Home देश आरएसएस ब्रिटिश हुकुमत का साथ दे रहे था, उसने भारत छोड़ो आंदोलन...

आरएसएस ब्रिटिश हुकुमत का साथ दे रहे था, उसने भारत छोड़ो आंदोलन का विरोध किया था: दिग्विजय

21
0

सीहोर/भोपाल. कांग्रेस के दिग्गज नेता दिग्विजय ंिसह ने मंगलवार को कहा कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) 1947 से पहले ब्रिटिश हुकुमत का साथ दे रहा था और उसने भारत छोड़ो आंदोलन में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का विरोध किया था. दिग्विजय ने यहां संवाददाताओं से कहा, ‘‘कांग्रेस ने हमेशा राष्ट्रीय ताकत को बल दिया है.’’

उन्होंने कहा, ‘‘कश्मीर सहित जूनागढ़ और हैदराबाद को क्या भाजपा और आरएसएस ने देश में विलय किया?’’ दिग्विजय ने कहा, ‘‘क्या कश्मीर को भारत का अंग बनाने में आरएसएस या बीजपी का हाथ रहा?’’ उन्होंने कहा, ‘‘ये (आरएसएस एवं भाजपा नेता) तो सन 1947 के पहले ब्रिटिश हुकुमत का साथ दे रहे थे और इन्होंने भारत छोड़ो आंदोलन में (महात्मा) गांधी जी का विरोध किया.’’

पीओके सहित पूरा कश्मीर भारत का अभिन्न अंग होना चाहिए
कांग्रेस के दिग्गज नेता दिग्विजय ंिसह ने मंगलवार को कहा कि कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है और पाक अधिकृत कश्मीर (पीओके) सहित पूरा कश्मीर भारत का अभिन्न अंग होना चाहिए.

जम्मू-कश्मीर पर पूछे गये एक सवाल के जवाब में दिग्विजय ने यहां ‘प्रेस से मिलिये’ कार्यक्रम में कहा, ‘‘हम तो चाहते हैं कि भारत में रहे कश्मीर.’’ उन्होंने आगे कहा, ‘‘पीओके सहित पूरा कश्मीर भारत का अभिन्न अंग होना चाहिए.’’ दिग्विजय से सवाल किया गया था कि आपको क्या लग रहा है कश्मीर आजाद हो जाएगा या पाकिस्तान में चला जाएगा?

हम ईश्वर से यही प्रार्थना करते हैं कि कश्मीर में शांति स्थापित हो और भाईचारा बना रहे
जम्मू-कश्मीर से विशेष दर्जा छीने जाने और उसे दो भागों में विभाजित करने के फैसले से निराश कांग्रेस के दिग्गज नेता दिग्विजय ंिसह ने मंगलवार को कहा कि हम ईश्वर से यही प्रार्थना करते हैं कि कश्मीर में शांति स्थापित हो और हजारों वर्षों से चला आ रहा भाईचारा बना रहे.

उन्होंने आगे कहा कि ईश्वर से दुआ करने के सिवाय हमारे पास अब कोई विकल्प नहीं है. जम्मू-कश्मीर पर पूछे गये एक सवाल के जवाब में दिग्विजय ने यहां ‘प्रेस से मिलिये’ कार्यक्रम में कहा, ‘‘हम ईश्वर से यही प्रार्थना करते हैं कि कश्मीर में शांति स्थापित हो, भाईचारा बना रहे. हजारों वर्षों का जो भाईचारा रहा है, आज भी कायम रहे. यही ईश्वर से प्रार्थना करते हैं.’’

उन्होंने कहा, ‘‘ईश्वर से प्रार्थना करने के अलावा हमारे पास कोई विकल्प अब नहीं है.’’ जब उनसे सवाल किया गया कि अनुच्छेद 370 पर दिये गये उनके बयानों से आम जनता आक्रोशित है और क्या उनको यह नहीं लगता कि वह अलोकप्रिय हो रहे हैं, तो इस पर दिग्विजय ने कहा, ‘‘एक बात समझ लीजिए कि जो सच्चाई के रास्ते पर चलता है उसे पत्थर खाने की आदत होनी चाहिए.’’

