कांग्रेस ने शुरू की ‘आजादी गौरव यात्रा’, देश के विकास में पार्टी के योगदान को किया जाएगा रेखांकित

अहमदाबाद. कांग्रेस ने स्वतंत्रता के 75 वर्ष पूरे होने के उपलक्ष्य में गुजरात के गांधी आश्रम से बुधवार को ‘आजादी गौरव यात्रा’ शुरू की। इसमें स्वतंत्रता संग्राम तथा 1947 के बाद देश के विकास में पार्टी की भूमिका को रेखांकित किया जाएगा। इसे गुजरात विधानसभा चुनाव के लिए पार्टी के प्रचार अभियान की शुरुआत भी माना जा रहा है।

कांग्रेस के एक नेता ने बताया कि पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी और सांसद राहुल गांधी ने यात्रा आयोजित करने का फैसला किया, ताकि ‘‘हमारी नई पीढ़ी को ब्रिटिश राज से आजादी हासिल करने में हमारे नेताओं द्वारा किए गए बलिदानों से अवगत कराया जा सके।’’ यह यात्रा एक जून को दिल्ली के राजघाट पर अंतिम पड़ाव पर पहुंचने से पहले चार राज्यों से होकर गुजरेगी।

इस अवसर पर कांग्रेस नेताओं ने कहा कि अगले दस दिन में गुजरात के पांच जिलों में 1,200 किलोमीटर का पैदल मार्च निकाला जाएगा। कांग्रेस सेवा दल के सैकड़ों सदस्य आज सुबह आश्रम के ‘हृदय कुंज’ में आयोजित प्रार्थना सभा में शामिल हुए और फिर अपने हाथों में पार्टी का झंडा लेकर पदयात्रा शुरू की।

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने स्वतंत्रता प्राप्ति के लिए सभी प्रमुख गतिविधियों की शुरुआत साबरमती आश्रम से की थी। 12 मार्च, 1930 को नमक कानून के खिलाफ दांडी यात्रा पर निकलने से पहले, वह कई वर्षों तक इस आश्रम में रहे थे। उन्होंने बताया कि यात्रा का आयोजन आजादी के 75 साल पूरे होने के उपलक्ष्य में और स्वतंत्रता संग्राम में कांग्रेस की भूमिका तथा आजादी के बाद देश के विकास में उसके योगदान को रेखांकित करने के लिए किया जा रहा है।

पैदल मार्च को गुजरात मामले के प्रभारी रघु शर्मा, प्रदेश इकाई के अध्यक्ष जगदीश ठाकोर समेत कांग्रेस नेतृत्व ने हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। शर्मा ने पत्रकारों से कहा, ‘‘ देश, भारत की स्वतंत्रता के 75 वर्ष पूरे होने का जश्न मना रहा है, ऐसे में हमारी राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी और राहुल गांधी ने नई पीढ़ी को ब्रिटिश राज से स्वतंत्रता प्राप्त करने में हमारे नेताओं द्वारा किए गए बलिदानों के बारे में अवगत कराने के लिए ‘आजादी की गौरव यात्रा’ आयोजित करने का निर्णय किया है।’’

उन्होंने कहा कि यात्रा राजस्थान में प्रवेश करने से पहले अगले दस दिन में गुजरात के पांच जिलों से होकर गुजरेगी। यात्रा महात्मा गांधी को सर्मिपत स्मारक राज घाट पर समाप्त होने से पहले हरियाणा और दिल्ली से होकर गुजरेगी। यह यात्रा 42 दिन में सम्पन्न होगी।
सेवा दल के लालजी देसाई ने कहा, ‘‘ पैदल मार्च के दौरान कम से कम 100 स्वयंसेवक मौजूद रहेंगे। अगले दो महीने में चार राज्यों से होकर गुजरने के दौरान और सदस्य तथा समर्थक उनके साथ जुड़ेंगे।’’

यात्रा के दौरान स्थानीय कलाकारों द्वारा पारंपरिक प्रस्तुतियां दी जाएंगी और सांस्कृतिक कार्यक्रम भी आयोजित किए जाएंगे। गौरतलब है कि गुजरात को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) का गढ़ माना जाता है। यहां दिसंबर में विधानसभा चुनाव होने हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button