देशव्यापार

मोदी जी ने देशवासियों के घरेलू बजट के टुकड़े-टुकड़े किए : राहुल

नयी दिल्ली. कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने देश में महंगाई बढ़ने को लेकर मंगलवार को नरेंद्र मोदी सरकार पर निशाना साधा और आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री मोदी ने देशवासियों के घरेलू बजट के टुकड़े-टुकड़े कर दिए. गांधी ने ट्वीट कर कहा, ‘‘कमरतोड़ महंगाई, जानलेवा बेरोजगारी और गिरती जीडीपी ने ‘आर्थिक आपातकाल’ की स्थिति बना दी है. सब्जÞी, दाल, खाने का तेल, रसोई गैस व खाद्य पदार्थों की महंगाई ने गÞरीब के मुंह का निवाला छीन लिया है.’’ उन्होंने आरोप लगाया, ‘‘मोदी जी ने देशवासियों के घरेलू बजट के टुकड़े-टुकड़े कर दिये हैं.’’

गौरतलब है कि खुदरा मुद्रास्फीति की दर दिसंबर, 2019 में जोरदार तेजी के साथ 7.35 प्रतिशत के स्तर पर पहुंच गई है. यह भारतीय रिजर्व बैंक के संतोषजनक स्तर से कहीं अधिक है. खाद्य वस्तुओं की कीमतों में तेजी की वजह से खुदरा मुद्रास्फीति में उछाल आया है.

गिरती अर्थव्यवस्था देश के लिए बड़ा खतरा
नयी दिल्ली. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम ने खुदरा मुद्रास्फीति की दर के 7.35 प्रतिशत तक पहुंच जाने को लेकर मंगलवार को नरेंद्र मोदी सरकार पर निशाना साधा और कहा कि गिरती अर्थव्यवस्था देश के लिए बड़ा खतरा है. पूर्व वित्त मंत्री ने ट्वीट कर कहा, ”देश सीएए, एनपीआर विरोधी प्रदर्शनों से प्रभावित है. दोनों एक स्पष्ट और वर्तमान खतरे को प्रस्तुत करते हैं. गिर रही अर्थव्यवस्था देश के लिए एक बड़ा खतरा है. यदि बेरोजगारी बढ़ती है और आय में गिरावट आती है, तो युवाओं और छात्रों में गुस्से के विस्फोट का खतरा है.”

उन्होंने तंज करते हुए कहा, ”खाद्य मुद्रास्फीति 14.12 प्रतिशत है. सब्जियों की कीमतें 60 प्रतिशत तक बढ़ी हैं. प्याज की कीमतें 100 रुपये प्रति किलोग्राम से अधिक हैं. यही भाजपा द्वारा वादा किया गया अच्छे दिन है.” चिदंबरम ने आरोप लगाया, ”अक्षम प्रबंधन का चक्र पूरा हो गया है. जुलाई 2014 में नरेंद्र मोदी की सरकार ने मुद्रास्फीति 7.39 प्रतिशत पर होने के साथ शुरुआत की थी, जो दिसंबर 2019 में 7.35 प्रतिशत रही.”

गौरतलब है कि खुदरा मुद्रास्फीति की दर दिसंबर, 2019 में जोरदार तेजी के साथ 7.35 प्रतिशत के स्तर पर पहुंच गई है. यह भारतीय रिजर्व बैंक के संतोषजनक स्तर से कहीं अधिक है. खाद्य वस्तुओं की कीमतों में तेजी की वजह से खुदरा मुद्रास्फीति में उछाल आया है.

प्रधानमंत्री महंगाई पर जवाब दें , सर्वदलीय बैठक बुलाएं
कांग्रेस ने खुदरा मुद्रास्फीति की दर के 7.35 फीसदी तक पहुंच जाने को लेकर मंगलवार को नरेंद्र मोदी सरकार पर तीखा हमला बोला और कहा कि इस मामले पर प्रधानमंत्री जवाब दें तथा सर्वदलीय बैठक बुलाकर मंहगाई कम करने की रूपरेखा बताएं.पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने आरोप लगाया कि ‘शासन नहीं विभाजन’ भाजपा का नया नारा बन गया है.

उन्होंने संवाददाताओं से कहा, ‘‘मोदी सरकार ने महंगाई और बेरोजगारी के रूप में देश को दो बड़े धोखे दिए हैं. खाने पीने की वस्तुएं महंगी हो गयी हैं . प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कहते थे अबकी बार महंगाई पर वार , अब वह चुप बैठे हैं.’’ उन्होंने दावा किया, ‘‘महंगाई डायन की तरह बढ़ती जा रही है. सब्जी के दाम बेतहाशा बढ़ गए हैं कि वह लोगों की पहुंच से बाहर हो गयी है. अब तो ऐसा लगता है कि शाकाहारी होना पाप हो गया है. गरीब आदमी की ंिजदगी बहुत मुश्किल हो गयी है. देश की गृहणियों के लिए और भी मुश्किल हो गयी है.’’ कांग्रेस नेता ने यह भी कहा कि पिछले एक साल में 50 लाख नौकरियां चली गयी है.

