पाकिस्तान : ‘‘ झूठी शान’’ के नाम पर दो बहनों की हत्या मामले में छह गिरफ्तार

लाहौर/ह्यूस्टन. पाकिस्तान में पुलिस ने पाकिस्तानी मूल की दो स्पैनिश बहनों की कथित रूप से ‘‘झूठी शान’’ के नाम पर की गई हत्या के मामले में रविवार को पंजाब सूबे से छह लोगों को गिरफ्तार किया. उल्लेखनीय है कि अपने पतियों को स्पेन ले जाने से इंकार करने पर गुजरात जिले के नाथिया गांव में 24 वर्षीय अरुज अब्बास और 21 वर्षीय अनीसा अब्बास की यातना देने के बाद गोली मारकर हत्या कर दी गई थी.

गुजरात जिले के जिला पुलिस अधिकारी (डीपीओ) अताउर रहमान ने बताया कि दोनों बहनों की हत्या कथित तौर पर उनके भाई और मामा ने की थी क्योंकि उन्होंने परिवार में ही हुई जबरन शादी को मानने से इंकार कर दिया था. पुलिस ने बताया कि दोनों बहने अपने पाकिस्तानी पतियों से अलग होना चाहती थीं जो उनके रिश्ते में भाई भी लगते हैं. उन्होंने बताया कि दोनों लड़कियों को जबरन स्पेन से गुजरात बुलाया गया और शुक्रवार रात को उनका गला दबाकर और गोली मारकर हत्या कर दी गई.

द एक्सप्रेस ट्रिब्यून अखबार में रविवार को प्रकाशित खबर के मुताबिक गिरफ्तार लोगों में शहरयार (भाई), मुहम्मद हनीफ (मामा), कासिद अतीक, हसन और अस्फंदयार शामिल हैं. खबर में पाकिस्तान पुलिस के प्रवक्ता के हवाले से बताया गया कि मामले में प्राथमिकी दर्ज कर ली गई है और सभी पहलुओं से जांच की जा रही है. खबर के मुताबिक दोनों बहनों के पास स्पेन की नागरिकता थी और 19 मई को वे अपनी मां अजरा बीबी के साथ स्पेन से पाकिस्तान आई थीं. दोनों बहनों की गोली मारकर हत्या 20 मई को उनके मामा हनीफ उर्फ गोगा के घर में की गई.

पुलिस ने सहायक उपनिरीक्षक यासिर नदीम की शिकायत पर सात संदिग्धों और दो अज्ञात लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की है.
गुजरात पुलिस के प्रवक्ता नोमान हसन ने कहा, ‘‘परिवार ने दोनों बहनों को कुछ दिनों के लिए पाकिस्तान आने के लिए मनाया था.’’ द ट्रिब्यून एक्सप्रेस ने एक अन्य खबर में हसन के हवाले से कहा, ‘‘शुरुआती जांच से प्रतीत होता है कि यह इज्जत के नाम पर की गई हत्या है लेकिन मामला आगे बढ़ रहा है और जांच चल रही है.’’ डीपीओ रहमान ने कहा कि दोनों बहनों की शादी एक साल पहले हुई थी और वे अब अपने-अपने पति से तलाक चाहती थीं. उन्होंने बताया कि दोनों स्पेन में किसी और से शादी करना चाहती थीं और धोखे से उन्हें उनकी मां के साथ घर बुलाया गया.

पुलिस अधिकारी ने बताया कि जब दोनों बहनों ने उनके पतियों को स्पेन ले जाने के दस्तावेज पर हस्ताक्षर करने से इंकार कर दिया और तलाक की मांग की, तब बहस हुई और उसके बाद दोनों बहनों की हत्या कर दी गई. पीड़ितों की मां अजरा बीबी ने कहा कि उन्होंने अपनी बेटियों को बचाने की कोशिश की लेकिन उन्हें अलग कमरे में बंद कर दिया गया.

खबर के मुताबिक पाकिस्तान में मौजूद स्पेन के दूतावास से शनिवार को प्रतिक्रिया के लिए संपर्क नहीं हो सका. पाकिस्तान में ‘झूठी शान’के नाम पर नियमित तौर पर हत्याओं के मामले आते रहते हैं खासतौर पर उत्तर और पश्चिम के कबायली इलाकों से. पाकिस्तान के मानवाधिकार आयोग के मुताबिक पिछले साल 450 से अधिक झूठी शान के नाम पर हत्याओं के मामले आए.

अमेरिका में पाकिस्तानी मूल के व्यक्ति ने पत्नी, बेटी और सास की हत्या की
अमेरिका के टेक्सास प्रांत में पाकिस्तानी मूल के एक व्यक्ति ने अपनी पत्नी, चार साल की बेटी और सास की गोली मारकर हत्या कर दी. पुलिस और मीडिया रिपोर्ट में इस घटना की जानकारी मिली है. हैरिस काउंटी शेरिफ एड गोंजालेज ने कहा कि बृहस्पतिवार को तड़के गोलियां चलने की सूचना मिलने के बाद कानून प्रवर्तन अधिकारी चैंपियन वन क्षेत्र में ंिवटेज पार्क अपार्टमेंट परिसर में दाखिल हुए और वहां चार लोगों को एक मकान के अंदर मृत पाया. उन्होंने कहा कि व्यक्ति के शव के पास एक अर्ध-स्वचालित बन्दूक मिली थी.

एड गोंजालेज ने एक ट्वीट में कहा, ‘‘ ऐसा प्रतीत होता है कि व्यक्ति अलग रह रही अपनी पत्नी के घर गया था. उसके बाद उसने वहां जाकर अपनी पत्नी, चार साल की बेटी और सास की गोली मार कर हत्या कर दी. इसके बाद उसने खुद को भी गोली मार ली. घटनास्थल पर चार शव मिले और वहां से एक पिस्तौल भी बरामद की गयी है. यह परिवार मूल रूप से दक्षिण एशिया से संबंधित था.’’ एड गोंजालेज के मुताबिक उनका तलाक होने वाला था और दोनों पति-पत्नी अलग-अलग रहते थे.

स्थानीय पुलिस ने अभी तक उनके नामों का खुलासा नहीं किया है लेकिन, उनके अंतिम संस्कार की व्यवस्था करने वाले इस्लामिक सोसाइटी आॅफ ग्रेटर ह्यूस्टन के मुताबिक मृतकों की पहचान सादिया मंजूर, उनकी बेटी खदीजा मोहम्मद और मां इनायत बीबी के रूप में की है. उस व्यक्ति की पहचान मोहम्मद के रूप में की गयी है. सादिया ह्यूस्टन पीस एकेडमी में शिक्षिका थीं.
इस्लामिक सोसाइटी आॅफ ग्रेटर ह्यूस्टन के कब्रिस्तान में उन्हें दफन किया गया.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button