Home चुनाव भारत ममता बनर्जी बंगाल में सब कुछ नष्ट करने पर उतारू हैं :...

ममता बनर्जी बंगाल में सब कुछ नष्ट करने पर उतारू हैं : मोदी

53
0

ताकी (पश्चिम बंगाल). प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को कहा कि ममता बनर्जी सरकार पश्चिम बंगाल में सब कुछ नष्ट करने पर तुली हुई है और लोगों का दृढ़ विश्वास और साहस इस ‘‘अत्याचारी शासन’’ को हटाएगा. मोदी ने कहा कि पूरे देश ने (टीवी पर) देखा कि किस तरह से भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के रोडशो पर तृणमूल कांग्रेस के गुंडों ने हमला किया. देश पश्चिम बंगाल में चुनाव परिणाम को उत्सुकता से देख रहा है.
मोदी ने दावा किया कि कोलकाता में शाह के रोडशो पर तब हमला किया गया जब बनर्जी ने इस बात पर जोर दिया कि तृणमूल कांग्रेस भाजपा से बदला लेगी. उन्होंने उत्तर 24 परगना जिले में भारत…बांग्लादेश सीमा पर स्थित ताकी में एक चुनावी रैली में कहा, ‘‘दीदी (ममता) के गुंडे बंदूक और बम लिये विनाश पर उतारू हैं…उनकी सरकार राज्य में सब कुछ नष्ट करने पर तुली हुई है. लोगों का दृढ़ विश्वास और साहस इस ‘‘अत्याचारी शासन’’ को हटाएगा.’’ उन्होंने कहा, ‘‘दीदी पश्चिम बंगाल में भाजपा की बढ़त से भयभीत हैं. राज्य के लोगों ने उन्हें मुख्यमंत्री बनाकर उन्हें सम्मान दिया. लेकिन सत्ता के नशे में चूर ममता बनर्जी लोकतंत्र का गला घोंट रही हैं.’’मोदी ने बनर्जी पर हमला बोलते हुए कहा, ‘‘आपने चिटफंड घोटाले में जनता का पैसा लूटा और जब उन्होंने आपसे स्पष्टीकरण मांगा तो उन्हें बुरा भला कहा.’’उन्होंने कहा,‘‘लोकतंत्र ने आपको मुख्यमंत्री की कुर्सी दी और आप उसकी हत्या कर रही हैं. पूरा देश आपके कृत्य देख रहा है…दीदी को सत्ता में नहीं रहना चाहिए. पिछले चार से पांच वर्षों में उन्होंने अपना रंग दिखाया है.’’ उन्होंने बनर्जी पर राज्य की ‘भद्र लोक’ की संस्कृति नष्ट करने का आरोप लगाया. उन्होंने कहा कि बंगाल के लोगों ने बनर्जी के ‘‘निरंकुश शासन’’ का अंत करने का मन बना लिया है.

