Home देश अब पूरे देश में एक संविधान, एक निशान और एक प्रधान है:...

अब पूरे देश में एक संविधान, एक निशान और एक प्रधान है: सिंह

34
0

लखनऊ. रक्षा मंत्री राजनाथ ंिसह ने शुक्रवार को कहा कि अनुच्छेद 370 के ज्यादातर प्रावधानों और अनुच्छेद 35ए को हटाये जाने से अब पूरे देश में एक संविधान, एक निशान और एक प्रधान है.

उन्होंने कहा, ‘‘आज हमारे पास पूर्ण बहुमत की सरकार हैं. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह की इच्छा शक्ति की वजह से हम अनुच्छेद 370 के प्रावधानों और अनुच्छेद 35ए को हटाने में कामयाब हो पाये हैं. अब पूरे देश में जो कानून लागू होगा है वही कानून जम्मू-कश्मीर में भी लागू होगा. अब पूरे देश में एक संविधान, एक निशान और एक प्रधान है.’’

ंिसह ने यहां भाजपा कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुये कहा कि भाजपा के कार्यकर्ताओं की वजह से ही पार्टी को पूरे देश में 303 सीटें मिली हैं. हम चर्चा करते थे कि जब हमारी सरकार आयेगी तो अनुच्छेद 370 हटायेंगे. देश में एक कानून होगा, जहां एक निशान, एक विधान और एक प्रधान होगा. जनसंघ के संस्थापक डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी लगातार अनुच्छेद 370 का विरोध किया करते थे.

उन्होंने कहा कि हम इसे बहुत पहले ही हटाना चाहते थे लेकिन पूर्ण बहुमत नहीं होने के कारण हम ऐसा नहीं कर सके थे. उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस देश को तोड़ना चाहती है और कहती है कि जम्मू कश्मीर में अनुच्छेद 370 नहीं हटना चाहिए. ंिसह ने कहा कि 1964 में हमारी सरकार नहीं थी, कांग्रेस की सरकार थी और उस समय लोकसभा में सर्वसम्मति से प्रस्ताव पारित हुआ था कि अनुच्छेद 370 हटना चाहिए लेकिन कांग्रेस ने ऐसा नहीं किया.

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान अलग-अलग देशों से हमारी शिकायत करता था, लेकिन आज पाकिस्तान हमारी विदेश नीति की वजह से अलग थलग पड़ गया है. कोई भी देश पाकिस्तान का साथ देने को तैयार नहीं है. आज दुनिया के बड़े बड़े राष्ट्र अमेरिका,जर्मनी, फ्रांस आदि भी मानते हैं कि पाकिस्तान में अल्पसंख्यक समुदाय पर बहुत अत्याचार होता है और उनको प्रताड़ित तथा शोषित किया जाता है.

रक्षा मंत्री ने कहा, ‘‘ हम यकीन दिलाना चाहते हैं कि भारत की ताकत लगातार बढ़ रही है और हमने किसी दूसरे देश पर आक्रमण नहीं किया है. हमारी सैन्य शक्ति भी बढ़ रही है और आने वाले समय में दुनिया का कोई भी देश भारत की तरफ आंख उठाकर नहीं देख सकता.’’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here