देशशिक्षा

‘चंद्रयान-2’ के लैंडर ‘विक्रम’ से संपर्क साधने की क्षीण हो रही संभावना

बेंगलुरु/नयी दिल्ली. ‘चंद्रयान-2’ के लैंडर ‘विक्रम’ से पुन: संपर्क करने और इसके भीतर बंद रोवर ‘प्रज्ञान’ को बाहर निकालकर चांद की सतह पर चलाने की संभावनाएं हर गुजरते दिन के साथ क्षीण होती जा रही हैं.

उल्लेखनीय है कि गत सात सितंबर को ‘सॉफ्ट लैंंिडग’ की प्रक्रिया के दौरान अंतिम क्षणों में ‘विक्रम’ का जमीनी स्टेशन से संपर्क टूट गया था. यदि यह ‘सॉफ्ट लैंंिडग’ करने में सफल रहता तो इसके भीतर से रोवर बाहर निकलता और चांद की सतह पर वैज्ञानिक प्रयोगों को अंजाम देता.

लैंडर को चांद की सतह पर ‘सॉफ्ट लैंंिडग’ के लिए डिजाइन किया गया था. इसके भीतर बंद रोवर का जीवनकाल एक चंद्र दिवस यानी कि धरती के 14 दिन के बराबर है. सात सितंबर की घटना के बाद से लगभग एक सप्ताह निकल चुका है तथा अब इसरो के पास मात्र एक सप्ताह शेष बचा है. इसरो ने कहा था कि वह 14 दिन तक लैंडर से संपर्क साधने की कोशिश करता रहेगा.

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के वैज्ञानिकों की तमाम कोशिशों के बावजूद लैंडर से अब तक संपर्क स्थापित नहीं हो पाया है. हालांकि, ‘चंद्रयान-2’ के आॅर्बिटर ने ‘हार्ड लैंंिडग’ के कारण टेढ़े हुए लैंडर का पता लगा लिया था और इसकी ‘थर्मल इमेज’ भेजी थी.

भारत के अंतरिक्ष वैज्ञानिक लैंडर से संपर्क साधने की हर रोज कोशिश कर रहे हैं, लेकिन प्रत्येक गुजरते दिन के साथ संभावनाएं क्षीण होती जा रही हैं.

इसरो के एक अधिकारी ने पीटीआई-भाषा से कहा, ‘‘उत्तरोत्तर, आप कल्पना कर सकते हैं कि हर गुजरते घंटे के साथ काम मुश्किल होता जा रहा है. बैटरी में उपलब्ध ऊर्जा खत्म हो रही होगी और इसके ऊर्जा हासिल करने तथा परिचालन के लिए कुछ नहीं बचेगा.’’

उन्होंने कहा, ‘‘प्रत्येक गुजरते मिनट के साथ स्थिति केवल जटिल होती जा रही है…‘विक्रम’ से सपंर्क स्थापित होने की संभावना कम होती जा रही है.’’ यह पूछे जाने पर कि क्या संपर्क स्थापित होने की थोड़ी-बहुत संभावना है, अधिकारी ने कहा कि यह काफी दूर की बात है. यहां स्थित इसरो टेलीमेट्री, ट्रैंिकग एंड कमांड नेटवर्क में एक टीम लैंडर से पुन: संपर्क स्थापित करने की लगातार कोशिश कर रही है.

अधिकारी ने कहा कि सही दिशा में होने की स्थिति में यह सौर पैनलों के चलते अब भी ऊर्जा उत्पन्न कर सकता है और बैटरियों को पुन: चार्ज कर सकता है. लेकिन इसकी संभावना, उत्तरोत्तर कम होती जा रही है. इसरो के एक अन्य शीर्ष अधिकारी ने कहा कि चंद्र सतह पर ‘विक्रम’ की ‘हार्ड लैंंिडग’ ने इससे पुन: संपर्क को कठिन बना दिया है क्योंकि हो सकता है कि यह ऐसी दिशा में न हो जिससे उसे सिग्नल मिल सकें. उन्होंने चंद्र सतह पर लगे झटके से लैंडर को नुकसान पहुंचने की भी आशंका जतायी.

