दुर्गापूजा समाराहों के दौरान अप्रिय घटनाओं पर बांग्लादेश सरकार के सम्पर्क में हैं : विदेश मंत्रालय

उम्मीद है चीन पूर्वी लद्दाख में शेष मुद्दों को जल्द हल करने की दिशा में करेगा

नयी दिल्ली. भारत ने बृहस्पतिवार को कहा कि वह बांग्लादेश में दुर्गापूजा समारोहों के दौरान घटी कुछ अप्रिय घटनाओं के मद्देनजर पड़ोसी देश की सरकार के साथ सम्पर्क में है तथा वहां की सरकार ने इन घटनाओं को लेकर त्वरित कार्रवाई की है. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अंिरदम बागची ने बृहस्पतिवार को यह जानकारी दी.

बागची ने सप्ताहिक प्रेस वार्ता में कहा, ‘‘ बांग्लादेश में दुर्गापूजा समाराहों के दौरान चंद धार्मिक स्थलों पर कुछ घटनाए घटी है, कुछ हमले हुए…. यह हमारी नजर में है, हमें इसकी जानकारी है . इस बारे में हम बांग्लादेश सरकार के साथ सम्पर्क में हैं.’’ उन्होंने कहा, ‘‘ हमने देखा है कि बांग्लादेश की सरकार ने तुरंत कार्रवाई की है, उनकी पुलिस को लगाया है, सुरक्षा कदम उठाये हैं. बांग्लादेश में दुर्गापूजा त्योहार मनाया जा रहा है . इसे वहां की सरकार और लोगों के सहयोग से मनाया जा रहा है.’’ विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि भारतीय उच्चायोग और वाणिज्य दूतावास ढाका एवं अन्य स्थानों पर प्रशासन के सम्पर्क में है.

उम्मीद है चीन पूर्वी लद्दाख में शेष मुद्दों को जल्द हल करने की दिशा में करेगा
भारत ने पूर्वी लद्दाख गतिरोध के मुद्दे पर बृहस्पतिवार को उम्मीद जतायी कि चीन द्विपक्षीय समझौतों और प्रोटोकॉल का पूरी तरह से पालन करते हुए इस क्षेत्र में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर शेष मुद्दों को जल्दी हल करने की दिशा में काम करेगा जिससे द्विपक्षीय संबंधों में प्रगति का मार्ग सुगम होगा.

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अंिरदम बागची ने साप्ताहिक प्रेस वार्ता में कहा कि वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर जो हालात बने वे यथास्थिति को बदलने के चीन के ‘एकतरफा प्रयासों’ के कारण पैदा हुए हैं. उन्होंने कहा कि इस बारे में भारत और चीन के बीच शीर्ष कमांडर स्तर की 13वें दौर की वार्ता 10 अक्टूबर को हुई थी और वार्ता के दौरान भारतीय पक्ष ने शेष क्षेत्रों में मुद्दों के समाधान के लिए सकारात्मक सुझाव दिए, लेकिन चीनी पक्ष उनसे सहमत नहीं था और वह आगे बढ़ने की दिशा में कोई प्रस्ताव भी नहीं दे सका.

बागची ने कहा, ‘‘ दोनों पक्षों ने संवाद जारी रखने और जमीनी स्तर पर स्थिरता बनाये रखने पर सहमति व्यक्त की . यह सकारात्मक बात है.’’ उन्होंने कहा कि यह हाल ही में दुशांबे में एक बैठक में विदेश मंत्री एस जयशंकर की अपने चीनी समकक्ष से चर्चा के आधार पर बने मार्गदर्शन के अनुरूप होगा जहां वे इस बात पर सहमत हुए थे कि दोनों पक्षों को शेष मुद्दों को जल्द से जल्द हल करने चाहिए .

बागची ने कहा कि हम उम्मीद करते हैं कि चीन द्विपक्षीय समझौतों और प्रोटोकॉल का पूरी तरह से पालन करते हुए इस क्षेत्र में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर शेष मुद्दों को जल्दी हल करने की दिशा में काम करेगा. उन्होंने कहा कि इससे सीमा पर अमन एवं शांति बहाली और द्विपक्षीय संबंधों में प्रगति का मार्ग सुगम होगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close