Home देश तृणमूल कांग्रेस के नेता और चार बार के विधायक अर्जुन सिंह भाजपा...

तृणमूल कांग्रेस के नेता और चार बार के विधायक अर्जुन सिंह भाजपा में शामिल

39
0

नयी दिल्ली. पश्चिम बंगाल की भाटापारा सीट से तृणमूल कांग्रेस विधायक अर्जुन ंिसह बृहस्पतिवार को भाजपा में शामिल हो गए. चार बार के विधायक ंिसह के भाजपा में शामिल होने से पार्टी को आम चुनावों में पश्चिम बंगाल में काफी लाभ मिलने की संभावना है.

भाटपारा से तृणमूल कांग्रेस विधायक अर्जुन ंिसह भाजपा मुख्यालय में पार्टी के पश्चिम बंगाल प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय और वरिष्ठ नेता मुकुल रॉय की उपस्थिति में भाजपा में शामिल हुए. हालांकि तृणमूल कांग्रेस ने ंिसह के भाजपा में शामिल होने को कुछ खास महत्व नहीं दिया और उन्हें अपनी सीट से भाजपा के टिकट पर चुनाव लड़ने की चुनौती दी.

दिल्ली में भाजपा कार्यालय में मीडिया को संबोधित करते हुए ंिसह ने कहा कि पुलवामा आतंकवादी हमले को लेकर तृणमूल कांग्रेस की प्रमुख और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री की टिप्पणी से उन्हें बहुत सदमा पहुंचा था.

ंिसह ने कहा, ‘‘मैंने ममता बनर्जी को 30 साल दिए. पुलवामा आतंकवादी हमले पर उनकी टिप्पणी से मैं सकते में हूं. उनके बयान ने देश को हिला कर रख दिया है.’’ उन्होंने कहा, ‘‘भारतीय वायुसेना ने जब हवाई हमला किया तो उन्होंने मारे गए आतंकवादियों की संख्या पूछी. यदि किसी नेता के दिमाग में राष्ट्रहित नहीं है तो वह अपने मतदाताओं के साथ कुछ भी अच्छा नहीं कर सकता है.’’

सूत्रों ने बताया कि उत्तर 24 परगना जिले की भाटपारा सीट से चार बार के विधायक ंिसह संभवत: लोकसभा चुनाव में तृणमूल कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व रेल मंत्री दिनेश त्रिवेदी के खिलाफ भाजपा की टिकट पर चुनाव लड़ेंगे. उनका कहना है कि ंिसह लोकसभा चुनाव में टिकट नहीं मिलने से बनर्जी से नाराज थे.

बनर्जी पर निशाना साधते हुए ंिसह ने कहा, ‘‘पहले तृणमूल कांग्रेस ‘मां, माटी, मानुष’ के लिए लड़ती थी लेकिन अब यह सिर्फ पैसा, पैसा और पैसा हो गया है.’’ गौरतलब है कि तृणमूल कांग्रेस से निष्कासित सांसद अनुपम हाजरा तथा कुछ और नेता कुछ ही दिन पहले भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) में शामिल हो गये थे. इससे पहले तृणमूल कांग्रेस के सांसद सौमित्र खान भी भाजपा में शामिल हुए थे.

तृणमूल कांग्रेस के उत्तर 24 परगना जिले के प्रमुख ज्योतिप्रिय मलिक ने पीटीआई..भाषा से कहा, ‘‘अर्जुन ंिसह कुछ समय से भाजपा नेताओं के संपर्क में थे. उने हमारे साथ होने या नहीं होने से कोई फर्क नहीं पड़ता. फर्क सिर्फ इससे पड़ता है कि ममता बनर्जी ही तृणमूल कांग्रेस है.’’ ंिसह को चुनौती देते हुए उन्होंने कहा, ‘‘अगर वह माद्दा रखते हैं तो इस्तीफा दे दें और अपनी भाटपारा सीट से पुन:चुनाव लड़ें. मैं आपको आश्वासन देता हूं कि उनकी जमानत जब्त हो जाएगी.’’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here