ईंधन की कीमतें संप्रग सरकार के समय के स्तर पर लायी जाएं, ‘लूट’ बंद हो: कांग्रेस

नयी दिल्ली.  कांग्रेस ने पेट्रोल, डीजल एवं रसोई गैस की कीमतों में बढ़ोतरी को लेकर मंगलवार को सरकार पर निशाना साधा और कहा कि ‘लूट’ बंद करके इन पेट्रोलियम उत्पादों के दाम संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) सरकार के समय के स्तर पर लाये जाएं.
पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने सरकार पर तंज कसते हुए कहा कि अब ईंधन के दाम पर लगा ‘लॉकडाउन’ हट गया है तथा सरकार कीमतों का लगातार ‘विकास’ करेगी.

उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘गैस, डीजÞल और पेट्रोल के दामों पर लगा ‘लॉकडाउन’ हट गया है. अब सरकार लगातार कÞीमतों का ‘विकास’ करेगी. महंगाई की महामारी के बारे में प्रधानमंत्री जी से पूछिए, तो वह कहेंगे कि थाली बजाओ.’’ राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘मोदी सरकार ने एक बार फिर अपनी गरीब विरोधी नीति जाहिर कर दी है. ये लोग (सरकार) पेट्रोल और डीजल के दाम 80 पैसे बढ़ाकर आज जनता से 10 हजार करोड़ रुपये लेकर अपनी जेब में डाल रहे हैं.’’

उन्होंने दावा किया, ‘‘एलपीजी की कीमत भी प्रति सिलेंडर 50 रुपये बढ़ गई है. केरोसीन की कीमत भी बढ़ा दी है. यानी गरीबों के लिये जो जरूरी होता है, उन आवश्यक चीजों के दाम बढ़ा दिए गए हैं. पेट्रोल, डीजल और रसोई गैस पर उत्पाद शुल्क बढ़ाकर खूब लूटा जा रहा है.’’ लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने कहा, ‘‘पांच राज्यों के चुनाव से पहले ये अंदेशा जताया गया था कि चुनाव के नतीजे आते ही पेट्रोल, डीजल, रसोई गैस, केरोसीन के दाम में बेतहाशा हिजाफा होगा. आज मोदी सरकार ने हमारी आशंका को सही साबित किया.’’

उन्होंने आरोप लगाया, ‘‘जब हमारे देश में ईपीएफ पर ब्याज की दर को 8.6 से घटाकर 8.1 प्रतिशत किया जा रहा है, तब गरीबों को लूटने के लिए मोदी सरकार बिल्कुल नहीं हिचक रही है और इसी बहाने से 26 लाख करोड़ रुपये कमाने के सारे इंतजाम कर चुकी है.’’ कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने संप्रग सरकार के समय पेट्रोलियम उत्पादों की कीमतों और इनकी मौजूदा कीमतों के बीच तुलना करते हुए कहा कि चुनाव खत्म होते ही जनता से ‘लूट’ शुरू हो गयी है.

उन्होंने सरकार पर कटाक्ष करते हुए कहा, “लोग कह रहे हैं, कोई लौटा दे वो सच्चे-सस्ते दिन, नहीं चाहिए (नरेंद्र) मोदी जी के अच्छे दिन.” सुरजेवाला ने एक ट्वीट में कहा, ‘‘भाजपा की जीत के साथ मोदी जी के ‘‘महंगे दिन’’ वापस आ गए हैं. भाजपा को जीत का आराम मिलते ही फÞरि महंगाई ने जनता का जीना हराम कर दिया है. उत्तर प्रदेश में अमित शाह जी ने कहा था कि चुनाव जिताओ और होली पर मुफ्Þत गैस सिलेंडर पाओ. मुफ्Þत तो दिए नहीं, अब महंगे दे रहे हैं.’’ उन्होंने कहा कि सरकार को ‘लूट’ बंद करके पेट्रोलियम उत्पादों की कीमतें संप्रग सरकार के समय के बराबर लानी चाहिए.

पेट्रोल और डीजल की कीमतों में मंगलवार को 80 पैसे प्रति लीटर की वृद्धि की गई. वहीं घरेलू रसोई गैस के दाम 50 रुपये प्रति सिलेंडर बढ़ गए हैं. मूल्यवृद्धि के बाद, दिल्ली में अब पेट्रोल की कीमत 96.21 रुपये प्रति लीटर होगी, जो पहले 95.41 रुपये थी, जबकि डीजल की कीमत 86.67 रुपये प्रति लीटर से बढ़कर 87.47 रुपये हो गई है. इसके साथ ही राष्ट्रीय राजधानी में बिना सब्सिडी वाले, 14.2 किलोग्राम के रसोई गैस सिलेंडर की कीमत बढ़ाकर 949.50 रुपये कर दी गई है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button