बंगाल के बीरभूम में जले हुए मकानों से आठ लोगों के शव बरामद, 11 लोग गिरफ्तार

रामपुरहाट/कोलकाता. पश्चिम बंगाल के बीरभूम जिले के रामपुरहाट में मंगलवार तड़के कुछ मकानों में आग लगने से दो बच्चों समेत आठ लोगों की मौत हो गयी. पुलिस ने यह जानकारी दी. राज्य के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) मनोज मालवीय ने कोलकाता में संवाददाताओं को बताया कि यह घटना सोमवार को तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के पंचायत स्तर के एक नेता की कथित हत्या के कुछ घंटों के भीतर हुई.

डीजीपी मालवीय ने कहा कि एक जले हुए मकान से सात लोगों के शव बरामद किए गए, जबकि गंभीर रूप से झुलसे हुए एक घायल व्यक्ति की अस्पताल में मौत हो गई. उन्होंने कहा कि इस घटना के सिलसिले में अब तक 11 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है.
पुलिस महानिदेशक ने कहा कि बरशाल गांव के पंचायत उप प्रमुख एवं तृणमूल कांग्रेस के नेता भादु शेख की सोमवार रात करीब साढ़े आठ बजे हत्या कर दी गयी थी.

तृणमूल के नेता की हत्या के फौरन बाद रामपुरहाट शहर के बाहरी इलाके में स्थित बोगतुई गांव में कथित तौर पर कम से कम आठ घरों में आग लगा दी गई थी. ऐसा कहा जा रहा है कि कुछ लोगों ने अपने नेता की हत्या के प्रतिशोध में मकानों में आग लगा दी.
पुलिस महानिदेशक ने कहा, ‘‘स्थिति अब पूरी तरह से नियंत्रण में है और कल रात से गांव में एक पुलिस चौकी स्थापित की गयी है. हम जांच कर रहे हैं कि गांव के मकानों में आग कैसे लगी और क्या यह घटना बरशाल गांव के पंचायत उप प्रमुख की मौत से संबंधित है.

प्रारंभिक जांच में ऐसा प्रतीत हो रहा है कि निजी शत्रुता के कारण उनकी हत्या की गयी है.‘‘ घटनास्थल से 10 लोगों के शव बरामद होने के कुछ दमकल अधिकारियों के दावों के बारे में पूछे जाने पर शीर्ष पुलिस अधिकारी ने स्पष्ट किया कि आग पर काबू पाने के बाद सात लोगों के शव बरामद किए गए थे जबकि गंभीर रूप से झुलसे हुए तीन लोगों को निकाला गया, जिनमें से एक की अस्पताल में मौत हो गयी थी.

डीजीपी ने कहा कि एसडीपीओ और रामपुरहाट थाने के प्रभारी को सक्रिय पुलिस ड्यूटी से हटा दिया गया है. उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने इस मामले की जांच के लिए एडीजी (सीआईडी) ज्ञानवंत ंिसह की अध्यक्षता में एक विशेष जांच दल का गठन किया है.
सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस ने भी स्थिति का जायजा लेने के लिए मंत्री फिरहाद हकीम के नेतृत्व में तीन सदस्यीय विधायक दल को मौके पर भेजा है.

इस घटना के साथ राजनीतिक दलों के बीच आरोप-प्रत्यारोप का दौर और नेताओं के बीच जुबानी जंग भी शुरू हो गयी है. विपक्षी दल भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) ने राज्य सरकार पर इस मामले को दबाने की कोशिश करने का आरोप लगाया है.

बंगाल में भाजपा के नेता मनोज तिग्गा ने कहा, ‘‘हम टीएमसी की सरकार के इस तरह के प्रयास की ंिनदा करते हैं. बंगाल में फैल रही अराजकता राज्य को राष्ट्रपति शासन की ओर धकेल रही है.’’ माकपा के राज्य सचिव मोहम्मद सलीम ने कहा कि तृणमूल के गुंडों द्वारा इतने सारे निर्दोष लोगों की हत्या ंिनदनीय है. टीएमसी के राज्य महासचिव कुणाल घोष ने आरोपों को खारिज करते हुए दावा किया कि आग आकस्मिक थी और इस संबंध में प्रशासन ने आवश्यक कार्रवाई की है.

रामपुरहाट घटना के दोषियों के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई की जाएगी: मंत्री

पश्चिम बंगाल सरकार में संसदीय कार्यमंत्री पार्थ चटर्जी ने मंगलवार को विधानसभा में कहा कि बीरभूम जिले के रामपुरहाट में आठ लोगों की जलकर मौत होने की घटना में शामिल दोषियों के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई की जाएगी. उन्होंने कहा कि ऐसा लगता है कि राज्य की छवि बिगाड़ने की यह बड़ी साजिश है.

उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने एडीजी (सीआईडी) ज्ञानवंत ंिसह की अगुवाई में एक विशेष जांच दल का गठन किया है. मंत्री ने कहा कि शहरी विकास और परिवहन मंत्री फिरहाद हकीम भी स्थिति का जायजा लेने के लिए मौके पर पहुंच गए हैं. घटना के बारे में सदन में बयान देते हुए चटर्जी ने कहा कि सरकार प्रभावित लोगों को राहत और पुनर्वास भी उपलब्ध कराएगी.

उन्होंने कहा कि रामपुरहाट पुलिस थाने के प्रभारी और सब डिविजनल पुलिस अधिकारी को ड्यूटी से हटा दिया गया है तथा उप जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक पहले ही मौके पर पहुंच चुके हैं. मंत्री ने कहा कि सरकार क्षेत्र में हालात को सामान्य करने का प्रयास भी कर रही है. पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि मंगलवार तड़के आठ लोगों के घरों में आग लगने से उनकी मौत हो गई. इस घटना से कुछ घंटे पहले सोमवार को तृणमूल कांग्रेस के एक पंचायत नेता की हत्या हुई थी.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button