इजराइल के गृह मंत्री ने 4,000 लोगों के लिए बस्ती निर्माण की योजना बनाई

यरुशलम. इजराइल के गृह मंत्री ने कहा कि उनका देश वेस्ट बैंक में 4,000 लोगों के लिए बस्ती निर्माण की योजना को आगे बढ़ाने के लिए तैयार है । हालांकि इसके बाद फलस्तीनी प्राधिकरण ने इजराइल को ‘‘गंभीर परिणाम’’ भुगतने की चेतावनी दी है। अगर इस योजना को मंजूरी मिल जाती है, तो यह जो बाइडन प्रशासन के पदभार संभालने के बाद से बस्ती निर्माण योजनाओं की दिशा में सबसे बड़ी प्रगति होगी। व्हाइट हाउस बस्तियों के विकास का विरोध करता है क्योंकि इससे इजराइल-फलस्तीनी संघर्ष को लेकर दो-राष्ट्र समाधान की संभावना और कमजोर पड़ जाएगी।

बस्तियों के धुर समर्थक गृह मंत्री आयलेत शेक ने शुक्रवार को ट्वीट किया कि वेस्ट बैंक में 4,000 मकानों के निर्माण को मंजूरी देने के लिए अगले सप्ताह योजना समिति की एक बैठक बुलाई जाएगी। शेक ने इसे ‘‘बुनियादी और आवश्यक’’ बताया। फलस्तीन के राष्ट्रपति महमूद अब्बास के प्रवक्ता नबील अबू आरडेनेह ने कहा कि योजना को मंजूरी मिलने से पहले से ही तनावग्रस्त वेस्ट बैंक में ‘‘और गंभीर परिणाम’’ होंगे। हालांकि, उन्होंने यह नहीं बताया कि वे परिणाम क्या हो सकते हैं। फलस्तीनी प्राधिकरण के पास बस्ती निर्माण या किसी अन्य इजराइली कदम को रोकने का कोई तरीका नहीं है।

इजराइल के हारेत्ज अखबार ने बताया कि नागरिक प्रशासन बृहस्पतिवार को 1,452 मकानों के निर्माण कार्य को आगे बढ़ाने के लिए बैठक करेगा और अन्य 2,536 मकानों के लिए रक्षा मंत्री बेनी गैंट्ज मंजूरी देंगे। रक्षा मंत्रालय ने कब्जे वाले वेस्ट बैंक में नागरिक मामलों के प्रभारी सैन्य निकाय सीओजीएटी को प्रश्न भेजे। सीओजीएटी ने टिप्पणी के अनुरोधों का तुरंत जवाब नहीं दिया।

अमेरिका में विदेश विभाग की प्रवक्ता जेलिना पोर्टर ने संवाददाताओं से कहा कि बाइडन प्रशासन वेस्ट बैंक में बस्ती विस्तार पर शुरू से ही स्पष्ट रहा है। उन्होंने कहा, ‘‘हम बस्तियों के विस्तार का कड़ा विरोध करते हैं जो तनाव को बढ़ाता है और संबंधित पक्षों के बीच विश्वास को कम करता है। इजराइल के बस्तियों के विस्तार के कार्यक्रम ने दो-राष्ट्र समाधान की संभावनाओं को गहरा नुकसान पहुंचाया है।’’ 1967 के मध्यपूर्व युद्ध में इजराइल ने वेस्ट बैंक पर कब्जा कर लिया और पूरे क्षेत्र में 130 से अधिक बस्तियों का निर्माण किया। इजराइल के सैन्य शासन के तहत वेस्ट बैंक में लगभग 30 लाख फलस्तीनी रहते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button