Home देश राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने आर्मी एविएशन कोर को ध्वज प्रदान किया

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने आर्मी एविएशन कोर को ध्वज प्रदान किया

23
0

नासिक. राष्ट्रपति रामनाथ कोंिवद ने गुरुवार को यहां एक समारोह में आर्मी एविएशन कोर (सेना विमानन कोर) को प्रतिष्ठित ‘प्रेसिडेंट्स कलर’ (ध्वज) प्रदान किया और पूरे समर्पण के साथ राष्ट्र की सेवा करने के लिए सेना की इस शाखा की सराहना की.

राष्ट्रपति सेना के तीनों अंगों के सर्वोच्च कमांडर भी हैं. उन्होंने नासिक रोड स्थित कॉम्बैट आर्मी एविएशन ट्रेंिनग स्कूल में आयोजित एक भव्य परेड समारोह में यह सम्मान प्रदान किया. इस अवसर पर उन्होंने अपने संबोधन में कोर के सदस्यों से कहा, ‘‘भारतीय सेना और राष्ट्र को आप पर गर्व है.’’ कोंिवद ने आर्मी एविएशन कोर की राष्ट्र-निर्माण के लिए उनके अपार योगदान को लेकर सराहना की.

उन्होंने कहा कि कोर ने सभी क्षेत्रों में उत्कृष्ट प्रदर्शन किया है और विभिन्न अभियानों में अपनी वीरता साबित की है. कोर की अभी तक की यात्रा वीरता, सम्मान और गौरव की कहानियों से भरी हुई है. उन्होंने कहा, ‘‘मुझे अपने बहादुर सैनिकों के बीच उपस्थित होकर बहुत खुशी मिलती है. सशस्त्र बलों के सर्वोच्च कमांडर के तौर पर मैं इस यात्रा को हमारे देश के सशस्त्र बलों को सर्मिपत करता हूं.’’

इस सम्मान का मिलना इस बात की स्वीकृति है कि आर्मी एविएशन कोर ने सराहनीय सेवा दी है. यह सम्मान उत्कृष्टता का प्रतीक है और एएसी ने युद्ध और शांति दोनों समय में बेहतरीन योगदान के माध्यम से इसे अर्जित किया है. आर्मी एविएशन कोर को दो महावीर चक्र, 16 वीर चक्र, 13 शौर्य चक्र, 115 सेना पदक मिल चुके हैं.

कोंिवद 9 से 13 अक्टूबर तक महाराष्ट्र, कर्नाटक और गुजरात की अपनी यात्रा के तहत बुधवार रात यहां पहुंचे. गुरुवार को बाद में वह नासिक के देवलाली स्थित स्कूल आॅफ आर्टिलरी जाएंगे और फिर मैसूर के महाराजा श्री जयचामराज वाडियार के जन्म शताब्दी समारोह में शामिल लेने कर्नाटक जाएंगे.

वह 11 अक्टूबर को मैसूरु के वरुणा ग्राम में जेएसएस उच्च शिक्षा एवं अनुसंधान अकादमी के परिसर का शिलान्यास करेंगे. वह 12 अक्टूबर को बेंगलुरु में स्वामी विवेकानंद योग अनुसंधान संस्थान का दौरा करेंगे. 13 अक्टूबर को वह गुजरात के कोबा में श्री महावीर जैन आराधना केंद्र का दौरा करेंगे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here