अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत के साल भर बाद भी सीबीआई जांच जारी

नयी दिल्ली. अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत की सीबीआई जांच अब भी जारी है, जबकि पिछले साल एम्स मेडिकल बोर्ड की रिपोर्ट में इसे आत्महत्या का मामला बताया गया था. जांच में प्रगति के बारे में पूछे जाने पर केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) के अधिकारियों ने बताया कि जांच अब भी जारी है और सभी पहलुओं पर गौर किया जा रहा है.

केंद्रीय जांच एजेंसी ने बिहार पुलिस के हाथों से जांच की जिम्मेदारी अपने हाथों में ली थी. बिहार पुलिस ने सुशांत के पिता की शिकायत पर आत्महत्या के लिए उकसाने का एक मामला दर्ज किया था. सीबीआई ने एक विशेष जांच टीम (एसआईटी) गठित की थी, लेकिन वह बयान दर्ज करने और अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) के डॉक्टरों की एक टीम से फॉरेंसिक रिपोर्ट हासिल करने के अलावा मामले में ज्यादा प्रगति कर पाने में नाकाम रही थी.

टीम का नेतृत्व करने वाले एवं एम्स, दिल्ली के फॉरेंसिक विभाग के प्रमुख डॉक्टर सुधीर गुप्ता ने पिछले साल सितंबर में कहा था, ‘‘यह फांसी और आत्महत्या के चलते हुई मौत का मामला है. हमने अपनी रिपोर्ट सीबीआई को सौंप दी है.’’ इस रिपोर्ट के प्रकाशित होने के बाद, सुशांत के पिता केके ंिसह के वकील विकास ंिसह ने कहा था, ‘‘हम सीबीआई निदेशक से एक नयी फॉरेंसिक टीम गठित करने का अनुरोध करने जा रहे हैं.’’ हालांकि, सीबीआई ने ंिसह की सलाह नहीं मानी.

यह पूछे जाने पर कहा कि क्या वह सीबीआई जांच की प्रगति से संतुष्ट हैं, ंिसह ने पीटीआई-भाषा से फोन पर कहा, ‘‘नहीं, मैं संतुष्ट नहीं हूं. ’’
अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की बरसी पर बॉलीवुड के उनके दोस्तों ने किया उन्हें याद
मुंबई. अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की पहली बरसी पर भूमि पेडनेकर, राजकुमार राव, अभिषेक कपूर, मुकेश छाबड़ा सहित बॉलीवुड की कई हस्तियों ने उन्हें याद किया और श्रद्धांजलि दी.

सुशांत (34) पिछले साल 14 जून को बांद्रा स्थित अपने घर में मृत मिले थे. धारावाहिक ‘पवित्र रिश्ता’ से लोकप्रियता हासिल करने वाले सुशांत ने निर्देशक अभिषेक कपूर की 2013 में आई फिल्म ‘काय पो छे’ से अपने बॉलीवुड करियर की शुरुआत की थी. दोनों ने 2018 में आई फिल्म ‘केदरनाथ’ में भी साथ काम किया था.

निर्देशक कपूर ने कहा कि वह अभी तक सुशांत की मौत को स्वीकार नहीं कर पाए हैं. कपूर ने सोमवार को ट्वीट किया, ‘‘ आज एक साल हो गया…अभी तक स्तब्ध हूं. ओम नम: शिवाय.’’ सुशांत के दोस्त एवं ‘कांिस्टग डायरेक्टर’ छाबड़ा ने कहा, ‘‘ अब कुछ भी पहले जैसा नहीं है. जो खालीपन तुम छोड़ गए थे वह अब भी है. उम्मीद है कि तुमसे फिर मिलूंगा. भाई… तुम्हारी याद आती है.’’ सुशांत की आखिरी फिल्म ‘दिल बेचारा’ का निर्देशन छाबड़ा ने ही किया था.

फिल्म ‘काय पो छे’ में उनके साथ काम करने वाले राज कुमार राव ने सुशांत की एक तस्वीर साझा करते हुए लिखा, ‘‘भाई… .’’ फिल्म ‘दिल बेचारा’ की उसकी सह-कलाकार संजना सांघी ने भी सुशांत के साथ अपनी तस्वीर साझा की और लिखा, ‘‘ हमेशा के लिए एक खालीपन….. तुम्हारी याद आती है.’’

फिल्म ‘सोनचिरैया’ की उनकी सह-कलाकार भूमि पेडनेकर ने भी अभिनेता को याद करते हुए कुछ तस्वीरें सोशल मीडिया पर साझा कीं और लिखा, ‘‘ तारों से लेकर अनजान चीजों तक, तुमने मुझे इस तरह दुनिया दिखाई, जिस तरह मैंने पहले कभी नहीं देखी थी. मेरे प्यारे जिज्ञासु एसएसआर, उम्मीद करती हूं कि तुम्हें तुम्हारा सुकून मिल गया होगा …. ओम शांति.’’