चंद्रयान-2 पर बोले नोबेल विजेता वैज्ञानिक-समस्याएं, अप्रत्याशित घटनाएं देती हैं अनुसंधान को धार
नोबेल पुरस्कार विजेता फ्रांसीसी भौतिक विज्ञानी सर्जे हरोशे ने शुक्रवार को कहा कि समस्याएं, हादसे और अप्रत्याशित घटनाएं अनुसंधान को धार देने का काम करती हैं तथा भारत को चांद के दक्षिणी ध्रुव क्षेत्र में ऐतिहासिक ‘सॉफ्ट लैंंिडग’ के प्रयास के दौरान आई खामी के बाद आगे की ओर देखना चाहिए.

वर्ष 2012 में भौतिकी के क्षेत्र में नोबेल पुरस्कार जीतने वाले 75 वर्षीय हरोशे ‘नोबेल प्राइज सीरीज इंडिया 2019’ के लिए भारत में हैं और यह देश में इस तरह की तीसरी श्रृंखला है. फ्रांसीसी वैज्ञानिक ने कहा कि ‘चंद्रयान-2’ मिशन एक बड़ी वैज्ञानिक परियोजना है और इस तरह की परियोजनाओं में आम तौर पर सरकार का काफी योगदान होता है.

उन्होंने कहा, ‘‘यह एक तरह से प्रतिष्ठा से जुड़ी परियोजना है जिसमें आम तौर पर काफी धन खर्च होता है और जब आपको असफलता मिलती है या कोई दुर्घटना होती है तो मीडिया का ध्यान केंद्रित होने के कारण काफी निराशा होती है.’’ भारत के दूसरे चंद्र मिशन के बारे में पूछे जाने पर हरोशे ने कहा, ‘‘जब मैंने अपनी रिसर्च की तो मुझे इसके परिणाम मिलने तक किसी की भी इसमें रुचि नहीं थी…और मुझे लगता है कि इस तरह की समस्याएं, इस तरह के हादसे तथा इस तरह की अप्रत्याशित घटनाएं अनुसंधान को धार देने का ही काम करती हैं.’’

उल्लेखनीय है कि ‘चंद्रयान-2’ के लैंडर ‘विक्रम’ का गत सात सितंबर को चांद की सतह पर ‘सॉफ्ट लैंंिडग’ के प्रयास के अंतिम क्षणों में इसरो के जमीनी स्टेशन से संपर्क टूट गया था. उन्होंने कहा कि अनुसंधान के दौरान इस तरह की चीजें आम होती हैं तथा भारत को अब आगे की ओर देखना चाहिए.

फ्रांसीसी वैज्ञानिक ने कहा, ‘‘सवाल यह है कि आगे क्या होगा और यह केवल वैज्ञानिक मुद्दा नहीं है. यह राजनीतिक और वित्तीय मुद्दा है. किसी को देखना होगा कि समस्या कहां थी और फिर से दुरुस्त कर दोबारा कोशिश करें.’’ भारतीय छात्रों से बताचीत के उनके अनुभव के बारे में पूछे जाने पर हरोशे ने कहा, ‘‘वे (भारतीय छात्र) अत्यंत प्रतिभाशाली और ज्ञानी हैं. उन्होंने कई अच्छे सवाल पूछे.’’

यह पूछे जाने पर कि वह भारतीय छात्रों को क्या सलाह देना चाहेंगे, हरोश ने कहा कि यही कि उन्हें हर चीज के बारे में जानने की जरूरत नहीं है. उन्होंने कहा, ‘‘सबसे पहले मैं छात्रों से कहना चाहूंगा कि आप वह विषय चुनें जिसके प्रति आपका जुनून है और फिर इस पर आगे बढ़ें.’’


Join
Facebook
Page

Follow
Twitter
Account

Follow
Linkedin
Account

Subscribe
YouTube
Channel

View
E-Paper
Edition

Join
Whatsapp
Group

14 Aug 2020, 4:10 AM (GMT)

India Covid19 Cases Update

2,459,613 Total
48,144 Deaths
1,750,636 Recovered

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close