सुरजेवाला ने आरोप लगाया, ‘‘डायन महंगाई ने आम आदमी का बजट बिगड़ दिया है. सिर्फ भाजपा की आय में 1450 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है.” उन्होंने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री शासन नहीं, अब विभाजन कर रहे हैं. भाजपा का नारा शासन नहीं, विभाजन है.’’ सुरजेवाला ने कहा, ‘‘ प्रधानमंत्री तत्काल विपक्षी दलों की बैठक बुलायें और देश को विश्वास में लें. वह बताएं कि 30 दिन में महंगाई कम करने की रूपरेखा क्या है.’’

गौरतलब है कि खुदरा मुद्रास्फीति की दर दिसंबर, 2019 में जोरदार तेजी के साथ 7.35 प्रतिशत के स्तर पर पहुंच गई है. यह भारतीय रिजर्व बैंक के संतोषजनक स्तर से कहीं अधिक है. खाद्य वस्तुओं की कीमतों में तेजी की वजह से खुदरा मुद्रास्फीति में उछाल आया है.

भाजपा सरकार ने गरीब के पेट पर लात मारी है : प्रियंका
कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने खुदरा मुद्रास्फीति की दर के 7.35 फीसदी तक पहुंच जाने को लेकर मंगलवार को भाजपा सरकार पर निशाना साधा और आरोप लगाया कि भाजपा सरकार ने गरीब की जेब काटकर उसके पेट पर लात मारने का काम किया है. प्रियंका ने ट्वीट कर कहा, “सब्जियां, खाने पीने की चीजों के दाम आम लोगों की पहुंच से बाहर हो रहे हैं. जब सब्जी, तेल, दाल और आटा महंगा हो जाएगा तो गरीब खाएगा क्या? ”

प्रियंका ने आरोप लगाया, ”ऊपर से मंदी की वजह से गरीब को काम भी नहीं मिल रहा है. भाजपा सरकार ने तो जेब काट कर पेट पर लात मार दी है. ” गौरतलब है कि खुदरा मुद्रास्फीति की दर दिसंबर, 2019 में जोरदार तेजी के साथ 7.35 प्रतिशत के स्तर पर पहुंच गई है. यह भारतीय रिजर्व बैंक के संतोषजनक स्तर से कहीं अधिक है. खाद्य वस्तुओं की कीमतों में तेजी की वजह से खुदरा मुद्रास्फीति में उछाल आया है.

दंिवदर के तार जम्मू-कश्मीर या दिल्ली में किससे जुड़े हैं, जांच होनी चाहिए
कांग्रेस ने कश्मीर घाटी में दो आतंकवादियों के साथ गिरफ्तार डीएसपी दंिवदर ंिसह की भूमिका को लेकर गंभीर सवाल खड़े किए और कहा कि इस बारे में गहन की जांच की जरूरत है कि क्या दंिवदर के तार जम्मू-कश्मीर शासन एवं केंद्र के शासन में किसी से जुड़े हैं. पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने यह भी कहा कि इस मामले में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह को वक्तव्य देना चाहिए.

उन्होंने संवाददाताओं से कहा, ‘‘पुलवामा हमले में हमारे 42 जवान शहीद हो गए. हमने कई बार सवाल किया कि आरडीएक्स कौन लेकर आया? कई बार पूछा कि हमले के लिए इस्तेमाल कार सेना के काफिले में कैसे आ गई? मोदी जी, अमित शाह जी और राजनाथ ंिसह जी ने इसका जवाब नहीं दिया.’’

सुरजेवाला ने कहा, ‘‘ अब सामने आया है कि यही दंिवदर ंिसह पुलवामा का डीएसपी था. क्या दंिवदर ंिसह एक मोहरा है. या देंिवदर ंिसह ही षड्यंत्र का सूत्रधार है? इस सारे मामले की गंभीर और गहन जांच की जरूरत है.’’ कांग्रेस नेता ने पूछा, ‘‘कहीं दंिवदर ंिसह के तार जम्मू-कश्मीर शासन या दिल्ली के शासन में ऐसे किसी व्यक्ति या समूह के साथ जुड़े हुए तो नहीं हैं जो भारत के खिलाफ साजिश कर रहे हैं?’’ उन्होंने कहा, ‘‘ हम मांग करते हैं कि प्रधानमंत्री और गृह मंत्री गहन जांच कराकर वक्तव्य दें.’’

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close