रेलवे स्टेशन पर रूस के मिसाइल हमले में 30 आम नागरिकों की मौत

चेर्नोहीव. युद्धग्रस्त पूर्वी यूक्रेन में आम लोगों को बाहर निकालने के लिए इस्तेमाल किए जा रहे एक रेलवे स्टेशन पर हुए एक रूसी रॉकेट हमले में शुक्रवार को 30 से अधिक लोगों की मौत हो गई. इस बीच, यूक्रेन के नेताओं ने कहा है कि देश के जिन क्षेत्रों में रूस से कब्जा वापस लिया गया है, वहां रूसी बलों द्वारा की गई तबाही के कारण आने वाले दिनों में और अधिक भयावह मंजर देखने को मिल सकते हैं.

यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमिर जेलेंस्की ने कहा कि पूर्वी दोनेत्स्क क्षेत्र के क्रामातोर्स्क शहर में स्टेशन पर किए गए मिसाइल हमले के दौरान ‘‘हजारों’’ लोग वहां मौजूद थे. जेलेंस्की के सोशल मीडिया पर ट्रेन के एक डिब्बे की तस्वीरें भी पोस्ट की, जिसकी खिड़कियां टूटी हुई हैं, वहां सामान लावारिस पड़ा है और बाहर प्रतीक्षा कक्ष में शव पड़े दिख रहे हैं. प्राधिकारियों ने बताया कि इस हमले में 100 से अधिक लोग घायल भी हुए हैं.

राष्ट्रपति ने कहा, ‘‘अमानवीय रूसी अपने तरीके बदल नहीं रहे हैं. युद्ध क्षेत्र में हमारे सामने खड़े होने की ताकत एवं हिम्मत नहीं होने के कारण वे अब असैन्य आबादी को नुकसान पहुंचा रहे हैं.’’ उन्होंने कहा, ‘‘इस बुराई का कोई अंत नहीं है. यदि उन्हें सजा नहीं दी गई, तो वह (रूस) कभी नहीं थमेगा.’’ यूक्रेन की राजधानी कीव पर कब्जा करने में नाकाम रहने पर रूस ने रूसी भाषी बहुल दोनबास पर अपना ध्यान केंद्रित किया है, जहां मॉस्को सर्मिथत विद्रोही आठ साल से यूक्रेनी बलो से लड़ रहे हैं.

यूक्रेन के विदेश मंत्री दिमित्रो कुलेबो ने बृहस्पतिवार को आगाह किया कि रूसी सैनिकों के वापस जाने के बावजूद देश की मुश्किलें कम होने वाली नहीं हैं. उन्होंने उत्तर अटलांटिक संधि संगठन (नाटो) और अन्य देशों से हथियार मुहैया कराने की अपील की, ताकि देश के पूर्वी हिस्से में होने वाले संभावित हमले से निपटने में मदद मिल सके. नाटो ने इस आधार पर यूक्रेन को हथियारों की आपूर्ति बढ़ाने पर सहमति व्यक्त की है कि रूसी सेना ने राजधानी के आसपास के क्षेत्रों में बर्बरता दिखाई है.

कीव के निकट बुचा शहर के मेयर अनातोली फेडोरुक ने कहा कि जांचकर्ताओं ने कम से कम ऐसी तीन जगहों का पता लगाया है, जहां रूस के आक्रमण के दौरान आम नागरिकों को सामूहिक रूप से गोली मारकर मौत के घाट उतार दिया गया. फेडोरुक ने कहा कि बुधवार तक 320 शव गिने जा चुके हैं. उन्होंने कहा कि शहर में और शव मिल रहे हैं, जिससे मृतकों की संख्या बढ़ सकती है. फेडोरुक ने कहा कि पहले शहर की आबादी 50,000 थी जो अब केवल 3,700 बची है.

यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की ने अपने रात्रि संबोधन में कहा कि बुचा में जो भयावह मंजर सामने आए हैं, वे केवल शुरुआत हो सकते हैं. जेलेंस्की ने कहा कि बुचा से केवल 30 किलोमीटर दूर बोरोदियांका शहर में हताहतों की संख्या ज्यादा हो सकती है. उन्होंने कहा कि वहां के हालात और भयावह हो सकते हैं. यूक्रेन के अधिकारियों ने इस सप्ताह की शुरुआत में कहा था कि राजधानी के आसपास के शहरों में 410 नागरिकों के शव मिले हैं. स्वयंसेवकों ने कई दिन तक इन लाशों को इकट्ठा किया. बुचा में बृहस्पतिवार को और शव मिले.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button