गठजोड़ के लिए AIMIM की पेशकश शिवसेना के हिंदुत्व को बदनाम करने की भाजपा की साजिश: उद्धव

मुंबई. शिवसेना के एक ‘हिंदुत्ववादी पार्टी’ होने का उल्लेख करते हुए महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने गठजोड़ के लिए एआईएमआईएम की पेशकश रविवार को खारिज कर दी. साथ ही, इसे महाविकास आघाडी सरकार का नेतृत्व कर रही पार्टी (शिवसेना) को बदनाम करने की भाजपा की साजिश करार दिया.

पार्टी के सांसदों और पदाधिकारियों की एक बैठक को यहां वीडियो ंिलक के माध्यम से संबोधित करते हुए ठाकरे ने असदुद्दीन ओवैसी नीत आॅल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) को भारतीय जनता पार्टी की ‘‘बी’’ टीम करार दिया.
उन्होंने हिंदुत्व और अन्य मुद्दों को लेकर पूर्व सहयोगी दल भाजपा की आलोचना की और वी डी सावरकर पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ प्रमुख मोहन भागवत के कथित बयानों तथा मुस्लिम बहुल इलाकों में शाखा खोलने की संघ की कथित योजना का भी उल्लेख किया.

ठाकरे ने आरोप लगाया, ‘‘शिवसेना एआईएमआईएम से कभी गठजोड़ नहीं करेगी, जो कि भाजपा की ‘बी’ टीम है. भाजपा सिर्फ राजनीतिक फायदे के लिए हिंदुत्व का इस्तेमाल कर रही है. ’’ उन्होंने कहा, ‘‘भला किसने एआईएमआईएम से गठजोड़ करने की मांग की है ? यह भाजपा का एक ‘गेम प्लान’ और षड्यंत्र है. एआईएमआईएम और भाजपा के बीच साठगांठ है.’’ उन्होंने कहा, ‘‘

भाजपा ने एआईएमआईएम को शिवसेना के हिंदुत्व पर सवाल उठाने को कहा है, ताकि शिवसेना को बदनाम किया जा सके. इसी का अनुसरण करते हुए एआईएमआईएम नेता गठजोड़ की पेशकश कर रहे हैं.’’ उल्लेखनीय है कि शनिवार को एआईएमआईएम के सांसद इम्तियाज जलील ने कहा था कि भाजपा को सत्ता में आने से रोकने के लिए उनकी पार्टी शिवसेना नीत एमवीए के साथ गठजोड़ कर सकती है. इस पर, शिवसेना ने कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त की.

ठाकरे ने पंचायत स्तर से लेकर संसद तक, पूरे देश में राज करना चाह रही भाजपा के रुख का मुकाबला करने के लिए शिवसेना के कार्यकर्ताओं से अपील की. उन्होंने भाजपा के इस रुख को ‘‘तानाशाही का संकेत’’ करार दिया. एमवीए में शामिल अन्य दल राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी और कांग्रेस हैं.

शिवसेना प्रमुख ठाकरे ने कहा कि पार्टी 22 मार्च को राज्य के विदर्भ और मराठवाड़ा क्षेत्रों में ‘शिव संपर्क मुहिम’ शुरू करेगी. उन्होंने कहा कि इसका उद्देश्य उस भ्रम को दूर करना है, जो भाजपा विभिन्न मुद्दों पर शिवसेना के बारे में पैदा करने की कोशिश कर रही है.
ठाकरे ने ओवैसी की पार्टी पर तंज करते हुए कहा कि शिवसेना औरंगजेब की कब्र पर सिर झुकाने वालों से ना कभी जुड़ी हुई थी और ना कभी जुड़ेगी.

