देशविदेश

भारत ने दिल्ली की हिंसा पर USCIRF, OIC के बयानों को किया खारिज

नयी दिल्ली. भारत ने दिल्ली में हुई ंिहसा को लेकर धार्मिक आजादी पर एक अमेरिकी आयोग, इस्लामिक सहयोग संगठन (ओआईसी) तथा कुछ अमेरिकी सांसदों के बयानों को खारिज करते हुए कहा कि बयान तथ्यात्मक रूप से गलत, भ्रामक हैं तथा मुद्दे का राजनीतिकरण करने का प्रयास किया जा रहा है.

अंतरराष्ट्रीय धार्मिक स्वतंत्रता मामलों संबंधी अमेरिकी आयोग (यूएससीआईआरएफ), ओआईसी और अमेरिका में राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार बर्नी सैंडर्स सहित वहां के कुछ सांसदों ने दिल्ली में ंिहसा पर ंिचता जतायी है. डेमोक्रेटिक पार्टी के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के अलावा अन्य प्रभावशाली सीनेटरों ने भी घटनाक्रमों पर ंिचता जताई.

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा, ‘‘हमने यूएससीआईआरएफ, मीडिया के कुछ धड़े और कुछ लोगों द्वारा दिल्ली में ंिहसा की हालिया घटनाओं के बारे में उनके बयान देखे हैं. तथ्यात्मक रूप से ये गलत, भ्रामक हैं और मुद्दे का राजनीतिकरण करने के मकसद से दिए गए हैं.’’ कुमार ने ओआईसी जैसे संगठनों से इस संवेदनशील समय गैरजिम्मेदाराना बयान नहीं देने का आग्रह किया.

कुमार ने कहा, ‘‘ओआईसी की तरफ से आए बयान तथ्यात्मक रूप से गलत हैं, भ्रामक हैं. विश्वास बहाली के लिए शांति कायम करने की कोशिश हो रही है.’’ उन्होंने कहा, ‘‘हम इन संगठनों से ऐसे संवेदनशील समय में गैरजिम्मेदाराना बयानबाजी में नहीं पड़ने का अनुरोध करते हैं.’’ कुमार ने कहा कि कानून लागू करने वाली एजेंसियां ंिहसा रोकने और हालात सामान्य बनाने के लिए काम कर रही हैं.

यूएससीआईआरएफ के अध्यक्ष टोनी र्पिकंस ने बुधवार को जारी एक बयान में कहा, ‘‘ हम भारत सरकार से अपील करते हैं कि वह भीड़ ंिहसा का शिकार बने मुसलमानों और अन्य समूहों को सुरक्षा मुहैया कराने के लिए गंभीर प्रयास करे.’’ र्पिकंस ने कहा था, ‘‘ दिल्ली में जारी ंिहसा और मुसलमानों, उनके घरों एवं दुकानों और उनके धार्मिक स्थलों पर कथित हमलों के मामले व्यथित करने वाले हैं. अपने नागरिकों की रक्षा करना किसी भी जिम्मेदार सरकार के सबसे महत्वपूर्ण कर्तव्यों में से एक है, भले ही वे (नागरिक) किसी भी धर्म के हों.’’

एक बयान में ओआईसी ने कहा कि वह भारत में मुस्लिमों के खिलाफ ंिहसा की ंिनदा करता है. ंिहसा के कारण बेकसूर घायल हुए और उनकी जान गयी तथा तोड़फोड़ आगजनी से मस्जिदों और मुस्लिमों की संपत्तियों को नुकसान पहुंचाया गया.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close