क्या चीन में एक विशाल रेडियो टेलीस्कोप ने एलियंस की खोज की?

पर्थ. चीन के ‘‘स्काई आई’’ टेलीस्कोप ने एक जिज्ञासु संकेत ग्रहण किया है, जिसे दूसरी दुनिया की तकनीक से आया हुआ कहा जा रहा है, लेकिन खगोदविद् का कहना है कि इस मामले पर किसी निर्णय पर पहुंचना जल्दबाजी होगा. इस संकेत के बारे में जानकारी देने वाला एक लेख चीन के सरकार सर्मिथत साइंस एंड टेक्नोलॉजी डेली अखबार की वेबसाइट पर पोस्ट किया गया था, लेकिन बाद में इसे हटा दिया गया. तो क्या खगोलविदों को आखिरकार पृथ्वी से परे जीवन के प्रमाण मिल गए हैं? और क्या इसे दबाया जा रहा है? हमें उत्सुक होना चाहिए, लेकिन बहुत उत्साहित नहीं (फिलहाल). एक दिलचस्प संकेत को यह जांचने के लिए बहुत सारे परीक्षणों से गुजरना पड़ता है कि क्या यह वास्तव में दूसरी दुनिया की तकनीक पर आधारित है या यह स्थलीय हस्तक्षेप के अप्रत्याशित स्रोत का परिणाम है.

और जहाँ तक हटाने की बात है: मीडिया रिलीजÞ सामान्य रूप से पीयर-रिव्यू किए गए परिणामों के साथ-साथ रिलीजÞ के लिए समयबद्ध होते हैं – जो अभी तक उपलब्ध नहीं हैं – इसलिए यह संभवत: गलती से थोड़ा जल्दी रिलीजÞ हो गया था.

आसमान पर एक नजर
स्काई आई, जिसे औपचारिक रूप से पांच सौ मीटर एपर्चर गोलाकार टेलीस्कोप (फास्ट) के रूप में जाना जाता है, दुनिया में सबसे बड़ा और सबसे संवेदनशील ंिसगल-डिश रेडियो टेलीस्कोप है. एक इंजीनियंिरग चमत्कार, इसकी विशाल संरचना चीन के गुइझोउ के पहाड़ों में एक प्राकृतिक बेसिन के अंदर बनाई गई है.

टेलीस्कोप इतना विशाल है कि इसे भौतिक रूप से झुकाया नहीं जा सकता है, लेकिन इसे हजारों एक्चुएटर्स द्वारा एक दिशा में इंगित किया जा सकता है जो दूरबीन की परावर्तक सतह को विकृत करते हैं. सतह को विकृत करके, दूरबीन के केंद्र ंिबदु का स्थान बदल जाता है, और दूरबीन आकाश के एक अलग हिस्से को देख सकती है.

फास्ट रेडियो तरंग दैर्ध्य (10 सेमी तक) पर विकिरण का पता लगाता है और इसका उपयोग व्यापक क्षेत्रों में खगोलीय अनुसंधान के लिए किया जाता है. एक क्षेत्र अलौकिक बुद्धिमत्ता या एसईटीआई की खोज है. एसईटीआई अवलोकन मुख्य रूप से ‘‘पिगी-बैक’’ मोड में किए जाते हैं, जिसका अर्थ है कि उन्हें तब लिया जाता है जब टेलीस्कोप अपने प्राथमिक विज्ञान कार्यक्रम भी चला रहा हो. इस तरह, अन्य विज्ञान कार्यों के रास्ते में आए बिना – एलियन प्रौद्योगिकी – या ‘‘तकनीकी हस्ताक्षर’’ के संकेतों के लिए आकाश के बड़े क्षेत्रों को स्कैन किया जा सकता है. आस-पास के एक्सोप्लैनेट जैसे विशेष लक्ष्यों के लिए, सर्मिपत एसईटीआई अवलोकन अभी भी किए जाते हैं.