उन्होंने कहा, ‘‘हम एआईएमआईएम के साथ कभी गठजोड़ नहीं करेंगे, यहां तक कि सपने में भी नहीं. लेकिन मैं इस बात को लेकर आश्वस्त हूं कि गठजोड़ के लिए एआईएमआईएम की पेशकश भाजपा से आई है. कारण कि, अब तक, पूरा देश यह समझ गया है कि एआईएमआईएम, भाजपा की ‘बी’ टीम है. ’’ ठाकरे ने आरोप लगाया कि भाजपा ओवैसी की पार्टी का इस्तेमाल कर वोट को विभाजित करने और अपने राजनीतिक विरोधियों को बदनाम करने की कोशिश कर रही है.

मुख्यमंत्री ठाकरे ने कहा कि शिवसेना ने भाजपा से नाता तोड़ा है, हिंदुत्व से नहीं. उन्होंने भाजपा पर सिर्फ राजनीतिक फायदे के लिए हिंदुत्व का इस्तेमाल करने का आरोप लगाया. उन्होंने कहा, ‘‘…हम हिंदुत्व के लिए राजनीति करते हैं. वे सिर्फ राजनीति के लिए हिंदुत्व का इस्तेमाल करते हैं. उनके और हमारे बीच यही मूल अंतर है. ’’ पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने एआईएमआईएम की तरफ से गठबंधन के लिये ठाकरे नीत पार्टी को पेशकश किये जाने पर शिवसेना को ‘जनाब सेना’ करार दिया था. इसका जवाब देते हुए ठाकरे ने कहा कि शिवसेना का सदा यह मानना रहा है कि हिंदुत्व राजनीति से ऊपर है.

ठाकरे ने कहा कि भाजपा ने 2015 में पाकिस्तान समर्थक पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) के साथ सरकार बनाई थी. उन्होंने भाजपा की आलोचना करते हुए कहा, ‘‘पाकिस्तान में जिन्ना की मजार पर किसने सिर झुकाया था? भाजपा के इस काले इतिहास को देखते हुए भी हम अब तक उन्हें भारतीय जनता पार्टी कह रहे हैं और पाकिस्तान जनता पार्टी नहीं. यदि आप मुसलमानों के लिए कुछ करते हैं कि यह देश के लिए आपका प्यार है. लेकिन हम यदि कुछ करते हैं, तो इसे देशद्रोह करार दिया जाता है.’’ उन्होंने हैरानी जताते हुए सवाल किया कि जम्मू कश्मीर में पीडीपी से हाथ मिलाने को लेकर क्या भाजपा को ‘‘हिज्बुल जनता पार्टी’’ भी कहा जा सकता है.

ठाकरे ने कहा कि आरएसएस प्रमुख भागवत ने एक बार कहा था कि हिंदुत्व विचारक वी डी सावरकर ‘‘मुसलमानों के दुश्मन नहीं थे’’ और उन्होंने उर्दू में गजलें भी लिखी थीं. शिवसेना प्रमुख ने मुस्लिम बहुल इलाकों में शाखाएं खोलने की संघ की कथित योजना के बारे में मीडिया में आई एक खबर का भी उल्लेख किया.

उन्होंने सवाल किया, ‘‘अब, आप इन मुसलमानों के साथ क्या करने जा रहे हैं? क्या आप आरएसएस को एक मुस्लिम संघ या मुसलमान संघ या राष्ट्रीय मुसलमान संघ कहने जा रहे हैं? क्या आप मोहन भागवत को भी खान या ऐसा कुछ कहेंगे? ठाकरे ने शिवसेना नेताओं से उन ‘नव हिंदुओं’ को राजनीतिक रूप से समाप्त करने को कहा ‘‘जो राजनीति के लिए हिंदुत्व का बुर्का पहनते हैं.’’ शिवसेना प्रमुख ने कहा कि भाजपा (नाजीवादी) एडोल्फ हिटलर के नक्शे कदम पर चल रही है और नाजी तानाशाह की तर्ज पर अभियान चला रही है. उन्होंने कहा, ‘‘शिवसेना का हिंदुत्व मिलावटी नहीं है.’’

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button