चुनावी हार का ठीकरा फोड़ने के लिए कांग्रेस ने दो बल्लेबाज उतारे हैं: मोदी

देवघर (झारखंड). प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लोकसभा चुनाव में कांग्रेस की हार होने का दावा करते हुए बुधवार को कहा कि विपक्षी पार्टी ने ‘‘नामदार’’ को बचाने के लिए ‘‘दो बल्लेबाज’’ उतारे हैं. मोदी ने कांग्रेस नेताओं मणिशंकर अय्यर और सैम पित्रोदा पर परोक्ष हमला करते हुए कहा कि पार्टी (कांग्रेस) ने चुनाव में अपने खराब प्रदर्शन की जिम्मेदारी लेने का काम इन दोनों को सौंपा है.प्रधानमंत्री ने कहा कि एक व्यक्ति 1984 के सिख विरोधी दंगों पर कहता है – ‘हुआ तो हुआ’ , जबकि दूसरा व्यक्ति गुजरात चुनाव के दौरान मुझे अपशब्द कहने के बाद से पर्दे के पीछे थे और वह अब फिर से मुझ पर हमला कर रहे हैं. पित्रोदा को अपने बयान के कारण कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की नाराजगी का सामना करना पड़ा है. वहीं, अय्यर ने एक आलेख में मोदी के खिलाफ ‘‘नीच’’ संबंधी अपने विवादित बयान को सही ठहराते हुए कहा है कि उन्होंने ऐसा कह कर सही भविष्यवाणी की थी.जनसभा में मौजूदा भारी भीड़ का जिक्र करते हुए मोदी ने कहा कि यह 23 मई को क्या होगा, उसका यह एक जीवंत उदाहरण है. उन्होंने कहा, ‘‘कांग्रेस यह बखूबी समझती है. यही कारण है कि उसने नतीजों के लिए तैयारी शुरू कर दी है. अब आप सोचेंगे कि जब भाजपा – राजग की जीत हो रही है तब कांग्रेस क्यों तैयारी करेगी. उसकी तैयारी है, ‘उसका ठीकरा, पार्टी में, किसके सिर फोड़ें.’’प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘कांग्रेस नहीं कह सकती कि वह नामदार के चलते चुनाव हार गई, जो कि वंशवाद के सिद्धांतों के खिलाफ होगा. पांचवें चरण के बाद (गांधी) परिवार के दो सबसे करीबी दरबारियों ने खुद ही बल्लेबाजी शुरू कर दी. उन्होंने कहा, ‘‘कांग्रेस में शहीद बनने (जिम्मेदारी लेने) की होड़ लगी है.’’उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री ने अक्सर ही कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को नामदार कहते हुए उन पर निशाना साधा है मोदी ने कहा कि कांग्रेस राजद्रोह कानून खत्म करने की बात करती है, जो आतंकवादियों, नक्सलियों और उनके समर्थकों को प्रोत्साहित करेगा. ‘‘लेकिन भाजपा ऐसा नहीं होने देगी. हमारी सरकार ने आतंकवादियों के घर में घुस कर मारा.’’ उन्होंने आदिवासियों को महामिलावटी विचारों के खिलाफ आगाह करते हुए कहा कि उनकी सरकार मूल निवासियों के प्रति प्रतिबद्ध है. उन्होंने कहा, ‘‘दिल्ली में बैठे लोग आदिवासियों के बारे में नहीं सोचते. जब रेलवे उदघोषणा प्रणाली में संथाली भाषा का उपयोग किया गया तब कंपार्टमेंट में बैठे सभी यात्रियों ने तालियां बजाई. यह भाषा पहले भी उपयोग में लाई जा सकती थी. लेकिन उन लोगों को अहंकार था.’’मोदी ने कांग्रेस नेतृत्व पर हमला करते हुए कहा, ‘‘एक परिवार का शासन 55 वर्षों में जो नहीं कर पाया, भाजपा नीत सरकार ने 55 महीनों में वह कर दिखाया.’ उन्होंने कहा, ‘‘देश में विकास हुआ है और सरकार पर एक भी दाग नहीं लगा है. मुझे बाबाधाम में यह कहते हुए गर्व महसूस हो रहा है कि लोगों ने मुझे एक ईमानदार सरकार का नेतृत्व करने की जिम्मेदारी सौंपी है.’’उन्होंने यह याद दिलाया कि किस तरह से अटल बिहारी वाजपेयी ने झारखंड का गठन किया और केंद्र में जनजातीय मामलों का मंत्रालय बनाया. भाजपा के दो बार के सांसद निशिकांत दुबे गोड्डा लोकसभा सीट से चुनाव लड़ रहे है. देवघर इसी सीट के तहत आता है. उनके सामने झारखंड विकास मोर्चा (प्रजातांत्रिक) के उम्मीदवार प्रदीप यादव हैं. गोड्डा, दुमका(एसटी) और राजमहल (एसटी) में 19 मई को लोकसभा चुनाव के आखिरी चरण में मतदान होगा.

