मणिपुर में हुए विनाशकारी भूस्खलन में 4 और लोगों के शव मलबे से बरामद…

इंफाल. मणिपुर में हुए विनाशकारी भूस्खलन में मरने वालों की संख्या बढ़ती जा रही है. समाचार एजेंसी एएनआई ने सेना के हवाले से शुक्रवार को बताया कि शुक्रवार को 4 और लोगों के शव मलबे से बरामद हुए. अब तक 14 शव निकाले जा चुके हैं. इसके अलावा 23 लोगों को सुरक्षित बचाया गया है. दर्जनों लोग अब भी लापता हैं. डीजीपी पी. दोंगेल ने बताया कि मलबे में कितने लोग दबे हैं, इसका सही आंकड़ा पता नहीं चला है, लेकिन करीब 60 लोगों के दबने की आशंका है. इनमें सैनिक, रेलवे कर्मचारी, ग्रामीण और मजदूर शामिल हैं.

बुधवार-गुरुवार की रात मणिपुर के नोनी जिले के तुपुल रेलवे स्टेशन के नजदीक भारतीय सेना के 107 टेरिटोरियल आर्मी कैंप के पास ये लैंडस्लाइड हुआ था. यहां पर जिरीबाम से इंफाल के बीच रेलवे लाइन का निर्माण किया जा रहा है. ये सैनिक उसी की सुरक्षा के लिए तैनात थे. भूस्खलन के बाद से ही राहत और बचाव कार्य चलाया जा रहा है.

भारतीय सेना की असम राइफल्स, टेरिटोरियल आर्मी के अलावा एनडीआरएफ, एसडीआरएफ और अन्य कर्मचारी दिन-रात मलबा हटाने में लगे हैं. खराब मौसम के बावजूद रात में भी तलाशी और बचाव अभियान जारी रहा है. इस काम में बुलडोजर भी लगाए गए हैं. लैंडस्लाइड के मलबे से एजाई नदी का पानी भी रुक गया था, जिससे वहां एक जलाशय जैसा बन गया. इसकी वजह आसपास के निचले इलाके के डूबने के खतरा पैदा हो गया है.

मीडिया रिपोर्ट्स में बताया गया है कि हादसे के वक्त वहां पर टेरिटोरियल आर्मी के 43 जवान मौजूद थे. जिन लोगों के शव निकाले गए हैं, उनमें से 11 सैनिक हैं. हादसे पर राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री आदि ने भी शोक जताया है. पीएम मोदी ने कहा कि मणिपुर के मुख्यमंत्री एन बिरेन सिंह से बात की और दुखद भूस्खलन से पैदा हुई स्थिति की समीक्षा की. केंद्र से हरसंभव मदद का उन्हें आश्वासन दिया है. मुख्यमंत्री एन. बीरेन सिंह ने खुद मौके पर जाकर हालात का जायजा लिया.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button

हर घर तिरंगा अभियान


This will close in 10 seconds