वर्ष 2008 के मालेगांव विस्फोट मामले का एक और गवाह मुकरा

मुंबई. वर्ष 2008 के मालेगांव बम विस्फोट मामले की सुनवाई के दौरान बृहस्पतिवार को एक और गवाह (पूर्व सैन्यकर्मी) मुकर गया. वह इस मामले का ऐसा 19वां गवाह है, जो मुकर गया. इस मामले में भोपाल से भाजपा सांसद प्रज्ञा ंिसह ठाकुर मुख्य आरोपी हैं. मामले की सुनवाई राष्ट्रीय अन्वेषण अभिकरण (एनआईए) के न्यायाधीश पीआर सित्रे दैनिक आधार पर कर रहे हैं, जिनके समक्ष मुकरने वाले गवाह के बयान दर्ज किये गये.

गवाह ने कहा कि वह केवल लेफ्टिनेंट कर्नल प्रसाद पुरोहित को पहचानता है. अदालत में मौजूद आरोपियों में पुरोहित भी थे. गवाह ने कहा कि वह अन्य किसी आरोपी को नहीं जानता और ना ही कभी उनसे मिला. गवाह ने यह भी कहा कि उसने कभी भी दक्षिणपंथी समूह ‘अभिनव भारत’ की किसी भी बैठक में भाग नहीं लिया.

गवाह ने कहा कि उसे नहीं याद है कि उसने इसके पहले जांच एजेंसियों से क्या कहा था. आतंकवाद रोधी दल (एटीएस) और एनआईए ने बाद में इस मामले की जांच अपने हाथ में ले ली थी. अभियोजन पक्ष के अनुरोध पर अदालत ने घोषित कर दिया कि गवाह मुकरा गया है.

उत्तरी महाराष्ट्र के मालेगांव कस्बे में 29 सितंबर, 2008 को एक मस्जिद के बाहर एक मोटरसाइकिल से बंधे विस्फोटक पदार्थ में विस्फोट होने से छह लोगों की मौत हो गई थी, जबकि 100 से अधिक लोग घायल हो गये थे. मुंबई से 200 किलोमीटर दूर स्थित यह कस्बा सांप्रदायिक रूप से संवेदनशील है. ठाकुर और पुरोहित के अलावा इस मामले में सेवानिवृत्त मेजर रमेश उपाध्याय, अजय राहिरकर, सुधाकर द्विवेदी, सुधाकर चतुर्वेदी और समीर कुलकर्णी शामिल हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button