एलियन टेक्नोलॉजी की तलाश
1960 के दशक से तकनीकी हस्ताक्षर की खोज चल रही है, जब अमेरिकी खगोलशास्त्री फ्रैंक ड्रेक के 26 मीटर के टेटेल टेलीस्कोप ने आसपास के दो सूर्य जैसे सितारों की ओर इशारा किया और उन्हें प्रौद्योगिकी के संकेतों के लिए स्कैन किया. पिछले कुछ वर्षों में, तकनीकी हस्ताक्षर खोजें कहीं अधिक कठोर और संवेदनशील हो गई हैं. फास्ट पर मौजूद सिस्टम ड्रेक के प्रयोग की तुलना में अरबों गुना अधिक रेडियो स्पेक्ट्रम को संसाधित करने में सक्षम हैं. इन प्रगति के बावजूद, हमें अभी तक पृथ्वी से परे जीवन का कोई प्रमाण नहीं मिला है.

बड़ी मात्रा में डेटा के माध्यम से फास्ट गणना
टेलिस्कोप उच्च-प्रदर्शन वाले कंप्यूटरों के एक समूह में एक सेकंड में 38 अरब नमूनों को फीड करता है, जो आने वाले रेडियो संकेतों के उत्कृष्ट विस्तृत चार्ट तैयार करता है. फिर इन चार्टों को तकनीकी हस्ताक्षरों की तरह दिखने वाले संकेतों के लिए खोजा जाता है.
इतने बड़े संग्रहण क्षेत्र के साथ, फास्ट अविश्वसनीय रूप से धुंधले संकेतों को भी उठा सकता है. यह पार्क्स रेडियो वेधशाला में आॅस्ट्रेलिया के मुरियांग टेलीस्कोप से लगभग 20 गुना अधिक संवेदनशील है. फास्ट आसानी से पास के एक्सोप्लैनेट पर एक ट्रांसमीटर का पता लगा सकता है, जो हमारे यहां पृथ्वी पर मौजूद रडार सिस्टम के समान आउटपुट पावर के साथ होता है.

संवेदनशीलता से परेशानी
इतने संवेदनशील होने के साथ समस्या यह है कि आप रेडियो हस्तक्षेप को उजागर कर सकते हैं जो अन्यथा पता लगाने के लिए बहुत ही कमजोर होगा. हम एसईटीआई शोधकर्ताओं को पहले भी यह समस्या हो चुकी है. पिछले साल, मुरियांग का उपयोग करते हुए, हमने एक अत्यंत दिलचस्प संकेत का पता लगाया जिसे हमने बीएलसी1 कहा. हालांकि, यह बहुत ही अजीब हस्तक्षेप (एलियंस नहीं) निकला. इसकी वास्तविक प्रकृति को उजागर करने के लिए, हमें एक नया सत्यापन ढांचा विकसित करना पड़ा.

बीएलसी1 के साथ, इसे शुरू में रिपोर्ट किए जाने से लेकर सहकर्मी-समीक्षित विश्लेषण प्रकाशित होने में लगभग एक वर्ष का समय लगा. इसी तरह, हमें फास्ट सिग्नल का गहराई से विश्लेषण करने के लिए कुछ समय इंतजार करना पड़ सकता है. चाइना एक्स्ट्राटेरेस्ट्रियल सिविलाइजÞेशन रिसर्च ग्रुप के मुख्य वैज्ञानिक प्रोफेसर झांग टोंगजी ने साइंस एंड टेक्नोलॉजी डेली रिपोर्ट में इसे स्वीकार किया: बहुत संभावना है कि संदिग्ध संकेत किसी प्रकार का रेडियो हस्तक्षेप हो, और इसकी पुष्टि अथवा खंडन की आवश्यकता है. यह एक लंबी प्रक्रिया हो सकती है.

उत्सुक रहें
क्या फास्ट के असाधारण संकेत असाधारण साक्ष्य की जरूरत को पूरा करेंगे? जब तक उनके काम की समीक्षा और प्रकाशन नहीं हो जाता, तब तक यह कहना जल्दबाजी होगी, लेकिन यह उत्साहजनक है कि उनके एसईटीआई खोज एल्गोरिदम को उत्सुक संकेत मिल रहे हैं. फास्ट, ब्रेकथ्रू लिसन पहल और एसईटीआई इंस्टिट्यूट के कॉस्मिक प्रोग्राम के बीच सेटी फील्ड में काफी दिलचस्पी और सक्रियता देखी जा रही है. और यह सिर्फ रेडियो तरंगें नहीं हैं: आॅप्टिकल और इन्फ्रारेड लाइट का उपयोग करके खोज भी चल रही है.
अभी के लिए: उत्सुक रहें, लेकिन बहुत उत्साहित न हों.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button