Home क्रिकेट पंत के विश्व कप टीम में शामिल नहीं होने से थोड़ा हैरान...

पंत के विश्व कप टीम में शामिल नहीं होने से थोड़ा हैरान हूं: गावस्कर

54
0

नयी दिल्ली/मुंबई. पूर्व भारतीय कप्तान सुनील गावस्कर ने सोमवार को कहा कि वह युवा विकेटकीपर ऋषभ पंत के भारत की विश्व कप टीम से बाहर होने से हैरान हैं क्योंकि वह काफी ‘बेहतरीन’ बल्लेबाजी फार्म में हैं और उसके विकेटकींिपग कौशल में सुधार हो रहा है.

तैंतीस वर्षीय दिनेश कार्तिक ने भारत की विश्व कप के लिये चुनी गयी 15 सदस्यीय टीम में दूसरे विकेटकीपर के स्थान पर पंत को पीछे छोड़ दिया है. विश्व कप इंग्लैंड में 30 मई से शुरू हो रहा है. गावस्कर ने कहा कि यह कदम हैरानी भरा है लेकिन उन्होंने बेहतर विकेटकीपर के तौर पर कार्तिक का समर्थन किया.

गावस्कर ने ‘इंडिया टुडे’ से कहा, ‘‘पंत की फार्म को देखते हुए यह थोड़ा हैरानी भरा है. वह सिर्फ आईपीएल में ही नहीं बल्कि इससे पहले भी काफी बेहतरीन बल्लेबाजी कर रहा था. वह विकेटकींिपग में भी काफी सुधार दिखा रहा था. वह शीर्ष छह में बायें हाथ का बल्लेबाजी विकल्प मुहैया कराता जो गेंदबाजों के खिलाफ काफी अच्छा होता.’’

उन्होंने कहा, ‘‘गेंदबाजों को बायें हाथ के बल्लेबाजों के लिये अपनी लाइन एवं लेंथ में बदलाव करना पड़ता और कप्तान को मैदान में काफी इंतजाम करने होते.’’ पंत ने इस मौजूदा आईपीएल में अभी तक 245 रन जबकि कार्तिक ने 111 रन बनाये हैं.

गावस्कर ने हालांकि पंत की बल्लेबाजी फार्म की अनदेखी के फायदे भी बताते हुए कहा, ‘‘किसी दिन सुबह को अगर महेंद्र ंिसह धोनी को फ्लू होता है और वह नहीं खेल पाता तो आप ऐसा खिलाड़ी चाहोगे जो बेहतर विकेटकीपर हो. मुझे लगता है कि कार्तिक को किसी और चीज से ज्यादा विकेटकींिपग कौशल से ही टीम में जगह मिली.’’

पूर्व सलामी बल्लेबाज संजय मांजरेकर भी गावस्कर की राय से इत्तेफाक रखते हैं कि कार्तिक का टीम में चुना जाने की उम्मीद कम थी. उन्होंने कहा, ‘‘टीम चयन से हर किसी को खुश रखना असंभव है लेकिन कार्तिक का टीम में चयन हैरानी भरा है. इस मामले में चयनकर्ता निरंतरता नहीं दिखाने के दोषी हैं. जनवरी 2019 में टीम से बाहर किये जाने के बाद सीधे विश्व कप टीम के लिये चुना जाना.’’

इंग्लैंड के पूर्व कप्तान माइकल वॉन ने कहा कि पंत को बाहर करने का फैसला अजीब सा है. उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘विश्व कप टीम में ऋषभ पंत नहीं….भारतीय चयनकर्ताओं का यह फैसला अजीबोगरीब है.’’ गावस्कर ने कहा कि तमिलनाडु के आलराउंडर विजय शंकर की ‘त्रिआयामी विशेषताओं’ को देखते हुए वह टीम के लिये काफी उपयोगी खिलाड़ी होंगे.

उन्होंने कहा, ‘‘वह ऐसा क्रिकेटर है जिसने पिछले एक साल में काफी सुधार किया है. उसके आत्मविश्वास में बढ़ोतरी हुई है. शंकर काफी उपयोगी क्रिकेटर भी है. वह काफी अच्छा बल्लेबाज है, उपयोगी गेंदबाज है और बेहतरीन क्षेत्ररक्षक है.’’ पूर्व भारतीय बल्लेबाज आकाश चोपड़ा ने कहा कि पंत को केंद्रीय अनुबंध में शीर्ष वर्ग में शामिल किये जाने से उन्हें लगा था कि यह युवा खिलाड़ी भारत की विश्व कप टीम में जगह बना लेगा.

