मानपुर: कथित नक्सल समर्थक की गिरफ्तारी के बाद बढ़ा बवाल, गिरफ्तारी को बताया जा रहा फर्जी

मानपुर. मानपुर इलाके में बीते 11 जून को बुकमरका निवासी युवक दिलीप दुग्गा की गिरफ्तारी के मामले ने तूल पकड़ लिया है। मामले में पुलिस के खिलाफ अब भाजपा नेत्री व आदिवासी जनप्रतिनिधि नम्रता सिंह ने भी पुलिस के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। 15 जून को नम्रता सिंह दर्जनो समर्थकों के साथ मानपुर थाने पहुंची तथा यहां पुलिस अधिकारियों से मिलकर उन्होंने गिरफ्तारी को फर्जी बताते हुए पुलिसिया कार्यवाही पर कड़ा विरोध जताया।

यही नही नम्रता सिंह व क्षेत्रीय भाजपाइयों ने मामले की उच्च स्तरीय जांच तथा गिरफ्तारी में शामिल पुलिस अफसर-कर्मियों को तत्काल मानपुर थाने से हटाने समेत अन्य मांगे प्रमुखता से ज्ञापन के जरिये रखी है। बता दें कि मानपुर पुलिस द्वारा नक्सल सहयोगी बताते हुए गिरफ्तार किए गए युवक दिलीप दुग्गा के परिजन व क्षेत्रवासी लगातार ये कहकर गिरफ्तारी का विरोध कर रहे ग्रामीण आदिवासी युवक जो लाख बेचने व बैंकिंग कार्य के लिए बुकमरका से गांव के ही एक साथी के साथ मानपुर जा रहे दिलीप दुग्गा को जबरन बीच राह उठाकर तथा उसे नक्सल सहयोगी व उसके पास से विस्पोटक बरामद बताकर जेल भेज दिया।

गिरफ्तारी के बाद क्षेत्रीय ग्रामीण, परिजन समेत सर्व आदिवासी समाज भी गिरफ्तारी को फर्जी करार देते हुए विरोध दर्ज करा कर दोषी पुलिस अफसर-कर्मियों पर कड़ी कार्यवाही की मांग कर चुके हैं। अब विपक्ष की आदिवासी जन प्रतिनिधि नम्रता सिंह ने भी दोषियों पर कार्यवाही व मामले की उच्च स्तरीय जांच की पैरवी की है। लगातार हो रहे गिरफ्तारी के विरोध व मामले के कई तथ्य भी गिरफ्तारी को संदेह के दायरे में खड़ा कर रही है। वही पुलिस मामले की जांच की बात कहकर खुद को पाक साफ बताने में जुटी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close