मोदी ने अगला कार्यकाल मिलने पर नयी ‘विकास की गंगा’ का वादा किया

पालीगंज (बिहार). लोकसभा चुनाव के अंतिम चरण के मतदान के लिये अभी भले ही पांच दिन बाकी हों, लेकिन प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बुधवार को ही अपनी जीत का दावा करते हुए अगले कार्यकाल में नयी ‘विकास की गंगा’ बहाने का वादा किया.मोदी ने पाटलिपुत्र लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र के तहत आने वाले पालीगंज में एक चुनावी रैली में कहा, ‘‘यह बिहार में मेरी आखिरी चुनावी रैली है. आपने मुझे और इस मंच पर बैठे मेरे योग्य सहयोगियों को बहुत प्यार दिया. मुझे भरोसा है कि चुनाव नतीजे हमारे पक्ष में होंगे, लेकिन अंतिम चरण में यह सुनिश्चित कर दीजिये कि जीत दिव्य और भव्य होगी. पाटलिपुत्र में 19 मई को सातवें और आखिरी चरण में मतदान होना है. उन्होंने कहा, “मेरे अगले कार्यकाल में, मैं दोबारा आपके बीच आऊंगा और विकास की गंगा साथ लाऊंगा.” मोदी ने यह टिप्पणियां भाजपा अध्यक्ष शाह के नयी दिल्ली में किये गए उस दावे के बाद की हैं, जिसमें शाह ने कहा था कि उनकी पार्टी छह चरण के चुनाव के बाद ही बहुमत का आंकड़ा पार कर चुकी है.

उन्होंने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, “मुझे पूरा भरोसा है कि पांचवें और छठे चरण के मतदान के बाद ही भाजपा बहुमत का आंकड़ा पार कर चुकी है. सातवें चरण के बाद भाजपा 300 का आंकड़ा पार कर जाएगी.” इसके अलावा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्रीय सुरक्षा को चुनावी मुद्दा बनाने का विरोध करने को लेकर बुधवार को विपक्ष पर निशाना साधा और कहा कि केवल आक्रामक रणनीति अपनाकर ही आतंकवाद का सफाया किया जा सकता है, जैसा कि उनकी सरकार ने किया. मोदी ने कहा, ‘‘महामिलावटी कहते हैं कि राष्ट्रीय सुरक्षा कोई मुद्दा नहीं है. ऐसा कैसे हो सकता है, जबकि आतंकवादी हमलों के कारण कितने आम लोगों की जान गई है?’’ प्रधानमंत्री मोदी ने बालाकोट हवाई हमलों का परोक्ष जिक्र करते हुए कहा, ‘‘हमने आतंकवादियों को जिस तरह घर में घुसकर मारा, उनका खात्मा होना ही था.’’

प्रधानमंत्री ने इसके अलावा कांग्रेस नेता सैम पित्रोदा के ‘‘हुआ तो हुआ’’ बयान को लेकर भी कांग्रेस की आलोचना की और कहा कि यह 1984 के सिख विरोधी दंगों को लेकर विपक्षी दल के ‘‘अहंकार’’ को दर्शाता है.उन्होंने लालू प्रसाद के राजद का नाम लिए बगैर उस पर भी निशाना साधा और सत्ता हासिल करने के लिए जाति समर्थन का इस्तेमाल करने एवं कार्यकर्ताओं के योगदान को नजरअंदाज करके परिवार के लोगों को आगे बढ़ाने का आरोप लगाया. उन्होंने सत्ता में रहने के दौरान अपराधीकरण को कथित बढ़ावा देने और गरीबों के जीवनस्तर में सुधार के लिए नवोन्मेष करने में ‘‘नाकाम’’ रहने को लेकर भी राजद की आलोचना की.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here