Home देश पोंजी घोटाले में सीबीआई की जांच को राजनीतिक रंग नहीं दें: कुणाल...

पोंजी घोटाले में सीबीआई की जांच को राजनीतिक रंग नहीं दें: कुणाल घोष

11
0

कोलकाता. सारदा चिटफंड मामलों में आरोपी एवं तृणमूल कांग्रेस के पूर्व सांसद कुणाल घोष ने सोमवार को राजनीतिक दलों से अपील की कि वे पोंजी घोटाले में सीबीआई की जांच को राजनीतिक रंग नहीं दें. घोष ने सोमवार सुबह फेसबुक पोस्ट में कहा कि सीबीआई को कोलकाता पुलिस आयुक्त राजीव कुमार से बहुत पहले ही पूछताछ करनी चाहिए थी.

सारदा चिटफंड घोटाले में सीबीआई की पूछताछ के लिए घोष, कुमार के साथ इस समय शिलांग में हैं. उन्होंने कहा, ‘‘मैं राजनीतिक दलों से अनुरोध करता हूं कि वे मामले को राजनीतिक रंग नहीं दें. जांच के तहत अब जो कदम उठाए जा रहे हैं, वे बहुत पहले ही पश्चिम बंगाल सरकार द्वारा गठित एसआईटी की जांच के समय उठा लिए जाने चाहिए थे. दुर्भाग्यवश, ऐसा नहीं हुआ. खैर, देर आए दुरुस्त आए.’’

घोष ने कहा कि जहां तक जांच की बात है, तो कीमती समय बहुत बर्बाद किया जा चुका है क्योंकि न तो सीबीआई और न ही एसआईटी ने पहले उपयुक्त कदम उठाए. उन्होंने कहा, ‘‘न तो सीबीआई और न ही कोई अन्य जांच एजेंसी आलोचना से परे है, लेकिन उन मामलों को उठाना और इस बड़े घोटाले की जांच के रास्ते में अवरोध पैदा करना समझदारी नहीं होगी. सीबीआई को उसका कर्तव्य निभाने देना चाहिए.’’

उन्होंने स्पष्ट रूप से राजीव कुमार की ओर इशारा करते हुए कहा कि सीबीआई के समक्ष अब जो कोई भी पूछताछ के लिए आता है, उसे अकेले लड़ना चाहिए और इस मामले में राज्य सरकार से कोई भी मदद लेने से बचना चाहिए. उल्लेखनीय है कि तृणमूल सुप्रीमो और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने चिट फंड मामलों में कुमार से पूछताछ की सीबीआई की नाकाम कोशिश के बाद केंद्र सरकार के खिलाफ पिछले सप्ताह कोलकाता में धरना प्रदर्शन किया था.

घोष को नवंबर 2013 में एसआईटी ने गिरफ्तार किया था. उस समय वह राज्यसभा सदस्य थे. उन्हें 2016 में जमानत दी गई. घोष ने शिलांग में सीबीआई कार्यालय में प्रवेश करने से पहले पीटीआई से कहा, ‘‘मैंने हमेशा जांच में सहयोग किया है और मैं इस बार भी पूरा सहयोग करूंगा.’’ उनसे सोमवार को लगातार दूसरे दिन पूछताछ होगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here