देशलाइफस्टाइल

रोजाना आधा किमी दूर सिर पर ढोकर पानी लाने से दुखी गरीब मजदूर ने पत्नी को तोहफा देने, खोदा 31 फीट गहरा कुआं

गुना. पत्नी को रोजाना आधा किलोमीटर दूर से पीने का पानी सिर पर ढोकर लाने से दुखी 46 वर्षीय एक गरीब मजदूर ने उसे तोहफा देने के लिए 15 दिन में अपनी झोपड़ी के पास खुद का कुआं खोद दिया और उसे पानी ढोने की समस्या से निजात दिलाई.

यह तोहफा मध्यप्रदेश के गुना जिले के चाचौड़ा तहसील के भानपुर बावा गांव में रहने वाले भरत ंिसह ने अपनी पत्नी सुशीला को दो माह पहले दी है. इससे न केवल उसकी पत्नी को आधा किलोमीटर दूर से सिर पर पानी ढोकर लाने से निजात मिली, बल्कि अपनी आधा बीघा जमीन की ंिसचाई करने की व्यवस्था भी हो गयी.

ंिसह ने बुधवार को ‘भाषा’ को बताया, ‘‘हमारे घर में पीने के पानी की व्यवस्था नहीं थी. मेरी पत्नी को आधा किलोमीटर दूर हैंडपंप पर पानी लेने जाना पड़ता था. इसमें उसे कई प्रकार की परेशानियों का सामना करना पड़ता था. कई बार हैंडपंप खराब हो जाने के कारण बिना पानी के ही रहने पड़ता था.’’

उन्होंने कहा कि एक दिन जब हैंडपंप खराब होने के चलते पत्नी सुशीला बिना पानी के लौटी और उसने मुझे बताया, तो पत्नी की इसी परेशानी को देखते हुए मैंने अपने घर पर ही कुआं खोदने की ठान ली. ंिसह ने बताया, ‘‘शुरुआत में तो मेरी पत्नी ने मुझे उलाहना देते हुए कहा कि यह संभव नहीं है, तुम कुआं नहीं खोद सकते और उसका यही उलाहना मेरे लिए प्रेरणादायी बना और मैंने घर में ही करीब ढाई महीने पहले कुआं खोदने की शुरुआत की .’’

उन्होंने कहा कि 15 दिन की लगातार कड़ी मेहनत के बाद मैंने छह फीट व्यास वाला गोल 31 फीट गहरा कुआं खोद दिया और इस कुएं को ईंट, सीमेंट एवं रेत से पक्का भी कर दिया. उन्होंने कहा कि इस कुएं को बने हुए अब करीब दो माह हो गये हैं.

ंिसह ने बताया, ‘‘कुआं बनने से इससे मिलने वाले पानी से न केवल हमारी पेयजल की समस्या दूर हुई, बल्कि आधा बीघा जमीन की ंिसचाई करने की व्यवस्था भी हो गयी.’’ उन्होंने कहा कि मैं अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) का हूं और मेरे परिवार में बूढ़ी मां, पत्नी एवं एक बच्चा सहित चार लोग हैं. मेरा परिवार झोपड़ी में रहता है और गरीबी रेखा से नीचे आता है.

ंिसह ने बताया कि मेरे द्वारा पूरे प्रयास करने के बाद भी मेरे परिवार को राशन कार्ड अब तक नहीं मिला है. गुना जिले के कलेक्टर कुमार पुरूषोत्तम ने भी भरत ंिसह द्वारा 15 दिन में कुएं खोदे जाने के कार्य की तारीफ की है. पुरूषोत्तम ने जिला पंचायत के अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि उसके बेहतर जीवन के लिए उसे प्रधानमंत्री आवास योजना एवं अन्य विभिन्न सरकारी योजनाओं का लाभ मुहैया कराएं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close