ईंधन की कीमतों में वृद्धि के मुद्दे पर विपक्षी सदस्यों ने लोकसभा से बहिर्गमन किया

नयी दिल्ली. कांग्रेस समेत कई विपक्षी दलों के सदस्यों ने पेट्रोल, डीजल और रसोई गैस की कीमतों में वृद्धि को लेकर बुधवार को लोकसभा में चर्चा की मांग करते हुए हंगामा किया और बहिर्गमन किया। सदन में शून्यकाल आरंभ होने के साथ ही कई विपक्षी सदस्य नारेबाजी करते हुए आसन के निकट पहुंच गए। कुछ सदस्यों ने हाथों में तख्तियां ले रखी थीं जिन पर लिखा हुआ था कि ‘पेट्रोल-डीजल पर कर घटाया जाए।’

हंगामे के बीच, संसदीय कार्य मंत्री प्र‘‘ाद जोशी ने कहा कि सदन में यूक्रेन की स्थिति पर चर्चा हो रही है। उन्होंने कहा कि चर्चा में हस्तक्षेप करते हुए पेट्रोलियम मंत्री हरदीप पुरी ने पूरा जवाब दे दिया है। जोशी ने कहा, ‘‘क्या ये लोग (विपक्ष) चर्चा नहीं चाहते हैं? आप लोगों से अपील है कि विदेश मंत्री को जवाब देने दीजिए।’’

कुछ देर तक नारेबाजी करने के बाद विपक्षी सदस्य सदन से बाहर चले गए। शून्यकाल के बाद विदेश मंत्री एस जयशंकर ने यूक्रेन की स्थिति पर चर्चा में हस्तक्षेप किया। बाद में कांग्रेस सांसद मणिकम टैगोर ने ट्वीट कर कहा कि कांग्रेस, द्रमुक, तृणमूल कांग्रेस, शिवसेना, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी, नेशनल कॉन्फ्रेंस, झारखंड मुक्ति मोर्चा, आईयूएमएल, वीसीके, भाकपा, माकपा और केरल कांग्रेस (एम) के सदस्य ईंधन की कीमतों पर चर्चा चाहते थे।

उन्होंने कहा, ‘‘यह अहंकारी सरकार चर्चा के लिए तैयार नहीं हुई। ऐसे में हमने आसन के निकट पहुंचकर विरोध किया और फिर सदन से बाहर चले गए।’’ पेट्रोल और डीजल की कीमतों में एक बार फिर बुधवार को 80 पैसे प्रति लीटर की बढ़ोतरी की गई। बीते 16 दिन में इनके दाम में कुल दस रुपये प्रति लीटर की वृद्धि की जा चुकी है।

सरकारी ईंधन कंपनियों की ओर से जारी मूल्य संबंधी अधिसूचना के मुताबिक, दिल्ली में पेट्रोल की कीमत पहले के 104.61 रुपये के मुकाबले अब 105.41 रुपये प्रति लीटर हो गई है, जबकि डीजल के दाम 95.87 रुपये से बढ़ाकर 96.67 रुपये प्रति लीटर कर दिए गए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button