देश

अमित शाह ने कांग्रेस पर हमला बोला, सीएए के विरोधियों को ‘‘दलित विरोधी’’ करार दिया

हुबली (कर्नाटक)/वाराणसी. केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कांग्रेस नेता राहुल गांधी को यह साबित करने की शनिवार को चुनौती दी कि संशोधित नागरिकता कानून किसी भी भारतीय मुस्लिम की नागरिकता छीन लेगा. साथ ही उन्होंने गांधी को यह कानून पूरा पढ़ने की सलाह भी दी. सीएए का विरोध कर रहे लोगों को ‘‘दलित विरोधी’’’ करार देते हुए शाह ने कहा कि नये कानून में ऐसी कोई धारा नहीं है जिसके तहत मुस्लिमों की नागरिकता ले ली जाएगी. साथ ही उन्होंने कांग्रेस और राहुल गांधी पर भ्रम उत्पन्न करने की कोशिश का आरोप लगाया.

शाह ने कहा, ‘‘मैं राहुल गांधी को चुनौती देता हूं…सीएए पूरी तरह पढ़ें, अगर आपको कुछ भी ऐसा मिले जो भारतीय मुस्लिमों की नागरिकता लेता हो…हमारे संसदीय कार्य मंत्री प्र‘‘ाद जोशी आपके साथ चर्चा करने के लिए तैयार हैं.’’ भाजपा के राष्ट्रव्यापी ‘जन जागरण अभियान’ के तहत सीएए पर यहां जनसभा को संबोधित करते हुए उन्होंने कांग्रेस पर देश को धर्म के आधार पर बांटने का आरोप लगाया.

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कांग्रेस, कम्युनिस्ट पार्टी, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरंिवद केजरीवाल, जद(एस), बसपा और सपा पर सीएए को लेकर वोट बैंक की राजनीति करने का आरोप लगाया. मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा, केंद्रीय मंत्री प्र‘‘ाद जोशी और कई अन्य भाजपा नेता रैली में शामिल हुए.

मोदी हैं भारतीय संस्कृति और पंरपरा के ध्वजवाहक
केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भारतीय संस्कृति और परंपरा का ‘‘ध्वजवाहक’’ बताया. वेदांत भारती द्वारा यहां आयोजित एक कार्यक्रम में अपने भाषण में शाह ने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री मोदी भारतीय संस्कृति और परंपरा के ध्वजवाहक के रूप में दुनिया भर का दौरा कर रहे हैं.’’

अपनी बात को साबित करने के लिए भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि मोदी ने प्रधानमंत्री की शपथ लेने से पहले वाराणसी में गंगा में डुबकी लगायी और गंगा आरती में शामिल हुए. उन्होंने कहा कि ऐसा पहली बार हुआ कि मोदी ने पशुपतिनाथ मंदिर में भारत सरकार की ओर से विशेष प्रार्थना के लिए लाल चंदन भेजा. शाह ने धर्मनिरपक्षेता की गलत व्याख्या करने और देश की श्रेष्ठ चीजों का सम्मान करने से रोकने को लेकर पिछली सरकारों की आलोचना भी की. उन्होंने कहा, ‘‘लेकिन लंबे समयांतराल के बाद हमारे पास ऐसे प्रधानमंत्री हैं जो संदेश देते हैं कि दुनिया को देने के लिए हमारे पास काफी चीजें हैं.’’

प्रदर्शनकारियों ने अमित शाह के दौरे से पहले काले रंग के गुब्बारे हवा में उड़ाए
भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह के दौरे से पहले यहां प्रदर्शनकारियों के एक समूह ने ‘अमित शाह वापस जाओ’ के नारे लगाए और हवा में काले रंग के गुब्बारे उड़ाए.

पुलिस द्वारा प्रदर्शन की अनुमति नहीं दिए जाने के बाद भी प्रदर्शनकारियों ने शाह के खिलाफ नारेबाजी की. इन प्रदर्शनकारियों ने खुद को संविधान संरक्षण समिति का सदस्य बताते हुए संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) और राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) के खिलाफ भी नारे लगाए.

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि बाद में पुलिस ने इन लोगों को हिरासत में ले लिया. खबरों के अनुसार कुछ प्रदर्शनकारियों ने विरोध के तौर पर काले गुब्बारे भी हवा में उड़ाए. कई कार्यक्रमों में हिस्सा लेने के बाद शाह बेंगलुरु पहुंचे थे. वह सीएए को लेकर एक जनसभा को शाम में संबोधित करने के लिए हुबली जाएंगे. यह भाजपा के देशव्यापी जन जागरण अभियान का हिस्सा है.

नागरिकता कानून को लेकर लोगों को भड़काने का काम कर रही है कांग्रेस: आदित्यनाथ
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को कांग्रेस पर आरोप लगाया कि विपक्षी पार्टी संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) को लेकर देश के लोगों को भड़काने का काम कर रही है.

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) को लेकर यहां संपूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय के खेल मैदान में आयोजित एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘कांग्रेस नागरिकता कानून को लेकर देश के लोगों को भड़काने का काम कर रही है. उनका यह विरोध भाजपा पार्टी का विरोध नहीं बल्कि देश के खिलाफ षड्यंत्र है.’’ उन्होंने कहा कि गृहमंत्री अमित शाह और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यह निर्णय देश की भावनाओं के अनुरूप लिया है.

मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘संशोधित नागरिकता कानून नागरिकता देने का कानून है, लेने का नहीं है. विपक्षी पार्टियां इस कानून को तोड़ मरोड़ कर प्रस्तुत करके देश में आराजगता फैलाना चाह रहीं हैं. 19 दिसंबर को प्रदेश में आगजनी की गई. सरकार की कड़ी कार्रवाई को देखकर लोग हर्जाने का चेक लेकर आ रहे हैं. समाजवादी पार्टी और बसपा भी देश के विरोधियों के साथ खड़ी हैं जिससे उनका चरित्र भी जनता के सामने आ गया है.’’

उन्होंने कहा, ‘‘मोदी सरकार ने जो कहा सो किया. विपक्षी पार्टियां कहती थीं मंदिर का फैसला आते ही देश में खून की नदियां बहेंगी. पर ऐसा कुछ नहीं हुआ.’’ उन्होंने कहा कि पहली बार महिला सशक्तीकरण का काम तीन तलाक को लेकर हुआ. प्रधानमंत्री मोदी ने इस कुप्रथा को समाप्त किया. योगी आदित्यनाथ ने आरोप लगाते हुए कहा, ‘‘कांग्रेस ने अलगाववाद वाले अनुच्छेद 370 को संविधान में डाल दिया था, जो पूरे देश में आतंकवाद का कारण था. डा. श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने भी कहा था कि देश में दो कानून नहीं चलेगा. भाजपा सरकार ने अनुच्छेद 370 समाप्त करने का महत्वपूर्ण कदम उठाया है.’’

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close