देशव्यापार

कोरोना वायरस को लेकर चिंता के बीच शेयर बाजारों में लगाताार पांचवें कारोबारी सत्र में गिरावट

मुंबई. कोरोना वायरस के महामारी का रूप लेने की आशंका के बीच बृहस्पतिवार को शेयर बाजारों में लगातार पांचवें कारोबारी सत्र में गिरावट का सिलसिला जारी रहा. बैंक, सूचना प्रौद्योगिकी और ऊर्जा कंपनियों के शेयरों में बिकवाली से बंबई शेयर बाजार का सेंसेक्स 143 अंक और नीचे आ गया.

कारोबारियों ने कहा कि फरवरी माह के डेरिवेटिव अनुबंधों के निपटान की वजह से भी बाजार में उतार-चढ़ाव रहा. बंबई शेयर बाजार का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स दिन में कारोबार के दौरान एक समय 465.69 अंक टूटने के बाद अंत में 143.30 अंक या 0.36 प्रतिशत के नुकसान से 39,745.66 अंक पर बंद हुआ.

इसी तरह नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 45.20 अंक या 0.39 प्रतिशत के नुकसान से 11,633.30 अंक पर आ गया. इस तरह पांच कारोबारी सत्रों में सेंसेक्स 1,577.34 अंक नीचे आ चुका है. वहीं निफ्टी भी 492.60 अंक टूट चुका है. सेंसेक्स की कंपनियों में ओएनजीसी में सबसे अधिक गिरावट दर्ज हुई. एचसीएल टेक, मंिहद्रा एंड मंिहद्रा, एसबीआई, इंडसइंड बैंक और आईसीआईसीआई बैंक के शेयर भी नुकसान में रहे.

वहीं दूसरी ओर सनफार्मा, टाइटन, एशियन पेंट्स और एक्सिस बैंक के शेयर चढ़ गए. निवेश का सुरक्षित विकल्प मानी जाने वाली संपत्तियों मसलन सोना और अमेरिकी बांड मजबूत हुए हैं. वहीं दुनियाभर के बाजार नीचे आए हैं. अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने घोषणा की है कि अमेरिका कोविड-19 को और फैलने से रोकने के लिए प्रयास कर रहा है.

आनंद राठी शेयर्स एंड स्टॉक ब्रोकर्स के प्रमुख बुनियादी शोध (निवेश सेवाएं)-एवीपी (इक्विटी अनुसंधान) नरेंद्र सोलंकी ने कहा कि भारतीय बाजार नकारात्मक दायरे में रहे. कोरोना वायरस को लेकर निवेशकों की ंिचता बढ़ी है. वे सोना और बांड जैसे सुरक्षित विकल्पों का रुख कर रहे हैं.

चालू वित्त वर्ष की अक्टूबर-दिसंबर, 2019 की तीसरी तिमाही में सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) की वृद्धि दर 4.5 प्रतिशत पर स्थिर रहने का अनुमान लगाया गया है. इससे भी धारणा प्रभावित हुई. सरकार दिसंबर तिमाही के जीडीपी आंकड़े शुक्रवार को जारी करेगा. कारोबारियों ने कहा कि विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई) की जोरदार बिकवाली से भी खुदरा निवेशकों की धारणा प्रभावित हुई है.

शेयर बाजारों के अस्थायी आंकड़ों के अनुसार इस सप्ताह एफपीआई ने शुद्ध रूप से 6,812.57 करोड़ रुपये के शेयर बेचे हैं. बीएसई मिडकैप और स्मॉलकैप में 0.83 प्रतिशत तक की गिरावट आई. दक्षिण कोरिया का कॉस्पी और जापान के निक्की में उल्लेखनीय गिरावट दर्ज हुई. वहीं चीन के शंघाई और हांगकांग के हैंगसेंग में लाभ रहा. यूरोपीय बाजार शुरुआती कारोबार में नीचे चल रहे थे.

ब्रेंट कच्चा तेल वायदा 1.33 प्रतिशत के नुकसान से 52.11 डॉलर प्रति बैरल पर आ गया. अंतर बैंक विदेशी विनिमय बाजार में दिन में कारोबार के दौरान रुपया मामूली बढ़त के साथ 71.62 रुपये प्रति डॉलर पर चल रहा था.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close