शाकाहारी आहार लेने से कोविड-19 से गंभीर रूप से पीड़ित होने का खतरा रहता है कम

वाशिंगटन. छह देशों में किये गए एक सर्वेक्षण में कहा गया है कि शाकाहारी और मछली आधारित आहार का सेवन करने वाले लोगों के लिए कोविड-19 महामारी से गंभीर रूप से पीड़ित होने का खतरा कम रहता है.

अध्ययनकर्ताओं के अनुसार यह सर्वेक्षण अनुमान आधारित है और निश्चित तौर पर आहार और कोविड-19 स्तर के बीच संबंध को स्थापित नहीं करता तथा निष्कर्षों की व्याख्या करने में सावधानी बरते जाने की आवश्यकता है.

मंगलवार को ‘बीएमजी न्यूट्रीशियन प्रिवेंशन एंड हेल्थ’ पत्रिका में प्रकाशित सर्वेक्षण के निष्कर्षों से संकेत मिलता है कि शाकाहारी भोजन कोविड-19 से गंभीर रूप से पीड़ित होने के खतरे को 73 प्रतिशत तक जबकि मछली आधारित आहार 59 प्रतिशत तक कम कर सकता है.

इससे पहले भी विभिन्न अध्ययनों में यह बात कही गई है कि कोविड-19 के लक्षणों की गंभीरता और बीमारी की अवधि में आहार की महत्वपूर्ण भूमिका हो सकती है. हालांकि इस सिद्धांत की पुष्टि करने या इसे नकारने के लिये साक्ष्य बहुत कम हैं.

इस नए सर्वेक्षण में जॉन हॉपंिकस ब्लूमबर्ग स्कूल आॅफ पब्लिक हेल्थ, अमेरिका के अध्ययनकर्ता शामिल थे. अध्ययनकर्ताओं ने इस दौरान सार्स-सीओवी-2 से गंभीर रूप से पीड़ित रहे अग्रिम मोर्चे पर तैनात उन 2,884 डॉक्टरों और नर्सों की प्रतिक्रिया जानी थी जो फ्रांस, जर्मनी, इटली, स्पेन, ब्रिटेन और अमेरिका में काम कर रहे हैं. जुलाई से सितंबर 2020 के बीच किये गए इस आॅनलाइन सर्वेक्षण में शामिल लोगों से पिछले साल उनके खानपान के बारे में विस्तृत जानकारी मांगी गई थी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close