उत्तर कोरिया ने पनडुब्बी से दागी जाने वाली मिसाइल का परीक्षण किया : दक्षिण कोरिया

सियोल. दक्षिण कोरिया की सेना ने दावा किया कि उत्तर कोरिया ने पनडुब्बी से दागी जाने वाली एक संदिग्ध बैलिस्टिक मिसाइल का शनिवार को परीक्षण किया. इस हफ्ते में यह उत्तर कोरिया का दूसरा परीक्षण है तथा इससे संकेत मिलते हैं कि वह आने वाले समय में परमाणु परीक्षण कर सकता है.

दक्षिण कोरिया के ज्वाइंट चीफ्स आॅफ स्टाफ ने कहा कि सिन्पो शहर के पूर्वी बंदरगाह के समीप समुद्र से यह परीक्षण किया गया, जहां उत्तर कोरिया का पनडुब्बियों का निर्माण करने वाला एक बड़ा शिपयार्ड है. उन्होंने बताया कि छोटी दूरी की इस मिसाइल ने 60 किलोमीटर की अधिकतम ऊंचाई पर 600 किलोमीटर की दूरी तय की लेकिन उन्होंने पनडुब्बी की जानकारियां नहीं दीं.

सेना ने बताया कि दक्षिण कोरिया और अमेरिका के खुफिया अधिकारी परीक्षण का आकलन कर रहे हैं. उसने इसे संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्तावों का स्पष्ट उल्लंघन और ‘‘गंभीर उकसावे वाला कृत्य बताया जो अंतरराष्ट्रीय शांति एवं स्थिरता को नुकसान पहुंचाता है.’’ जापान के प्रधानमंत्री फुमियो किशिदा ने अधिकारियों को सभी ‘‘अप्रत्याशित स्थितियों’’ के लिए तैयार रहने और विमानों तथा जहाजों को सुरक्षित रखने का आदेश दिया है.

दक्षिण कोरिया के राष्ट्रीय सुरक्षा निदेशक सुह हून और अन्य वरिष्ठ अधिकारियों ने राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद की आपात बैठक में इस परीक्षण की ंिनदा की और उत्तर कोरिया से परमाणु गतिरोध कम करने के उद्देश्य से लंबे समय से बाधित वार्ता बहाल करने का अनुरोध किया.

यह उत्तर कोरिया का पिछले साल अक्टूबर के बाद से पनडुब्बी से दागी जाने वाली मिसाइल प्रणाली का पहला परीक्षण है. पिछले साल अक्टूबर में उसने छोटी दूरी की एक नयी मिसाइल का परीक्षण किया था. इससे तीन दिन पहले दक्षिण कोरिया और जापान की सेनाओं ने बताया था कि उत्तर कोरिया ने बुधवार को अपनी राजधानी प्योंगयांग से एक संदिग्ध बैलिस्टिक मिसाइल दागी थी. यह ताजा परीक्षण उत्तर कोरिया का इस साल का 15वां मिसाइल परीक्षण हो सकता है. ऐसे भी संकेत मिले हैं कि उत्तर कोरिया एक परमाणु परीक्षण स्थल पर सुरंगों को नए सिरे से तैयार कर रहा है, जिससे यह आशंका जताई जा रही है कि वह परमाणु हथियारों का परीक्षण कर सकता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button