देशविदेश

कश्मीर में सारी पाबंदियां हटाई जाएं : इमरान खान

करतारपुर/दुबई. पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान और उनके विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने शनिवार को करतारपुर गलियारे के उद्घाटन के मौके पर कश्मीर मुद्दा उठाया और भारत से अपील की कि जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा समाप्त करने के बाद घाटी में लगाई गई सभी पाबंदियों को खत्म किया जाए. प्रधानमंत्री खान ने करतारपुर गलियारे का उद्घाटन किया. इसके माध्यम से सिख श्रद्धालु पाकिस्तान के पंजाब स्थित उस स्थान के दर्शन कर सकेंगे जहां सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक देव ने अंतिम समय बिताया.

गलियारे के माध्यम से सिख श्रद्धालु वीजा मुक्त यात्रा कर सकेंगे और वे करतारपुर में गुरुद्वारा दरबार साहिब तक जा सकेंगे जहां गुरु नानक देव ने अपने जीवन के 18 वर्ष बिताए थे. कश्मीर का मुद्दा उठाते हुए खान ने कहा कि उन्होंने अपने भारतीय समकक्ष नरेन्द्र मोदी से पहली बैठक में कहा था कि इसका समाधान किया जाना चाहिए.

खान ने कहा, ‘‘कश्मीर में आज हम जो देख रहे हैं कि यह अब जमीन का मुद्दा नहीं है. यह मानवीय संकट बन गया है. कश्मीर के लोगों के लिए चीजें और भी खराब हो गई हैं जिनसे जानवरों जैसा व्यवहार होने लगा है, उन्हें मूलभूत मानवाधिकारों से वंचित किया जा रहा है और उनके इर्द-गिर्द नौ लाख सैनिक मौजूद हैं.’’ प्रधानमंत्री खान ने कहा कि उपमहाद्वीप का तभी विकास होगा जब कश्मीर मुद्दे का समाधान हो जाएगा.

उन्होंने कहा, ‘‘कश्मीर मुद्दे का समाधान होने से भारत और पाकिस्तान की समृद्धि बढ़ेगी और दोनों देशों का विकास होगा. कश्मीर मुद्दे के कारण दोनों देशों के बीच 70 वर्षों से नफरत चली आ रही है. भारत को कश्मीर के लोगों के साथ न्याय सुनिश्चित करना चाहिए. उम्मीद है कि हमारे संबंध सुधरेंगे.’’ प्रधानमंत्री खान ने कहा कि एक नेता हमेशा लोगों को एक साथ लाता है न कि उन्हें बांटता है.

इससे पहले प्रधानमंत्री मोदी ने 500 श्रद्धालुओं के पहले जत्थे को रवाना करते हुए कहा कि करतारपुर गलियारा खुलने से दरबार साहिब गुरुद्वारा में मत्था टेकना आसान हो जाएगा. उन्होंने खान को धन्यवाद देते हुए कहा कि ऐतिहासिक गलियारा खुलने से काफी खुशी हुई है. मोदी ने कहा, ‘‘मैं पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान को धन्यवाद देता हूं जिन्होंने भारत की इच्छाओं को समझा और करतारपुर को हकीकत में तब्दील किया.’’

विदेश मंत्री कुरैशी ने अपने भाषण में कहा कि करतारपुर गलियारा खोलने के लिए मोदी ने खान को धन्यवाद दिया, क्या भारत के प्रधानमंत्री अपने पाकिस्तानी समकक्ष को भी धन्यवाद बोलने का मौका देंगे. उन्होंने कहा, ‘‘आप कश्मीर में कर्फ्यू खत्म कर, पैलेट गन का इस्तेमाल बंद कर, मानवाधिकारों का उल्लंघन समाप्त कर और संचार पाबंदियां हटाकर ऐसा कर सकते हैं.’’

कुरैशी ने कहा कि जिस तरह से करतारपुर के दरवाजे खुले हैं उसी तरह से श्रीनगर के जामिया मस्जिद के दरवाजे भी खुलने चाहिए ताकि कश्मीरी जुम्मे की नमाज पढ़ सकें. समझौते के तहत प्रतिदिन पांच हजार भारतीय तीर्थयात्री गुरुद्वारा दरबार साहिब की यात्रा कर सकेंगे.