उन्होंने आगे कहा, ‘‘ईसा मसीह भी (शूली पर) टांग दिये गये थे, प्रोफेट मोहम्मद को भी लोगों का विरोध झेलना पड़ा था, महात्मा गांधी की भी हत्या कर दी गई थी, अब्राहम ंिलकन को भी गोली मार दी गई थी, मार्टिन लूथर ंिकग को भी गोली मार दी गई थी.’’

जम्मू-कश्मीर पर वाजपेयी की नीति को मोदी ने ठुकरा दिया
जम्मू-कश्मीर के विशेष दर्जे को हटाये जाने पर केन्द्र सरकार पर हमला बोलते हुए कांग्रेस के दिग्गज नेता दिग्विजय ंिसह ने मंगलवार को कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की नीति थी कि जम्हूरियत, कश्मीरियत एवं इंसानियत के रास्ते से ही कश्मीर का हल ढ़ूंढा जा सकता है, लेकिन इन तीनों चीजों को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने ठुकरा दिया.

अनुच्छेद 370 पर पूछे गये एक सवाल के जवाब में दिग्विजय ने यहां ‘प्रेस से मिलिये’ कार्यक्रम में कहा, ‘‘इसको ंिहदू-मुस्लिम के नजरिये से नहीं देखना चाहिए.’’ उन्होंने कहा कि अटल बिहारी वाजपेयीजी ने कहा था कि जम्हूरियत, कश्मीरियत एवं इंसानियत के रास्ते से ही कश्मीर का हल ढ़ूंढा जा सकता है.

दिग्विजय ने कहा, ‘‘लेकिन जम्हूरियत, कश्मीरियत एवं इंसानियत इन तीनों चीजों को मोदी जी ने ठुकरा दिया.’’ उन्होंने आगे कहा, ‘‘(जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाना) न जम्हूरियत के हिसाब से तय हुआ, न कश्मीरियत के हिसाब से इसका फैसला हुआ, न इंसानियत के तरफ से फैसला हुआ. इसलिए पूरे तरीके से अटलजी की जो कश्मीर पर पॉलिसी थी उसका नरेन्द्र मोदीजी ने ठुकरा दिया.’’ उन्होंने कहा कि धारा 370 हटाने के बाद सरकार कहती है कि कहीं अशांति नहीं है, लेकिन खबरें अलग-अलग तरह की आ रही हैं.

कांग्रेस हमेशा ‘बाउंस बैक’ करती है: दिग्विजय
कांग्रेस के वर्तमान में अपने सबसे बुरे दौर में गुजरने पर कांग्रेस के दिग्गज नेता दिग्विजय ंिसह ने मंगलवार को कहा कि ऐसा कई बार हुआ है, जब जनता ने कांग्रेस को सत्ता से बेदखल किया है और लोग कहते हैं कि कांग्रेस चली गई है, लेकिन हम हमेशा ‘बाउंस बैक’ करते हैं.
जब उनसे सवाल किया गया कि आने वाले समय में आप कांग्रेस का भविष्य क्या देखते हैं, तो इसके जवाब में दिग्विजय ने यहां ‘प्रेस से मिलिये’ कार्यक्रम में कहा, ‘‘ऐसा है कई बार लोग कांग्रेस को ‘राइट आफ’ कर चुके हैं. लेकिन हम हमेशा बाउंस बैक करते हैं.’’ मध्यप्रदेश में पिछले साल हुए विधानसभा चुनाव का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि इस चुनाव के परिणाम आने से पहले किसी ने नहीं कहा था कि मध्यप्रदेश में कांग्रेस सरकार आयेगी, लेकिन हमने यहां सरकार बनाई.

उन्होंने कहा कि हम मध्यप्रदेश में भाजपा को हराकर 15 साल बाद सत्ता में वापस आये. हम ‘बाउंस बैक’ होते हैं. जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाये जाने पर कांग्रेस नेताओं के विवादित बयानों पर पूछे गये सवाल के जवाब में उन्होंने कहा, ‘‘राहुल की लाइन कांग्रेस की लाइन है. हम सब उसी लाइन को फॉलो कर रहे हैं.’’

उन्होंने बताया, ‘‘मैंने जो कुछ कहा है वह कांग्रेस की लाइन पर है और बाकी लोगों ने जो कुछ कहा है यही कहा है कि अगर अनुच्छेद 370 कश्मीर के संदर्भ में हटानी थी, तो उसका तरीका गलत है. तो सबने एक ही बात कही है.’’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here