पाकिस्तान प्रायोजित आतंकवाद ने जम्मू-कश्मीर के हर नागरिक को नुकसान पहुंचाया: गुलाम नबी आजाद

जम्मू. फिल्म ”द कश्मीर फाइल्स” का संदर्भ देते हुए कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने रविवार को कहा कि तीन दशक से भी लंबे पाकिस्तान-प्रायोजित आंतकवाद ने जम्मू एवं कश्मीर के हर नागरिक को प्रभावित किया. उन्होंने कहा कि आतंकवाद को किसी विशेष धर्म से जोड़ना बिल्कुल गलत है.

घाटी में 1990 के दौरान कश्मीरी पंडितों के पलायन पर आधारित फिल्म ”द कश्मीर फाइल्स” के रिलीज होने के बाद से इसे लेकर जनता के ध्रुवीकृत विचार सामने आने के साथ ही सिनेमा हॉल में सांप्रदायिक नारेबाजी की घटनाएं भी सामने आयी हैं. पद्म भूषण पुरस्कार प्राप्त करने के लिए आजाद के सम्मान में जम्मू सिविल सोसायटी द्वारा आयोजित समारोह को संबोधित करते हुए कांग्रेस नेता ने कहा, ”पाकिस्तान-प्रायोजित आतंकवाद मौत और बर्बादी लाया और यही सभी बुरी चीजों के लिए जिम्मेदार है.”

उन्होंने कहा, ” कई लोगों की जान चली गई, हजारों महिलाएं विधवा हुईं और लाखों बच्चे अनाथ हुए, उन्होंने सभी को निशाना बनाया, चाहे वो मुस्लिम, हिंदू या पंडित हो और यहां तक कि धार्मिक स्थलों को भी नहीं बख्शा.” आजाद ने आरोप लगाया कि समाज में 90 फीसदी बुरी चीजों के लिए राजनेता जिम्मेदार हैं जोकि अपने वोट बैंक के लिए जनता को बांटते हैं. साथ ही उन्होंने संदेह जताया कि कोई राजनीति इसमें बदलाव ला सकती है या नहीं?

कांग्रेस नेता ने कहा, ” जम्मू ही केवल एकमात्र स्थान है, जहां जम्मू-कश्मीर के सभी 22 जिलों के और लद्दाख के लोग रह रहे हैं.” महात्मा गांधी को याद करते हुए आजाद ने कहा, ” एक धर्म का सच्चा अनुयायी गांधी जैसा सबसे बड़ा धर्मनिरपेक्ष होता है जबकि एक बनावटी अनुयायी बहुत खतरनाक है.”

भाजपा देश को एक और विभाजन की ओर ले जा रही : महबूबा

पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ने रविवार को भाजपा पर आरोप लगाया कि वह लोगों को धर्म के आधार पर बांट कर देश को एक और विभाजन की ओर ले जा रही है. जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री ने यह आरोप लगाने के साथ देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू की उनकी ‘‘धर्मनिरपेक्षता’ को लेकर विश्वसनीयता और भारत को विकास और समृद्धि की राह पर ले जाने के लिए प्रशंसा की.

महबूबा ने आरएसपुरा में पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘(पाकिस्तान के संस्थापक मोहम्मद अली) जिन्ना ने इतिहास में इस देश का विभाजन किया लेकिन आज एक बार फिर देश को सांप्रदायिक आधार पर बांटने के लिए हर कोशिश की जा रही है. ये लोग (भाजपा) एक और विभाजन चाहते हैं.’’ पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की हत्या नाथू राम गोडसे ने की ‘‘और उसकी विचारधारा का अनुपालन आज गोडसे के सैकड़ों और हजारों अनुयायी कर रहे हैं.’’ उन्होंने कहा कि लोगों को भाजपा और अन्य फासीवादी ताकतों के ‘नापाक मंसूबो’ से मिलकर लड़ना होगा.

महबूबा ने कहा, ‘‘अगर हम इस धार्मिक विभाजन को होने देंगे तो भगत ंिसह जैसे स्वतंत्रता सेनानियों का बलिदान बेकार चला जाएगा. इसलिए एक बार फिर गांधी को मरने नहीं दें.’’उन्होंने कहा कहा, ‘‘ उनकी पार्टी गांधीवादी विचारधारा को मरने नहीं देगी.’’ महबूबा ने दावा किया कि भाजपा को कश्मीर में कोई जगह नहीं मिलेगी. उन्होंने दावा किया कि केवल भाड़े के एजेंट वहां पार्टी का झंडा उठा रहे हैं जबकि जम्मू में ‘सांप्रदायिक ताकतों से’ मुकाबला करने के लिए खड़ा होना अनिवार्य है.

उन्होंने कहा कि जम्मू सभी धर्मों का घर है और इस शहर ने पूरे जम्मू-कश्मीर के लोगों को उनकी धार्मिक अस्था से परे जाकर स्वीकार किया है. महबूबा ने कहा, ‘‘अनुच्छेद 370 को हटाने का सबसे अधिक नुकसान जम्मू को हुआ. न केवल कारोबार और अर्थव्यवस्था बल्कि जम्मू और यहां के लोगों की सांस्कृतिक पहचान दांव पर है. ’’ उन्होंने दावा किया कि खराब हालात की वजह से कश्मीर कोई नहीं आ रहा है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button