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने औपचारिक रूप से करतारपुर गलियारे का उद्घाटन किया
सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक देव के 550वें प्रकाश पर्व से कुछ दिन पहले पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने शनिवार को औपचारिक रूप से ऐतिहासिक करतारपुर गलियारे का उद्घाटन किया. इमरान ने गलियारे का उद्घाटन पर्दे को हटा कर किया जिसे गर्म हवा से भरे गुब्बारे के सहारे हटाया गया. उद्घाटन स्थल पर विशाल आकार के ‘कृपाण’ को प्रर्दिशत किया गया.

इस मौके पर मौजूद भारत के पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन ंिसह और क्रिकेटर से राजनीतिज्ञ बने नवजोत ंिसह सिद्धू सहित 12,000 श्रद्धालुओं को संबोधित करते हुए खान ने कहा, ‘‘ एक साल पहले तक मैं करतारपुर के महत्व को लेकर अनभिज्ञ था.’’ गुरुनानक देव ने अपने जीवन के आखिर 18 साल करतारपुर साहिब में बिताए थे.

खान ने भारत के गुरदासपुर स्थित बाबा नानक गुरुद्वारे को पाकिस्तान के करतारपुर स्थित गुरुद्वारा दरबार साहिब से जोड़ने वाले इस गलियारे के रास्ते आए भारतीय सिख श्रद्धालुओं के पहले जत्थे का स्वागत किया. ससे पहले विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने कहा था कि करतारपुर के दरवाजे सिख श्रद्धालुओं के लिए खोल दिए गए हैं.

इस मौके पर लोगों को संबोधित करते हुए कुरैशी ने कश्मीर मुद्दे को याद करते हुए कहा, ‘‘ अगर र्बिलन की दीवार गिराई जा सकती है, अगर करतारपुर गलियारे को खोला जा सकता है तो अस्थायी नियंत्रण रेखा की सीमा को भी खत्म किया जा सकता है.’’ उससे पूर्व प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने करीब 500 श्रद्धालुओं को गुरदासपुर से करतारपुर के लिए रवाना किया था और कहा था कि करतारपुर गलियारा खुलने से दरबार साहिब गुरुद्वारे में दर्शन करना आसान हो जाएगा .

मोदी ने कहा था कि देश को करतारपुर गलियारा सर्मिपत कर पाना उनका सौभाग्य है. उन्होंने कहा था कि करतारपुर गलियारा और एकीकृत जांच चौकी के खुलने से लोगों को दोगुनी खुशी मिलेगी . इस पहले जत्थे में अकाल तख्त के जत्थेदार हरप्रीत ंिसह, पंजाब के मुख्यमंत्री अमंिरदर ंिसह, पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश ंिसह बादल, सुखबीर ंिसह बादल, केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल भी शामिल हैं.

शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंध कमेटी (एसजीपीसी) के सदस्य और पंजाब के सभी 117 विधायक और सांसद भी इस जत्थे का हिस्सा हैं. प्रधानमंत्री खान ने गुरुनानक देव के 550वें प्रकाश पर्व पर सिख समुदाय को बधाई देते हुए कहा कि करतारपुर गलियारे का खुलना ऐतिहासिक है और यह क्षेत्रीय शांति के लिए पाकिस्तान की प्रतिबद्धता का सबूत है.

उन्होंने कहा, ‘‘ हम मानते हैं कि क्षेत्र में खुशहाली और आने वाली पीढ़ी के उज्ज्वल भविष्य का रास्ता शांति में है. आज हम केवल सीमा ही नहीं खोल रहे हैं बल्कि सिख समुदाय के लिए दिल के दरवाजे भी खोल रहे हैं.’’ इमरान खान ने कहा कि सौहार्द के लिए उनकी सरकार की अनोखी पहल दिखाता है कि वह गुरु नानक देव और सिख समुदाय की धार्मिक भावनाओं का सम्मान करती है.

उन्होंने कहा, ‘‘ पाकिस्तान मानता है कि धर्मों के बीच सौहार्द और शांतिपूर्ण सह अस्तित्व से इस उपमहाद्वीप के लोगों के वृहद हित में काम करने के मौके मिलेंगे. उल्लेखनीय है कि तनावपूर्ण संबंध होने के बावजूद भारत और पाकिस्तान ने पिछले महीने करार किया था जिससे करतारपुर गलियारे के उद्घाटन का रास्ता साफ हुआ. करार के तहत पाकिस्तान रोजाना 5,000 श्रद्धादलुओं को गुरुद्वारा करतारपुर साहिब के दर्शन करने की अनुमति देगा.

