रायपुर

Navabharat Impact: अरपा नदी के उद्गमस्थल को लेकर नवभारत की खबरों पर हाईकोर्ट की मुहर

नदी के संरक्षण के लिए बनाई कमेटी, नवभारत के एक्सपर्ट भी शामिल

बिलासपुर. अरपा नदी की दुर्दशा को लेकर हाईकोर्ट में जनहित याचिका पर मंगलवार को सुनवाई हुई. कोर्ट ने नवभारत की रिपोर्ट्स के विशेष उल्लेख करते हुए एक्सपर्ट कमेटी बनाई है. दरअसल कुछ वकीलों ने हाईकोर्ट को पत्र लिखकर नदी की दुर्दशा और उद्गम के आसपास बेजा कब्जा की जानकारी देते हुए उचित कार्रवाई की मांग की थी.

हाईकोर्ट ने पत्र पर जनहित जनहित याचिका के रूप में सुनवाई शुरू की. पिछली सुनवाई के दौरान राज्य शासन को अरपा के उद्गम स्थल के आसपास से बेजा कब्जा हटाने और उसकी वीडियोग्राफी कराने के निर्देश दिए थे.

इधर, नवभारत ने अरपा के उद्गम और अन्य स्रोतों से मिलने वाले पानी को लेकर अभियान शुरू किया. उद्गम को लेकर चले आ रहे तमाम दावों को झुठलाते हुए बताया कि अरपा अमरपुर नहीं, खोडरी के पास से निकली है और इसके उद्गम के आसपास बेवजह निर्माण कर दिए गए हैं.

सीएमडी कॉलेज के भूगोल विषय के एचओडी डॉ पीएल चंद्राकर, इतिहास विभाग के एचओडी डॉ केके शुक्ला सहित के साथ अरपा के उद्गम से लेकर अन्य नदी नालियों के उद्गम की जांच की.

इस पर लगातार खबरें प्रकाशित की गई. मंगलवार को सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट ने अरपा के उद्गम से लेकर अन्य पहलुओं पर अध्ययन करने के लिए कमेटी का गठन किया है. नवभारत के एक्सपर्ट प्रोफेसर चंद्राकर को भी कमेटी में शामिल किया गया है. अब इस मामले में अगले मंगलवार को सुनवाई होगी.

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close