अभिनेता ताहिर राज भसीन ने भी इंस्टाग्राम पर राजपूत की कुछ तस्वीरें साझा करते हुए लिखा, ‘‘ तुम्हारी कभी ना शांत होने वाली जिज्ञासा और बुद्धिमत्ता को याद करते हुए…. बहुत जल्दी चले गए. भगवान करे, तुम हमेशा तारों के बीच बने रहो.’’

अदाकारा एवं ‘पवित्र रिश्ता’ की उनकी सह-कलाकार अंकिता लोखंडे ने भी इंस्टाग्राम पर सुशांत के साथ कई तस्वीरों का एक वीडियो साझा करते हुए लिखा, ‘‘ यह हमारा सफर था. फिर मिलेंगे चलते चलते.’’ अभिनेता पुलकित सम्राट ने राजपूत के निधन को ‘‘एक निजी क्षति’’ बताया.

टीवी जगत से फिल्मी दुनिया तक का सफर तय करने वाले सम्राट ने लिखा कि राजपूत अब भी ‘‘ उन लोगों के लिए एक प्रेरणा हैं जो बड़े सपने देखने का साहस रखते हैं.’’ केन्द्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) राजपूत की मौत के मामले की जांच कर रही है. प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) और स्वापक नियंत्रण ब्यूरो (एनसीबी) मामले से जुड़े धन शोधन और मादक पदार्थ संबंधी मामले की जांच कर रहे हैं.

सुशांत की मौत के एक वर्ष बाद बॉलीवुड के लोगों ने कहा : बहुत कुछ नहीं बदला है
सुशांत ंिसह राजपूत की मौत ने गुटों में बंटे बॉलीवुड का सच दुनिया के सामने बेनकाब कर दिया था, लेकिन उनकी मौत के एक वर्ष बाद भी ज्यादा कुछ नहीं बदला है. यह कहना है बॉलीवुड के लोगों का.

उनका मानना है कि शक्तिशाली ंिहदी फिल्म उद्योग में पक्षपात और गुटबंदी जारी है. फिल्म उद्योग अब भी बाहरी कलाकारों को अपनाने के लिए तैयार नहीं है. इस बारे में बात करने वाले कुछ लोगों ने जहां खुलकर अपने विचार रखे वहीं कुछ ने नाम उजागर नहीं करने का आग्रह किया.

‘‘एम एस धोनी : द अनटोल्ड स्टोरी’’ और ‘‘छिछोरे’’ जैसी फिल्मों से स्टारडम हासिल करने वाले राजपूत पिछले वर्ष 14 जून को बांद्रा स्थित अपने घर में फंदे से झूलते पाए गए थे. 34 वर्षीय अभिनेता की मौत ने मानसिक स्वास्थ्य जैसे मुद्दों की तरफ ध्यान आर्किषत किया था लेकिन फिल्म उद्योग में भाई-भतीजावाद, बाहरी-भीतरी और परेशान करने जैसे मुद्दों पर भी बहस छिड़ गई थी.

निर्माता प्रीतीश नंदी ने ‘पीटीआई-भाषा’ से कहा, ‘‘मुझे नहीं लगता कि काफी कुछ बदला है. अब भी समूह, गिरोह हैं. आप इसे पक्षपात, भाई-भतीजावाद कह सकते हैं.’’ पटना में जन्मे राजपूत की मौत के बाद पक्षपात का मुद्दा एक बार फिर तब जोर पकड़ने लगा है जब करण जौहर की फिल्म ‘‘दोस्ताना 2’’ से कार्तिक आर्यन को बाहर निकाल दिया गया है. साथ ही यह भी खबर है कि आर्यन अब शाहरूख खान प्रोडक्शन की फिल्म ‘‘फ्रेडी’’ का भी हिस्सा नहीं हैं.

ग्वालियर में जन्मे आर्यन ने हालांकि इन मुद्दों पर अभी कुछ नहीं कहा है लेकिन निर्देशक अनुभव सिन्हा ने हाल में कहा था कि आर्यन के खिलाफ अभियान ‘‘संगठित’’ प्रतीत होता है यह ‘‘अनुचित’’ है. राजपूत की 2017 की फिल्म ‘‘राब्ता’’ के लेखकों में शामिल गरिमा बहल ने कहा कि फिल्म सेट पर मानसिक स्वास्थ्य विशेषज्ञ रखे जाने की जरूरत है.

