक्त आयोग’ की बैठक में हिस्सा लेने नेपाल आएंगे जयशंकर
विदेश मंत्री एस. जयशंकर द्विपक्षीय संबंधों की समग्र स्थिति की समीक्षा करने के उद्देश्य से ‘नेपाल-भारत संयुक्त आयोग’ की पांचवी बैठक में हिस्सा लेने इस सप्ताह नेपाल पहुंचेंगे. नेपाल के विदेश मंत्रालय ने एक बयान में बताया कि बैठक 21-22 अगस्त को काठमांडू में होगी.

जयशंकर नेपाल के अपने समकक्ष प्रदीप कुमार ग्यावाली के साथ इस बैठक की सह-अध्यक्षता करेंगे. बयान में कहा गया है, ‘‘ संयुक्त बैठक में द्विपक्षीय संबंधों की समग्र स्थिति, जैसे कनेक्टिविटी और आर्थिक साझेदारी, व्यापार और पारगमन, बिजली और जल संसाधन क्षेत्रों, संस्कृति, शिक्षा और आपसी हित सहित अन्य मामलों की समीक्षा की जाएगी.’’

‘नेपाल-भारत संयुक्त आयोग’ की स्थापना 1987 में हुई थी. इसकी बैठकें नेपाल और भारत में बारी-बारी से की जाती हैं. आखिरी बैठक अक्टूबर 2016 में नयी दिल्ली में हुई थी. इस यात्रा के दौरान जयशंकर नेपाल की राष्ट्रपति बिद्या देवी भंडारी और प्रधानमंत्री के. पी. ओली से भी मुलाकात करेंगे.

बयान में कहा गया है कि ग्यावाली भारत के विदेश मंत्री के सम्मान में रात्रिभोज का आयोजन भी करेंगे. बयान के अनुसार जयशंकर 21 अगस्त को काठमांडू पहुंचेंगे और 22 अगस्त को भारत लौट आएंगे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here