मंगल पर परसेवरेंस को मिली पहली सफलता, मिशन वैज्ञानिकों ने भेजा संदेश

वाशिंगटन. नासा का परसेवरेंस रोवर 18 फरवरी, 2021 को मंगल के जेजÞेरो क्रेटर में उतरने के साथ ही इतिहास बना चुका है. फिलहाल, मंगल और पृथ्वी सूर्य की विपरीत दिशा में हैं और दोनों ग्रह एक दूसरे के आस-पास नहीं आ सकते हैं. मिशन शुरू होने के बाद पिछले 216 दिनों (मंगल ग्रह के दिन) से लगातार काम करने के बाद वैज्ञानिकों का दल पहला वास्तविक ब्रेक ले रहा है.

हम परसेवरेंस टीम के दो सदस्य हैं, और रोवर जब तक दोनों ग्रहों के संयोजन के 20 दिनों के इंतजार में रुका हुआ है, यह मिशन द्वारा अब तक हासिल की गई उपलब्धियों पर गौर करने का एकदम सही समय है.

परसेवरेंस ने अपनी सभी इंजीनियंिरग क्षमताओं का परीक्षण किया है, उबड़-खाबड़ इलाके में 1.6 मील (2.6 किलोमीटर) की दूरी तय की है और अपने 19 कैमरों के साथ हजारों तस्वीरें ली हैं. इन सभी अविश्वसनीय सफलताओं में से, तीन प्रमुख मील के पत्थर हैं जिनके बारे में हम विशेष रूप से उत्साहित हैं: पहला चट्टान के भीतर से नमूने एकत्र करना, ‘इनजेनिटी’ हेलीकॉप्टर उड़ाना और जेजÞेरो क्रेटर डेल्टा के बारे में हमारे पहले वैज्ञानिक परिणामों को प्रकाशित करना.

खेप को वापस भेजना
परसेवरेंस के प्राथमिक उद्देश्यों में से एक छोटे चट्टान कोर को निकालने के लिए अपनी नमूना एकत्र प्रणाली का उपयोग करना है और उन्हें विशेष नमूना ट्यूबों में सील करना है. भविष्य का कोई मिशन फिर उन्हें उठाएगा और उन्हें लंबी अंतर्ग्रहीय यात्रा पर धरती पर वापस लाएगा.

हमारी टीम ने 1800 फुट की गहराई में ऐसी चट्टानें एकत्र कीं जो सख्त थी और उनमें से नमूना लेना आसान था. कुछ दर्जन और नमूने एकत्र करने के बाद, परसेवरेंस नमूनों को मंगल की सतह पर एक सुरक्षित और सुलभ स्थान पर छोड़ देगा. नासा का मंगल नमूना वापसी मिशन, जो अभी विकास के चरण में है, इस दशक के अंत तक नमूना ट्यूबों को उठाएगा और उन्हें वापस यहां लाएगा.

लेकिन वैज्ञानिकों को चट्टानों के बारे में जानने के लिए इतना लंबा इंतजार नहीं करना पड़ेगा. दोनों स्थलों पर, परसेवरेंस ने चट्टानों की संरचना को मापने के लिए अपनी बांह पर ‘शेर्लोक और पिक्सल स्पेक्ट्रोमीटर’ का उपयोग किया. हमें क्रिस्टलीय खनिज मिले जो एक बेसाल्टिक लावा प्रवाह में बनने वाली चट्टानों के साथ-साथ नमक खनिजों का संकेत देते हैं जो प्राचीन भूजल के प्रमाण हो सकते हैं.

उड़ान में प्रथम
परसेवरेंस पृथ्वी से बहुत दूर हो सकता है, लेकिन इसमें एक सहयोगी भी है. मंगल पर उतरने के कुछ समय बाद ही इनजेनिटी हेलीकॉप्टर रोवर से अलग हो गया और दूसरे ग्रह के वातावरण में उड़ान भरने वाला पहला यान बन गया.

जेजेरो डेल्टा को करीब से देखा
नासा ने जेजेरो क्रेटर (गड्ढा) को परसेवरेंस को उतारने वाले स्थान के रूप में विशेष रूप से चुना क्योंकि यह रोवर को चट्टानों के एक बड़े ढेर तक पहुंच प्रदान करता है जो एक सूखी नदी घाटी के अंत में स्थित है. उपग्रह चित्रों के आधार पर, वैज्ञानिकों को लगता है कि ये चट्टानें एक प्राचीन नदी द्वारा जमा तलछट से बनी हैं जो लगभग 3.5 अरब साल पहले एक झील में मिलती थी.

इस बात की पुष्टि करना कि जेजÞेरो क्रेटर में एक झील थी, मिशन का पहला प्रमुख विज्ञान परिणाम है. आने वाले वर्ष में, परसेवरेंस डेल्टा के शीर्ष तक पहुंच जाएगा, रास्ते में चट्टान की परतों का सूक्ष्म विस्तार से अध्ययन के साथ ही कई नमूने एकत्र करेगा. जब वे नमूने अंतत: पृथ्वी पर वापस आएंगे, तब हम जान पाएंगे कि क्या उनमें सूक्ष्मजीव जीवन के संकेत हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close