हिमाचल प्रदेश विधानसभा के प्रवेश द्वार पर लटके मिले खालिस्तान के झंडे

धर्मशाला/चंडीगढ़/नयी दिल्ली. हिमाचल प्रदेश विधानसभा के मुख्य द्वार पर खालिस्तान के झंडे लटकाए जाने और इसकी दीवारों पर कुछ आपत्तिजनक नारे लिखे जाने का मामला सामने आया है. पुलिस ने घटना की जांच शुरू कर दी है. विधानसभा परिसर के मुख्य गेट नंबर एक की बाहरी तरफ ये झंडे लटके मिले जिन्हें अब प्रशासन ने हटा दिया है.

कांगड़ा के पुलिस अधीक्षक कुशल शर्मा ने कहा, ‘‘यह घटना संभवत: देर रात या आज सुबह-सुबह हुई होगी. हमने विधानसभा गेट से खालिस्तानी झंडे हटा दिए हैं. हम इसकी जांच कर रहे हैं और इस संबंध में मामला दर्ज करने जा रहे हैं.” धर्मशाला की उपजिलाधिकारी शिल्पी ब्रेकता ने कहा, “हमें आज सुबह करीब साढ़े सात बजे यह सूचना मिली. हमने झंडे हटा दिए हैं और दीवारों को फिर से रंगा गया है. हम मामले की जांच कर रहे हैं और संबंधित धाराओं के तहत मामला दर्ज करने जा रहे हैं. यह हमारे लिए बेहद सतर्क होने का समय है.”

स्थानीय विधायक विशाल नेहरिया ने इस घटना को घिनौना और रात के अंधेरे में किया गया कायरतापूर्ण कृत्य करार दिया.
विधायक ने कहा, “हम हिमाचल प्रदेश के लोग और सभी भारतीय तथाकथित खालिस्तान के समर्थकों की किसी भी धमकी से नहीं डरते.” कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव सुधीर शर्मा ने भी इस घटना को दुर्भाग्यपूर्ण बताया है.

उन्होंने कहा, ‘‘धर्मशाला विधानसभा के प्रवेश द्वार पर खालिस्तान के झंडे व दीवारों पर नारे लिखे जाना जहां दुर्भाग्यपूर्ण है, वहीं उस जगह पर सीसीटीवी का काम न करना और न ही सुरक्षार्किमयों का होना प्रशाशन तथा सुरक्षा एजेंसियों पर भी सवालिया निशान उठाता है. हाल ही में पंजाब और हिमाचल में इस तरह का वातावरण बनाने की जो कोशिश की गई है वह चिंता का विषय है. देश की अखंडता के लिए हम हिमाचलवासी अपनी जान तक दे देंगे पर ऐसी ताकतों को पनपने नहीं देंगे. जय हिंद.’’

अमरिंदर सिंह ने हिमाचल विधानसभा के गेट पर खालिस्तान के झंडे लटकाए जाने की निंदा की

पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने धर्मशाला में हिमाचल प्रदेश विधानसभा के गेट पर खालिस्तान के झंडे लटकाए जाने की घटना की कड़ी निंदा करते हुए इसमें शामिल लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की है. सिंह ने कहा कि कुछ असामाजिक तत्व ऐसे कृत्यों के जरिए देश में शांति और भाईचारे के माहौल को बिगाड़ने की कोशिश कर रहे हैं.

अमरिंदर सिंह ने ट्वीट किया, “हिमाचल प्रदेश विधानसभा के गेट पर खालिस्तान के झंडे लगाने के कृत्य की कड़ी निंदा करता हूं. यह हाशिए पर खड़े उन असामाजिक तत्वों का कृत्य है जो हमारे देश की शांति और भाईचारे को भंग करने की कोशिश कर रहे हैं, जिसे कतई बर्दाश्त नहीं किया जाएगा. मैं हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री कार्यालय से इसमें शामिल लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने का आग्रह करता हूं.”

हिमाचल विधानसभा के बाहर खालिस्तानी झंडे मिलने के मामले में आप ने भाजपा पर साधा निशाना

हिमाचल प्रदेश विधानसभा के मुख्य द्वार पर खालिस्तान के झंडे मिलने के मामले में आम आदमी पार्टी (आप) ने रविवार को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पर राष्ट्रीय सुरक्षा के मुद्दे पर विफल रहने का आरोप लगाया. दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने भाजपा पर निशाना साधते हुए ट्वीट किया, ‘‘पूरी भाजपा एक गुंडे को बचाने में लगी है और उधर खालिस्तानी झंडे लगाकर चले गए. जो सरकार विधानसभा ना बचा पाए, वो जनता को कैसे बचाएगी. ये हिमाचल की आबरू का मामला है, देश की सुरक्षा का मामला है. भाजपा सरकार पूरी तरह विफल हो गयी है.‘‘

वह संभवत: दिल्ली भाजपा नेता तेजिंदर पाल सिंह बग्गा के लिए ऐसा कह रहे थे जिन्हें शुक्रवार को पंजाब पुलिस के एक दल ने मोहाली में दर्ज एक मामले में उनके दिल्ली स्थित आवास से गिरफ्तार किया था. सिसोदिया ने कहा कि धर्मशाला में हिमाचल विधानसभा भवन के गेट के बाहर खालिस्तान के झंडे लगे होना भाजपा सरकार के राष्ट्रीय सुरक्षा से संबंधित मामलों से निपटने और राज्य के लोगों के सम्मान को बनाए रखने में पूर्ण रूप से विफल होने का प्रमाण है. हिमाचल प्रदेश विधानसभा के मुख्य द्वार पर खालिस्तान के झंडे लगाए गए थे और इसकी दीवारों पर कुछ आपत्तिजनक नारे भी लिखे गए थे. प्रशासन ने इन झंडों को हटा लिया है और दीवारों को दोबारा रंगा गया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button