करतारपुर गलियारा खोलना क्षेत्रीय शांति की पाक की प्रतिबद्धता का प्रमाण है : इमरान खान
पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने शनिवार को कहा कि ऐतिहासिक करतारपुर साहिब गलियारे को खोलना क्षेत्रीय शांति बनाए रखने में पाकिस्तान की प्रतिबद्धता का प्रमाण है. इसके साथ ही उन्होंने सिख धर्म के संस्थापक बाबा गुरु नानक देव की 550वीं जयंती पर सिख समुदाय को बधाई दी.

करतारपुर गलियारा भारत के पंजाब में डेरा बाबा नानक गुरुद्वारे को पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में नारोवाल जिले के करतारपुर स्थित दरबार साहिब से जोड़ता है. यह गलियारा शनिवार को खुल गया जो दोनों देशों के बीच संबंधों में बेहतरी की उम्मीद देने के साथ लोगों के बीच आपसी संपर्क की ऐतिहासिक पहल है. गुरुद्वारा करतारपुर साहिब पाकिस्तान में रावी नदी के पार स्थित है और यह पंजाब के गुरदासपुर जिले में डेरा बाबा नानक गुरुद्वारे से करीब चार किलोमीटर दूर स्थित है.

करतारपुर साहिब गलियारे को खोलने के मौके पर अपने संदेश में प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘हमारा मानना है कि क्षेत्र की समृद्धि का रास्ता और आने वाली पीढ़ियों का उज्ज्वल भविष्य शांति में निहित है.’’ सरकारी रेडियो पाकिस्तान ने उनके हवाले से कहा, ‘‘आज हम केवल सीमा नहीं खोल रहे हैं बल्कि सिख समुदाय के लिए अपने दिलों को भी खोल रहे हैं.’’

खान ने कहा कि उनकी सरकार द्वारा दिखायी सद्भावना की अभूतपूर्व भावना बाबा गुरु नानक देव और सिख समुदाय की धार्मिक भावनाओं के लिए उसके गहरे सम्मान को दर्शाती है. खबर के अनुसार, खान ने इस ऐतिहासिक दिन पर सीमा के दोनों ओर तथा दुनियाभर के सिख समुदाय को बधाई दी. उन्होंने कहा कि पाकिस्तान का मानना है कि परस्पर सौहार्द्र और शांति के एक साथ रहने से इस उपमहाद्वीप के लोगों के वृहद हितों के लिए काम करने का अवसर मिलेगा.

करतारपुर गलियारे को खोलने का कदम भारत, पाकिस्तान को साथ लाने का बड़ा मौका : यूएई के सिख
संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) के सिख समुदाय के एक नेता ने कहा कि करतारपुर साहिब गलियारे का खोला जाना सिख समुदाय के लिए भारत और पाकिस्तान को साथ लाने का बड़ा मौका है. इस पावन मौके के लिए उन्होंने दोनों देशों के नेताओं का आभार जताया. सुरेंद्र ंिसह कंधारी ने कहा कि सिखों के लिए करतारपुर का ऐतिहासिक और धार्मिक महत्व है क्योंकि यहीं पर सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक देव ने अपने अंतिम दिन बिताए थे.

उन्होंने कहा, ‘‘हमारे लिए यह गुरु नानक देव जी के जन्म स्थान पाकिस्तान में ननकाना साहिब की तरह ही महत्वपूर्ण है.’’ कंधारी ने एक बयान में कहा, ‘‘हम गुरुद्वारा गुरु नानक दरबार दुबई में और यूएई में समस्त सिख और भारतीय समुदाय की ओर से इस फैसले पर बहुत खुश हैं.’’ कंधारी ने कहा कि गुरुद्वारा गुरु नानक दरबार, दुबई इस महत्वपूर्ण अवसर पर सिख समुदाय के लिए खोले जाने को लेकर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के कदम की भी प्रशंसा करता है.

उन्होंने आयोजन को सिख समुदाय के लिए इस मुश्किल घड़ी में भारत और पाकिस्तान को साथ लाने का भी एक बड़ा अवसर बताया. कंधारी ने कहा, ‘‘हमें उम्मीद है कि यह आयोजन दोनों को साथ लाएगा और सहयोग तथा शांतिपूर्ण माहौल से आगे संबंध बेहतर होंगे.’’

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close