भाजपा ने शॉ पर व्यक्तिगत, राजनीतिक रंग वाले विचार थोपने का लगाया आरोप

नयी दिल्ली. भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने बायोकॉन की कार्यकारी अध्यक्ष किरण मजूमदार शॉ की उस टिप्पणी पर पलटवार किया जिसमें उन्होंने कथित तौर पर कर्नाटक में धार्मिक विभेद बढ़ने की बात कही थी. भाजपा ने शॉ पर पलटवार करते हुए उन पर व्यक्तिगत तथा ‘‘राजनीतिक रंग’’ वाले विचारों को थोपने और इन्हें सूचना प्रौद्योगिकी तथा बायोटेक्नोलॉजी के क्षेत्र में भारत के नेतृत्व के साथ जोड़ने का आरोप लगा.

भाजपा के आईटी प्रकोष्ठ के प्रभारी अमित मालवीय ने शॉ की आलोचना में ट्वीट करते हुए नियमों का एक पेज भी पोस्ट किया,जो तब तैयार किया गया था जब कांग्रेस सत्ता में थी. इस पेज के उस अंश को रेखांकित किया गया है जिसमें कहा गया,‘‘ प्रतिष्ठान के निकट की कोई संपत्ति, जिसमें भूमि, इमारत तथा अन्य स्थान शामिल हैं, उन्हें गैर हिंदुओं को पट्टे पर नहीं दिया जाएगा.

मालवीय ने ट्वीट किया,‘‘यह देख कर अच्छा लगा कि किरण शॉ कर्नाटक पर धार्मिक विभाजन पर जाग गईं. क्या उन्होंने तब कुछ कहा था जब लड़ने को तैयार एक अल्पसंख्यक ने शिक्षा के ऊपर हिजाब को तरजीह देने की बात कही या कांग्रेस ने हिंदू प्रतिष्ठानों के लिए गैर हिंदुओं की मनाही के नियम बनाए. उन्होंने कांग्रेस के घोषणापत्र को तैयार करने में उनकी मदद की. बताइए?’’

उन्होंने कहा,‘‘यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि शॉ जैसे लोग अपने व्यक्तिगत ,राजनीतिक रंग लिए विचारों को थोपते हैं और इन्हें सूचना प्रौद्योगिकी तथा बायोटेक्नोलॉजी के क्षेत्र में भारत के नेतृत्व के साथ इसे जोड़ते हैं. राहुल बजाज ने एक बार ऐसा ही कुछ गुजरात के लिए कहा था, वह आज अग्रणी आॅटोमोबाइल निर्माण का केन्द्र है. आंकडें देखिए…..’’

इससे पहले शॉ ने ट्वीट किया था, ‘‘ कर्नाटक ने हमेशा समग्र आर्थिक विकास किया है और हमें इस प्रकार की सांप्रदायिक रोक स्वीकार नहीं करनी चाहिए. अगर आईटीबीटी सांप्रदायिक हो जाए तो यह हमारे वैश्विक नेतृत्व को बर्बाद कर देगा. बसवराज बोम्मई कृपा करके इस बढ़ते धार्मिक विभेद को सुलझाइए.’’ इसके जवाब में बोम्मई ने बृहस्पतिवार को समाज के सभी वर्गों से सामाजिक मुद्दों पर सोशल मीडिया पर कुछ भी लिखने से संयम बरतने को कहा, ताकि मुद्दों को बातचीत के जरिए हल किया जा सके.

गौरतलब है कि शॉ ने राज्य के कुछ हिस्सों में वार्षिक मंदिर मेलों और धार्मिक पर्वों पर गैर हिंदू कारोबारियों को मंदिरों के आसपास कारोबार नहीं करने देने के हालिया निर्णय पर ट्वीट किया था.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button