उन्होंने अपने ट्विटर पर लिखा, ‘‘कुछ हफ्ते पहले पंत को केंद्रीय अनुबंधों में शीर्ष वर्ग में शामिल किया था. भारत ने चौथे स्थान के विकल्प के लिये शंकर को चुना है. लेकिन उन्हें यह नहीं पता कि यह कारगर होगा या नहीं. डीके तभी खेलेगा जब धोनी उपलब्ध नहीं होंगे. कोई चौथा तेज गेंदबाज नहीं. दिलचस्प विकल्प. उम्मीद करते हैं कि यह कारगर होगा. गुडलक. ’’

भारत की 2007 विश्व टी20 जीत के स्टार रहे पूर्व भारतीय क्रिकेटर आर पी ंिसह ने कहा, ‘‘स्पष्ट रूप से टीम चयन में दिनेश कार्तिक के रूप में अनुभव और संयम को चुना गया है. मध्यक्रम देखना काफी दिलचस्प होगा जिसमें लोकेश राहुल और दिनेश कार्तिक चौथे नंबर पर हो सकते हैं. बाकी सब ठीक दिखता है. ’’

पूर्व बल्लेबाज मोहम्मद कैफ ने व्यक्तिगत समस्याओं से जूझने के बाद शमी की वापसी पर कहा, ‘‘छह महीने पहले, मोहम्मद शमी सीमित ओवरों की क्रिकेट के लिये विचार किये जाने के करीब भी नहीं थे लेकिन कुछ शानदार प्रदर्शन ने सुनिश्चित किया कि वह अपना दूसरा विश्व कप खेलें. उन्होंने और जडेजा ने फिर से शानदार वापसी की. ’’

एमएसके प्रसाद ने कहा, पंत ने टीम में लगभग जगह बना ली थी
ऋषभ पंत अपने छोटे लेकिन प्रभावी करियर के दौरान कई मौकों से चूके हैं और उन्हें सबसे बड़ा झटका चयन समिति ने दिया जिसने इंग्लैंड में होने वाले आगामी विश्व कप की टीम में उनके ऊपर दिनेश कार्तिक को तरजीह दी. इंग्लैंड में 2017 चैंपियन्स ट्राफी से पहले पंत को स्टैंडबाई रखा गया था और चयन समिति के अध्यक्ष एमएसके प्रसाद के अनुसार पंत ने टीम में लगभग जगह बना ली थी.

इंग्लैंड और आस्ट्रेलिया की सरजमीं पर शतक जड़ने वाले पहले भारतीय विकेटकीपर पंत का दावा मजबूत था लेकिन उन्हें विश्व कप टीम में शामिल नहीं किया गया.

प्रसाद ने कहा, ‘‘निश्चित तौर पर इस मामले पर हमने विस्तृत चर्चा की. संयुक्त रूप से हमने महसूस किया कि डीके (दिनेश कार्तिक) या पंत को अंतिम एकादश में तभी मौका मिलेगा जब माही (महेंद्र ंिसह धोनी) चोटिल होगा. उस स्थिति में अगर यह महत्वपूर्ण मैच होगा तो, क्वार्टर फाइनल या सेमीफाइनल, तो इसमें विकेटकींिपग भी मायने रखती है.’’

प्रसाद की इस टिप्पणी से पता चलता है कि चयन समिति पंत की विकेटकींिपग के बारे में क्या सोचती है. भारत के पूर्व विकेटकीपर बल्लेबाज प्रसाद ने कहा, ‘‘सिर्फ यही कारण है कि हमने दिनेश कार्तिक को चुना वरना पंत ने टीम में लगभग जगह बना ली थी और वह दुर्भाग्यशाली रहा कि टीम में नहीं चुना गया. पंत में काफी प्रतिभा है.’’

आक्रामक बल्लेबाज पंत अपनी बल्लेबाजी से किसी भी गेंदबाजी आक्रमण को ध्वस्त करने में सक्षम हैं. उन्होंने ढाका में 2016 अंडर 19 विश्व कप में अपनी बड़े शाट खेलने की क्षमता का नजारा पेश किया और 12 महीने के बाद इंग्लैंड के खिलाफ टी20 के साथ भारत के लिए अंतरराष्ट्रीय पदार्पण किया.

पंत की प्रतिभा पर सवाल नहीं उठाया जा सकता लेकिन मौके गंवाने के लिए उनकी आलोचना होती रही है. उन्होंने इस पहलू पर हालांकि सुधार किया है लेकिन वह फिलहाल विश्व कप के लिए चयनकर्ताओं को प्रभावित नहीं कर पाए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here