देशव्यापार

सेंसेक्स में तीन दिन के तेजी के सिलसिले पर ब्रेक, 25 अंक टूटा

मुंबई. बीएसई सेंसेक्स में तीन दिन के तेजी के सिलसिले पर बुधवार को बेक लगा और उतार-चढ़ाव भरे कारोबार में इसमें 25 अंक की मामूली गिरावट आई. वैश्विक बाजारों के मिलेजुले रुख के बीच निवेशकों द्वारा बैंंिकग और वित्तीय कंपनियों के शेयरों में मुनाफा काटने से बाजार नीचे आया.

बीएसई का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स दिन में कारोबार के दौरान 721 अंक ऊपर-नीचे हुआ. अंत में यह 24.79 अंक या 0.05 प्रतिशत के नुकसान से 49,492.32 अंक पर बंद हुआ. दिन में कारोबार के दौरान सेंसेक्स ने 49,795.19 अंक का अपना सर्वकालिक उच्चस्तर भी छुआ.

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 1.40 अंक या 0.01 प्रतिशत के लाभ से 14,564.85 अंक के अपने नए रिकॉर्ड पर बंद हुआ. दिन में कारोबार के दौरान इसने 14,653.35 अंक का सर्वकालिक उच्चस्तर भी छुआ. सेंसेक्स की कंपनियों में मंिहद्रा एंड मंिहद्रा का शेयर सबसे अधिक 6.24 प्रतिशत चढ़ गया. एसबीआई, आईटीसी, एनटीपीसी, भारती एयरटेल और एक्सिस बैंक के शेयर भी लाभ में रहे.

वहीं दूसरी ओर बजाज फाइनेंस, एचडीएफसी, बजाज फिनसर्व, टाइटन, सन फार्मा और डॉ. रेड्डीज के शेयरों में 2.85 प्रतिशत की गिरावट आई. रिलायंस सिक्योरिटीज के प्रमुख-रणनीति विनोद मोदी ने कहा कि घरेलू शेयर बाजारों में उतार-चढ़ाव रहा और इसने अपना शुरुआती लाभ गंवा दिया. बड़ी संख्या में शेयरों में मुनाफावसूली का सिलसिला चला.

मोदी ने कहा, ‘‘नवंबर, 2020 के औद्योगिकी उत्पादन (आईआईपी) में गिरावट से संकेत मिलता है कि वित्त मंत्री आगामी बजट में आर्थिक गतिविधियों को प्रोत्साहन के लिए अधिक उपाय करेंगी.’’ उन्होंने कहा, ‘‘हमारा मानना है कि दिसंबर, 2020 के उच्च चक्रीय महत्वपूर्ण आर्थिक आंकड़ों में सुधार बाजार मांग बढ़ने का संकेत है. यह बाजार की दृष्टि से अच्छा है. इसके अलावा कंपनियों के तीसरी तिमाही के नतीजे भी अच्छे रहे हैं. कमजोर डॉलर और वैश्विक बैंकरों की नरम मौद्रिक नीति के चलते घरेलू शेयरों में विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों का आकर्षण बना रहेगा.’’

सब्जियों की कीमतों में गिरावट से दिसंबर में खुदरा मुद्रास्फीति घटकर 4.59 प्रतिशत के 15 माह के निचले स्तर पर आ गई है. नवंबर महीने में औद्योगिक उत्पादन में 1.9 प्रतिशत की गिरावट आई है. दो माह के अंतराल के बाद औद्योगिक उत्पादन की वृद्धि दर फिर नकारात्मक हो गई है. बीएसई मिडकैप और स्मॉलकैप में क्रमश: 0.63 प्रतिशत की गिरावट आई.

आईटी कंपनी इन्फोसिस का तीसरी तिमाही का एकीकृत शुद्ध लाभ 16.6 प्रतिशत बढ़कर 5,197 करोड़ रुपये पर पहुंच गया है. वहीं विप्रो का शुद्ध लाभ 21 प्रतिशत बढ़कर 2,968 करोड़ रुपये रहा है. इन कंपनियों के तिमाही नतीजे बाजार बंद होने के बाद आए.

अन्य एशियाई बाजारों में चीन के शंघाई कम्पोजिट तथा हांगकांग के हैंगसेंग में गिरावट आई. वहीं दक्षिण कोरिया के कॉस्पी और जापान के निक्की में लाभ रहा. शुरुआती कारोबार में यूरोपीय बाजार लाभ में थे. इस बीच, वैश्विक बाजार में ब्रेंट कच्चा तेल 0.28 प्रतिशत की बढ़त के साथ 56.74 प्रति डॉलर पर पहुंच गया.

अंतरबैंक विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में रुपया 10 पैसे की बढ़त के साथ 73.15 प्रति डॉलर पर पहुंच गया. शेयर बाजारों के अस्थायी आंकड़ों के अनुसार विदेशी संस्थागत निवेशकों ने बुधवार को शुद्ध रूप से 571.47 करोड़ रुपये के शेयर खरीदे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close