उन्होंने कहा, ‘‘उम्मीद है कि ऐसा होगा और इसके लिए हमें सुशांत को धन्यवाद देना चाहिए. उसके साथ ऐसा नहीं होना चाहिए था.’’ अंतरराष्ट्रीय ऐमी में नामांकित शो ‘‘फोर मोर शॉट्स प्लीज’’ के निर्माता नंदी ने कहा कि अभिनेता की मौत पर काफी राजनीति हुई. उन्होंने कहा, ‘‘सुशांत की मौत से यह स्पष्ट हो गया कि प्रतिभाशाली युवक अपनी जगह तलाशने के लिए जूझ रहा था.’’

हाल के महीने में कई चरित्र अभिनेताओं और टेलीविजन कलाकारों की मौत का जिक्र करते हुए नंदी ने कहा, ‘‘कई टेलीविजन कलाकार कोविड-19 का शिकार बन गए और कई मर रहे हैं क्योंकि उनके पास नौकरियां नहीं हैं और वे तनाव में हैं. इनके लिए कोई रक्षा कवच नहीं है. यह खतरनाक है. कुछ बड़े निर्माता भी पैसों के अभाव में चल बसे…चर्चा में आना और बने रहा भी उतना ही कठिन है.’’

सोशल मीडिया एवं अन्य मीडिया में बॉलीवडु के लिए ‘‘नशेड़ी’’ और अन्य अपमानजनक शब्दों का इस्तेमाल किया गया और राजपूत की मौत की जांच के लिए कई एजेंसियों को लगाया गया. इनमें मुंबई पुलिस, प्रवर्तन निदेशालय, केंद्रीय जांच ब्यूरो और स्वापक नियंत्रण ब्यूरो (एनसीबी) शामिल हैं.

राजपूत की मौत के मामले में करण जौहर, आदित्य चोपड़ा और सलमान खान जैसी बॉलीवुड की हस्तियों का नाम भी सामने आया. दपिका पादुकोण, सारा अली खान और श्रद्धा कपूर जैसी अभिनेत्रियों से एनसीबी ने नशे के एक मामले में पूछताछ की.

राजपूत की पूर्व प्रेमिका अभिनेत्री रिया चक्रवर्ती पर उन्हें आत्महत्या के लिए उकसाने और उनके धन का दुरूपयोग करने का आरोप उनके परिवार के लोगों ने लगाया. राजपूत की मौत की जांच जारी है. बहल और उनके साथ काम करने वाले सिद्धार्थ ंिसह ने कहा कि फिल्म उद्योग में लोग खेल करते हैं और एक-दूसरे को नीचा दिखाते हैं. ंिसह ने कहा, ‘‘यह उद्योग काम करने के लिए कठिन है. पक्षपात है और लोग गुटों में बंटे हुए हैं.’’

रिया ने सुशांत को याद किया, कहा : इस खालीपन को नहीं भरा जा सकता
अभिनेता सुशांत ंिसह राजपूत को उनकी पहली पुण्यतिथि पर याद करते हुए उनकी पूर्व प्रेमिका और अभिनेत्री रिया चक्रवर्ती ने सोमवार को कहा कि उन्हें अब तक भरोसा नहीं हुआ कि सुशांत अब इस दुनिया में नहीं हैं.

रिया ने सोमवार को इंस्टाग्राम पर एक भावनात्मक पोस्ट में कहा, ‘‘ ऐसा कोई क्षण नहीं है, जब मुझे लगा कि अब आप इस दुनिया में नहीं हैं. वे लोग कहते हैं कि समय हर घाव को भर देता है लेकिन आप मेरा समय और मेरा सब कुछ थे. मुझे पता है कि अब आप मेरे अभिभावक देवदूत हैं – मुझे चांद से अपनी दूरबीन से देख रहे हैं और मेरी रक्षा कर रहे हैं.” अट्ठाइस वर्षीय रिया ने सुशांत के साथ अपनी एक तस्वीर भी साझा की है. सुशांत की खगोल विज्ञान में भी गहरी रुचि थी.

रिया ने कहा, ‘‘आपके बिना कोई जीवन नहीं है, आप इसका अर्थ अपने साथ ले गए. इस खालीपन को नहीं भरा जा सकता है .. आपके बिना, मैं अब भी खड़ी हूं ….” उन्होंने आगे लिखा कि जब भी उन्हें सुशांत की अनुपस्थिति का एहसास होता है तो उनकी भावनाएं उमड़ने लगती हैं.

उन्होंने कहा, “मुझे ले जाने के लिये मैं हर रोज आपके आने का इंतजार करती हूं, मैं हर जगह आपको खोजती हूं – मुझे पता है कि आप यहां मेरे साथ हैं … मुझे आपकी बहुत याद आती है, मेरे सबसे अच्छे दोस्त, मेरे प्यार ….’’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close