Home देश नेहरू ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद सीट के लिये चीन का पक्ष...

नेहरू ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद सीट के लिये चीन का पक्ष लिया था : जेटली

28
0

नयी दिल्ली. कांग्रेस पर निशाना साधते हुए वित्त मंत्री अरूण जेटली ने बृहस्पतिवार को कहा कि प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू मूल रूप से दोषी हैं जिन्होंने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की स्थायी सदस्यता के लिये भारत की बजाय चीन का पक्ष लिया था.

केंद्रीय मंत्री अरूण जेटली का यह बयान ऐसे समय में आया है जब आतंकी गुट जैश ए मुहम्मद के मुखिया मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करने के मामले में चीन के वीटो के मुद्दे पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर चीन के राष्ट्रपति शी चिनंिफग से डरे होने और चीन के सामने घुटने टेकने का आरोप लगाया.

जेटली ने इस पर पलटवार किया और दो अगस्त 1955 को नेहरू द्वारा मुख्यमंत्रियों को लिखे पत्र का हवाला देते हुए कहा, ‘‘ कश्मीर और चीन, दोनों पर मूल गलती एक ही व्यक्ति द्वारा की गई.’’ आम चुनाव में भाजपा की प्रचार समिति के प्रमुख जेटली ने अपने ट्वीट में इस पत्र के कुछ अंशों को उद्धृत भी किया.

वित्त मंत्री ने कहा कि नेहरू द्वारा दो अगस्त 1955 को मुख्यमंत्रियों को लिखे पत्र से स्पष्ट होता है कि अनौपचारिक रूप से अमेरिका ने सुझाया था कि चीन को संयुक्त राष्ट्र में लिया जाए लेकिन उसे सुरक्षा परिषद में नहीं लिया जाए तथा भारत को सुरक्षा परिषद में लिया जाए.

जेटली ने अपने ट्वीट में नेहरू के पत्र के हवाले से कहा कि इसे स्वीकार नहीं कर सकते और यह चीन जैसे महान देश के साथ उचित नहीं होगा कि वह सुरक्षा परिषद में नहीं हो. राहुल गांधी पर चुटकी लेते हुए जेटली ने पूछा कि क्या कांग्रेस अध्यक्ष यह बतायेंगे कि मूल दोषी कौन था?

अजहर 1994 में दिल्ली के अशोक, जनपथ होटलों में ठहरा था
आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद का संस्थापक मसूद अजहर जनवरी 1994 में जब पहली बार भारत आया था तो वह राजधानी के संभ्रांत इलाके चाणक्यपुरी इलाके में स्थित एक होटल में ठहरा था. इसके साथ ही उसने अपने पुर्तगाली पासपोर्ट के संबंध में आव्रजन अधिकारियों को चकमा देते हुए दावा किया था कि वह ‘‘जन्म से गुजराती’’ है.

पाकिस्तान के इस आतंकवादी को अगले दो सप्ताह के अंदर ही जम्मू कश्मीर में गिरफ्तार कर लिया गया था. उसकी आव्रजन रिपोर्ट के अनुसार वह होटल जनपथ में भी ठहरा था और उसने लखनऊ, सहारनपुर और देवबंद का भी दौरा किया था. अजहर का संगठन 2001 में संसद पर हमला, पिछले महीले पुलवामा में सीआरपीएफ जवानों पर हमला सहित कई आतंकवादी हमलों में शामिल रहा है. अजहर बांग्लादेश की यात्रा के बाद नकली पुर्तगाली पासपोर्ट पर भारत आया था.

सुरक्षा एजेंसियों के पास उपलब्ध आव्रजन रिपोर्ट के अनुसार, ‘‘मैं दो दिन ढाका में रहा और उसके बाद बांग्लादेश एयरलाइंस से दिल्ली की यात्रा की. 29 जनवरी 1994 को तड़के आईजीआई हवाई अड्डा पहुंचा. हवाई अड्डा पर आव्रजन अधिकारियों ने कहा कि मैं पुर्तगाली नहीं दिखता लेकिन जब मैंने कहा कि मैं जन्म से गुजराती हूं, तब उन्होंने मेरे पासपोर्ट पर मुहर लगा दी.’’

रिपोर्ट के अनुसार, ‘‘मैंने एक टैक्सी ली और चालक से एक अच्छा होटल चलने को कहा. मुझे चाणक्यपुरी में अशोक होटल ले जाया गया जहां मैं ठहरा.’’ अजहर ने पूछताछ करने वाले अधिकारियों से कहा कि उसने रात में अशरफ डार को फोन किया जो कश्मीरी था. वह आतंकवादी संगठन हरकत-उल-अंसार के सदस्य अबु महमूद के साथ अशोक होटल आया.

अजहर उन दोनों के साथ देवबंद और वहां से सहारनपुर गया. 31 जनवरी, 1994 को दिल्ली लौटने के बाद वह होटल जनपथ में ठहरा जो कनॉट प्लेस के पास है. इसके बाद वह लखनऊ गया. लेकिन उसने कहीं भी अपनी असली पहचान नहीं बतायी. लखनऊ से लौटने के बाद वह करोल बाग में होटल शीशमहल में रूका. इन सभी होटलों में उसने अपनी पहचान पुर्तगाली नागरिक वली अदम इस्सा बतायी.

वह नौ फरवरी 1994 को श्रीनगर पहुंचा और अशरफ डार उसे लाल बाजार में मदरसा कासमियान ले गया. वहां उसके लिए एक कमरे की व्यवस्था की गयी थी. बाद में उसे सेना ने गिरफ्तार कर लिया था. उसे 1999 में इंडियन एयरलाइंस के एक विमान के अपहरण के बाद यात्रियों की रिहाई के बदले दो अन्य आतंकवादियों के साथ रिहा किया गया था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here