कार निर्माताओं के लिए वाहनों में ‘फ्लेक्स फ्यूल इंजन’ लगाना होगा अनिवार्य : गडकरी

पुणे. केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने शुक्रवार को कहा कि वह अगले तीन से चार महीनों में एक आदेश जारी करेंगे, जिसके तहत कार निर्माताओं के लिए वाहनों में ‘फ्लेक्स फ्यूल इंजन’ लगाना अनिवार्य कर दिया जाएगा. गडकरी ने कहा कि वह चाहते हैं कि देश स्थानीय स्तर पर उत्पादित एथेनॉल को अपनाने की तरफ बढ़े तथा पेट्रोल और डीजल की खपत से छुटकारा मिले. सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री ने पुणे में एक फ्लाईओवर की आधारशिला रखने के लिए आयोजित एक कार्यक्रम में यह बात कही. महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री अजित पवार भी इस कार्यक्रम में मौजूद थे.

गडकरी ने कहा, ‘‘मैं अगले तीन से चार महीनों में एक आदेश जारी करने जा रहा हूं, जिसमें बीएमडब्ल्यू, र्मिसडीज से लेकर टाटा और मंिहद्रा जैसी कार निर्माता कंपनियों को फ्लेक्स इंजन बनाने के लिए कहा जाएगा.’’ गडकरी ने कहा कि उन्होंने बजाज और टीवीएस कंपनियों को अपने वाहनों में फ्लेक्स इंजन लगाने के लिए कहा है और यह भी निर्देश दिया है कि जब तक वे ऐसा नहीं करते, तब तक उनसे संपर्क न करें.

‘फ्लेक्स फ्यूल’ या लचीला ईंधन, गैसोलीन और मेथेनॉल या इथेनॉल के संयोजन से बना एक वैकल्पिक ईंधन है. गडकरी ने कहा, ‘‘मेरी एक इच्छा है. मैं अपने जीवनकाल में देश में पेट्रोल और डीजल के उपयोग को रोकना चाहता हूं और हमारे किसान इथेनॉल के रूप में इसका विकल्प दे सकते हैं.’’

गडकरी ने कहा कि हॉर्न बजाने से होने वाले ध्वनि प्रदूषण के मुद्दे से निपटने के लिए कार के हॉर्न को संगीत वाद्ययंत्र की तरह बनाने के लिए नियम बनाए जाएंगे. उन्होंने कहा, ‘‘मैंने सभी कार निर्माताओं को संगीत वाद्ययंत्र की आवाज का इस्तेमाल करके हॉर्न बनाने का आदेश दिया है.’’ केंद्रीय मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पुणे में तीन इथेनॉल पंप का उद्घाटन किया था.

गडकरी ने कहा, ‘‘मैं आपसे (अजित पवार) पुणे के साथ-साथ पश्चिमी महाराष्ट्र के जिलों में कई इथेनॉल पंप स्थापित करने के लिए कहना चाहता हूं क्योंकि इससे किसानों और चीनी उद्योग को मदद मिलेगी.’’ गडकरी ने कहा कि पुणे बहुत भीड़भाड़ वाला शहर हो गया है और इसके विकेंद्रीकरण की जरूरत है.

गडकरी ने कहा, ‘‘मैं अजित पवार से पुणे को हवा, पानी और ध्वनि प्रदूषण से मुक्त बनाने की अपील करना चाहता हूं. मैं पुणे-बेंगलुरु राजमार्ग पर एक्सप्रेस-वे बना रहा हूं. मैं सड़क के दोनों किनारों पर जमीन खरीदने और एक नया पुणे शहर स्थापित करने तथा इसे मेट्रो रेल और ट्रेनों से जोड़ने के लिए कहना चाहता हूं. भीड़भाड़, यातायात समस्या और प्रदूषण से छुटकारा पाने के लिए विकेंद्रीकरण की आवश्यकता है.’’

पवार के संबोधन में राज्य में विभिन्न सड़क चौड़ीकरण परियोजनाओं के लिए भूमि अधिग्रहण के खिलाफ भूमि मालिकों द्वारा 18 करोड़ रुपये प्रति एकड़ मुआवजे की मांग का मुद्दा उठाए जाने पर गडकरी ने कहा कि अगर हम इतना भुगतान करें तो स्टेशन और बस स्टैंड जैसे बुनियादी ढांचे का निर्माण कैसे हो सकता है? गडकरी ने कहा, ‘‘मेरे सचिव ने मुझे बताया कि यह (मुआवजा) बढ़ा-चढ़ा कर प्रस्तुत किया गया है. मैं शुक्रगुजार हूं कि पवार ने इस मुद्दे का हल निकालने का वादा किया है.’’

केंद्रीय मंत्री ने पुणे को पश्चिमी महाराष्ट्र के अन्य जिलों से जोड़ने के लिए कम लागत वाली ब्रॉड गेज मेट्रो लाइन को अपनाने की भी पैरवी की. शहर में कटराज फ्लाईओवर की आधारशिला रखे जाने के कार्यक्रम में गडकरी ने कहा कि इस साल पुणे और बेंगलुरु के बीच एक नया ग्रीनफील्ड राजमार्ग बनाया जा रहा है. उन्होंने कहा, ‘‘यह 40,000 करोड़ रुपये की परियोजना है और यह नया ग्रीनफील्ड राजमार्ग पुणे से शुरू होगा और सतारा जिले के फलटन के रास्ते बेलगाम के बाहर से बेंगलुरु जाएगा.’’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close